Astro Gyaan|Astrology Tips|Featured

Vrishchik Rashifal September 2022 in Hindi | वृश्चिक राशिफल सितंबर 2022 | Nidhi Ji Shrimali

F6CPLCMQeeA HD min | Panditnmshrimali

Vrishchik Rashifal September 2022


This image has an empty alt attribute; its file name is vrishik-rashi-scorpio-300x267.png

 

नमस्कार स्वागतम् वेलकम हम एक बार फिर से आप सभी के सामने उपस्थित हुए हैं सितंबर माह का वृश्चिक राशि वालों का मासिक राशिफल लेकर | सबसे पहले सितंबर माह में आने वाले कुछ विशेष व्रत और त्योहारों के बारे में जान लेते हैं तो 1 सितंबर को ऋषि पंचमी का पर्व मनाया जाएगा और आप सभी को ये सूचित करते हुए हमें बहुत ही हर्ष का अनुभव हो रहा है कि 3 सितंबर से लेकर 18 सितम्बर तक मां लक्ष्मी का अनुष्ठान एक बार फिर से हम करने जा रहे हैं। ये अनुसंधान पिछले साल भी हमारे द्वारा किया गया था और ये मां लक्ष्मी के प्रकट उत्सव के रूप में अनुष्ठान किया जाता है। यानि मां लक्ष्मी का प्रादुर्भाव इन दिनों के दौरान हुआ था तो ये दिन दीपावली से भी अधिक महत्व के मां लक्ष्मी के पूजन के रहते है तो यदि आप इस अनुष्ठान का हिस्सा बनना चाहते हैं तो हमारे संस्थान में संपर्क कर इसकी डीटेल में जानकारी ले सकते हैं। साथ ही अगर आपको विडियो से इस उत्सव के बारे में जानना चाहते हैं तो आपको नीचे डिस्क्रिप्शन में उसके लिंक दिए गए हैं। वहां जाकर इसका विडियो भी देख सकते हैं। 5 सितंबर को शिक्षक दिवस रामदेव जयंती और तेजा दशमी का पर्व मनाया जाएगा। 9 सितंबर को अनंत चतुर्दशी का पर्व बड़ी धूमधाम से मनाया जाएगा। 10 सितंबर को श्राद्ध पक्ष प्रारंभ हो रहे हैं। 17 सितंबर को महालक्ष्मी प्राकट्योत्सव मनाया जाएगा और 25 सितंबर को सर्वपितृ अमावस्या अरीय 26 सितंबर को नवरात्रि घट स्थापना की जाएगी। Vrishchik Rashifal August 2022 in Hindi

अब आगे और जान लेते हैं कि सितंबर माह में ग्रहों की स्थिति क्या विशेष हमारे लिए लेकर आ रही है तो सबसे पहले बात करेंगे। ग्रहों के राजा सूर्य की जो कि वर्तमान में सिंह राशि में स्वग्रही हो रहे हैं और 17 सितंबर को वे अपनी शत्रु राशि कन्या में प्रवेश कर जाएंगे। बुध ग्रह की बात करें तो वे इस पूरे माह अपनी राशि कन्या में उच्च के होकर विराजमान रहेंगे। मंगल ग्रह इस पूरे माह अपनी मित्र राशि वृषभ में विराजमान रहेंगे। गुरू इस पूरे माह अपनी खुद की राशि मीन में स्वग्रही होकर विराजमान रहेंगे। शुक्र ग्रह की यदि बात करें तो वर्तमान में वे अपनी अति शत्रु राशि सिंह में विराजमान हैं और 24 सितंबर को वे अपनी नीचस्थ राशि कन्या में बुध के साथ में विराजमान होकर नीच भंग योग बनाएंगे। शनि ग्रह की यदि बात करें तो वे इस पूरे माह वक्री अवस्था में अपनी खुद की राशि मकर में स्वग्रही होकर विराजमान रहेंगे। राहु अपनी सम राशि मेष में और केतु अपनी सम राशि तुला में विराजमान रहने वाले हैं | वृश्चिक राशि वालों के लिए इस माह क्या खास रहने वाला है, उसके बारे में जान लेते हैं तो शुरू करते हैं। सितंबर माह का वृश्चिक राशि वालों का मासिक राशिफल। राशिफल शुरू करने से पहले आपको बता दे कि ये जो राशिफल आपको दे रहें है ये चंद्र गणनाओं पर आधारित है और आपकी राशि और लग्न दोनों के हिसाब से समान रूप से प्रभावशाली भी है तो आप दोनों के हिसाब से अपने इस राशिफल को देख सकते हैं।

सबसे पहले बात करते हैं। आपकी राशि स्वामी मंगल की, जो कि आपके षष्टम भाव के यानि रोग भाव के स्वामी हैं और षष्टम भाव में जाकर विराजमान हो रहे हैं। अत षष्टम भाव में वे अपने ही घर को देख रहे हैं। यानि आपकी राशि को देख रहे लग्न को देख रहे हैं। ये पर्सनालिटी का भाव है गोचर के हिसाब से तो इस समय आपकी पर्सनैलिटी में चार चांद लगेंगे। बहुत डेरिंग पर्सनालिटी आपकी हो जाएगी। गलत को गलत और सही को सही कहने का दम आपमें रहेगा और ये पर्सनैलिटी सभी लोगों को भाएगी | कई लोग आपको आइडियल मानेंगे। कई लोग आपको फॉलो करेंगे। सामाजिक प्रभाव आपका बढ़ता हुआ दिखाई देगा। सामाजिक दायरा बढ़ता हुआ दिखाई देगा। परंतु चूंकि मंगल आपकी राशि स्वामी और अपने ही घर को देख रहा है तो थोड़ा सा अग्रेशन गुस्सा ये भी बहुत अधिक हो सकता है। इसीलिए विनम्रता के साथ अपने कार्यों को करने का प्रयास करें। कोई भी बात खुद से नहीं की जा सकती और हर बात अगर हम क्रोध से कहेंगे ना तो हमारी सही बात भी लोगों को गलत लगेगी। यदि आप किसी को अपनी बात समझाना चाहते हैं तो बड़े विनम्र होकर आप अपनी बातों को सबके सामने रखें। वो व्यक्ति आपकी बातों को जरूर सुनेगा। वही जहां क्रोध करने की आवश्यकता हो वहां पर क्रोध का भी इस्तेमाल करना जरुरी है पर वो रोजाना नहीं होना चाहिए। इस समय आपको एक कोई भी रिस्क लेने के लिए तैयार होंगे। अपने आपको बहुत सक्षम महसूस करेंगे। किसी भी रिस्क के लिए और इस वजह से आप कई रिस्की काम भी अपने हाथ में लेंगे। परंतु उन कामों में आप अच्छी सफलता भी प्राप्त करेंगे। यह समय आपकी सफलता को दुगना तिगुना करता हुआ दिखाई देगा। दतिया से आपके संबंध और अधिक प्रगाढ़ और मजबूत होंगे। यानी मददगार वालों के साथ में आपकी ट्यूनिंग और भी अधिक बेहतर होगी।

अब मंगल चूंकि आपके रोग भाव के स्वामी हैं तो रोग भाव के हिसाब से भी मंगल अपने से एक घर आगे जाकर बैठे हैं। स्वास्थ संबंधी कितनी भी बड़ी समस्या हो उसमें अब आपको रिलीज़ फील होगा। वही राहू रोग भाव में बैठे हैं तो राजनीति में अटके हुए कार्यों में भी आपको सफलता दिलवाएगा। स्वास्थ संबंधी समस्याओं को कम करेगा परन्तु इस समय रोगाणुओं कीटाणुओं इंफेक्शन से संबंधित प्रॉब्लम्स हो सकती है। उसके प्रति आपको बहुत ज्यादा सजग रहना है। वो आपको बढ़ने नहीं देना है और इसके प्रति आप अपने आस पास अपने खुद की पर्सनल हाइजीन का अगर आप ध्यान रखेंगे तो किसी भी प्रकार की समस्या का आपको वैसे भी सामना नहीं करना पड़ेगा। छोटी सी प्रॉब्लम हुई तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें ताकि वो प्रॉब्लम आगे न बढ़ सके। इस समय आपके शत्रु आपसे काटेंगे। मित्रों का दायरा बढ़ेगा और मित्र भी आप बहुत सोच समझकर बनाएंगे। जल्दबाजी में आप अपने मित्रों की संख्या को बढ़ाने का प्रयास नहीं करेंगे। ऐसे में गलत आदतें अगर आपके जीवन में है तो वो खत्म हो जाएगी और वही आपका रीज़न बहुत क्लियर रहेगा। यानि लक्ष्य केन्द्रित बनकर आप अपने जीवन में आगे बढ़ेंगे। मातृपक्ष यानि ननिहाल पक्ष से भी आपको आर्थिक सहायता प्राप्त होगी और उनसे भी पूरा सपोर्ट आपको देखने को मिलेगा। तो ये तो थी |

अब आगे बढ़ते हैं और आपकी राशि स्वामी की बात करते हैं आपके द्वितीय भाव के बारे में चर्चा करते हैं तो द्वितीय भाव की अगर बात करें तो द्वितीय भाव के स्वामी हैं। गुरू जो कि पंचम भाव के स्वामी है और द्वितीयेश का पंचम भाव में स्वगृही होकर बैठा बहुत ही शानदार परिणाम आपके लिए लेकर आएगा। वाणी से आप सबको मोहित करते हुए नजर आएंगे। सामाजिक मान सम्मान में बढोतरी होगी। कुटुम्ब में समाज में आपको सम्मानित किया जाएगा। आप गणमान्य व्यक्तियों की सूची में उसकी श्रेणी में आ जाएंगे। इस समय आपके कोई भी काम जो भी आपने प्लानिंग कर रखी है, वो प्लानिंग बहुत सिस्टमेटिक तरीके से ऑर्गनाइज वे आप पूरी कर लेंगे, जिससे उसमें अच्छा लाभ भी आप प्राप्त करेंगे। मैनेजमेंट के फील्ड से अगर आप जुडे हुए हैं तो निश्चित रूप से यह समय आपकी उन्नति में चार चांद लगा देगा। वहीं अगर आप अपने घर के छोटे छोटे कामों को मैनेज करते हैं या कोई बड़ा इवेंट मैनेज करने का जिम्मा आपको सौंपा गया है तो इस माह आप बहुत वाहवाही उन इवेंट्स में भी उगते हुए दिखाई देंगे। यानि बहुत बारीक से बारीक बात को भी आप गौर से देखेंगे और उस पर भी वर्क करेंगे और ये आपकी पर्सनैलिटी को और अधिक सुदृढ़ और भी अधिक पावरफुल बनाएगा। इससे लोग आपकी इन चीजों से भी इम्प्रेस होंगे तो इस समय मंगल और गुरू दोनों की पोजिशन बहुत अच्छी चल रही है। Vrishchik Rashifal August 2022 in Hindi

अब गुरू चूंकि आपके पंचम भाव के स्वामी है तो शिक्षा में आपके संतान की तरफ से आपको शुभ समाचार की प्राप्ति करवाएंगे। वहीं साहित्य जगत में यानि कला के क्षेत्र में भी आपको अच्छी उपलब्धियां देखने को मिलेगी। लेखनी में भी आप सशक्त होते हुए दिखाई देंगे और कई जगह तो आपको उसके लिए ओनर भी किया जाएगा। यानि आपको अवॉर्ड भी दिया जाएगा। आपको सम्मानित किया जाएगा। आध्यात्मिक भावों से भरे रहेंगे क्योंकि पंचम भाव आध्यात्म का भी होता है और गुरू उसमें बैठे हैं। गुरु वैसे भी आध्यात्मिकता से व्यक्ति को जोड़ते हैं तो धर्म कर्म के कार्यों में आप जुड़ेंगे। इस समय धार्मिक अनुष्ठान आप अपने घर में कर सकते हैं या फिर आप धार्मिक स्थलों की यात्राएं कर सकते हैं तो ये सब चीजें आपके जीवन में बहुत ही पॉजिटिव पॉजिटिविटी लेकर आएगी और आप मेंटली फिजिकली और फाइनेंशियली हर तरीके से बहुत पॉजिटिव सोचेंगे।

अब आते हैं आपके तृतीय भाव पर, तृतीय भाव की बात करें, तृतीय भाव के स्वामी हैं शनि और शनि वक्री अवस्था में तृतीय भाव में बैठे हैं जो कि आपके सुखी स्थान के भी स्वामी है तो तृतीय और तृतीय भाव में स्वग्रही होकर बैठना बहुत अच्छा है। इनकी शनि की वक्र दृष्टि आप बहुत हानिकारक होती है। शनि की तीसरी दृष्टि गुरु पर पड़ रही है। शनि की सप्तम दृष्टि आपके भाग्य स्थान पर पड़ रही है और शनि की दशम दृष्टि आपके केतु पर पड़ रही है जो कि वक्री भी है और शनि की दृष्टि वैसे भी नुकसान दायक और वक्री होने के बाद में और अधिक तो इस समय आपको थोड़ा सा शनि की दृष्टियों के उपाय जरूर लेकर चलना है। ऐसा कोई भी कार्य न करें, जिससे आपके अपनो का मन भी आहत हो और प्रोफेशनल लाइफ में भी आप गलत तरीके से टर्न लेने का प्रयास कर हैं तो वो आपको बहुत भारी पड़ सकता है। बहुत इमानदारी से अपने कार्यों को कीजिए। आपके कार्यों में आप चाहें तो अपने पारिवारिक सदस्यों का विशेष रूप से अपने भाई बहनों का सहयोग ले सकते हैं। वे आपको हर क्षेत्र में सहयोग करते हुए दिखाई देंगे। छोटे भाई बहनों के साथ आपकी ट्यूनिंग बहुत ही बेहतर होगी। वहीं बड़े भाई बहनों के साथ में कभी कभी कहासुनी हो सकती है। पर फाइनली वो आपके हित में ही बोल रहे। इस बात को आपको ध्यान रखना है और हमने जैसा कि आपको पहले भी बताया। क्रोध और आवेश से बने बनाए काम बिगड़ सकते। इसलिए विनम्रता के साथ अपने जीवन में आगे बढ़ें।

अब सुखेश शनि अपने ही घर में बैठें है। स्वग्रही होकर बैठे हैं और अपने ही घर में बैठे हैं तो सुखेश शनि की वजह से आपके प्रोपटी में अगर कुछ अड़चनें हारती दिक्कत आ रही थी तो वो खत्म हो जाएगी। नए घर का सपना आपका पूरा होगा। इस समय आप बहुत सारे ड्रीम्स अपने जीवन में साकार करते हुए आगे बढ़ेंगे और ये ड्रीम्स आपके जीवन को एक अलग ही लेवल पर लेकर जाएंगे। इस समय कुछ नया और क्रिएटिव करने की प्लैनिंग आप करेंगे पर ये सभी काम ईमानदारी के रास्ते पर चलकर करने हैं। नए वाहन की खरीदारी संभव है और आपके सपने आपके ड्रीम्स आपको जरूर मिलेंगे। यदि आप सही में सच्चाई से और मेहनत के साथ आप कर्मपथ पर आगे बढ़े तो मां का पूरा सानिध्य आपको प्राप्त होगा और आपके सामाजिक मान सम्मान को बढ़ाने में उनकी अहम भूमिका भी देखने को मिलेगी। तो अगर हम कहें कि शनि के रिजल्ट अच्छे मिलेंगे तो इसमें कोई गलत बात नहीं होगी। बस शनि की दृष्टियों का खयाल रखें। Vrishchik Rashifal August 2022 in Hindi

अब बढ़ते हैं, आगे और सीधा आ जाते हैं। आपके सप्तम भाव पर, सप्तम भाव की अगर बात करें तो सप्तम भाव के स्वामी हैं। शुक्र और सप्तम भाव में मंगल बैठें है। जीवनसाथी के सामने छोटी छोटी चीजों को लेकर ईगो प्रॉब्लम हो सकती है। छोटी छोटी बातों पर आप दोनों के वैचारिक मतभेद हो सकते हैं, पर एक दूसरे को अगर आप लेकर चलेंगे। उनकी भावनाओं को आप समझेंगे कि वो क्या कहना चाहते हैं? हर बार आप अपनी चीज नहीं, उनके ऊपर थोप सकते हैं। उनकी बातों को सुनें और उनकी बातों को अमल करने का प्रयास करें। वो आपके अच्छे के लिए अगर बोल रहे हों तो दोनों एक साथ बैठकर डिसकस करें क्योंकि ये बराबरी का रिश्ता है उसमें आपको एक दूसरे के साथ में बैठकर डिस्कस करें और आगे बढ़ें। शुक्र लाभ भाव में बैठकर आपको बहुत अच्छे रिजल्ट दे रहे हैं। सप्तमेश और लाभ भाव में बैठे तो लाइफ पार्टनर के साथ से आप जो भी कार्य करेंगे, निश्चित रूप से उसमें लाभ की स्थितियों को भी दुगना पाएंगे। उनके नाम से कोई इन्वेस्टमेंट है तो उसमें भी अच्छा लाभ प्राप्त करेंगे। आकस्मिक धनलाभ की परिस्थितियां इस समय आपको बहुत अच्छी देखने को मिलेगी। व्यापारी वर्ग के लिए ये समय बहुत ही अच्छा रहने वाला व्यापार में आप अच्छी उन्नति और प्रगति करते हुए दिखाई देंगे।

अब बात करते हैं आपके सप्तम भाव की, सप्तम भाव के स्वामी हैं। शुक्र जो कर्म भाव में जाकर आपके विराजमान हो रहे हैं। इस समय शुक्र से रिलेटेड जो लोग अपना खुद का व्यवसाय करते हैं, चाहे वो पार्लर का हो। कॉस्मेटिक काम कपड़ों का हो, इमिटेशन जूलरी का हो। फैशन शूज का हो। फैशन डिजाइनिंग का हो। इंटीरियर डेकोरेशन का हो, ट्रैवलिंग का हो या फिर होटल या रेस्त्रां व्यवसाय हो। इन क्षेत्रों में कार्यरत लोगों के लिए समय बहुत ही उन्नतिदायक और प्रगति दायक रहेगा। इस समय आपको जो भी काम हाथ में लेंगे, उसमें आपको निश्चित रूप से सफलता भी प्राप्त करेंगे। परंतु सप्तम भाव में मंगल बैठे हैं जो कि जीवनसाथी के साथ में छोटी छोटी बातों को लेकर ईगो पैदा कर सकते हैं। वैचारिक मतभेद पैदा कर सकते हैं पर आपको इस बात का विशेष रूप से ध्यान रखना है कि आपके लाइफ पार्टनर आपके लिए अच्छे के लिए बोलें। उनकी बातों को सुनें एकदम से रिएक्ट न करें। एकदम से अपना थोपने का प्रयास न करें। एक दूसरे को लेकर चले क्योंकि ये बराबरी का रिश्ता है। इसीलिए अगर आप एक दूसरे की भावनाओं को समझेंगे तो निश्चित रूप से अपने जीवन में लाभ की स्थितियों को दुगना पाएंगे।

वहीं शुक्र आपके कर्म भाव में जाकर बैठे हैं तो जीवनसाथी के नाम से अगर आप कोई भी काम करेंगे या उनके साथ मिलकर कोई भी काम करेंगे। उसमें आप अच्छी सफलता जरूर प्राप्त करेंगे। शुक्र 24 सितंबर को नीच के होकर आपके लाभ भाव में जा रहे हैं, परंतु लाभ भाव में बुध के साथ मैं नीच भंग योग बना रहे हैं तो यह समय भी आपके लिए बहुत ही कल्याणकारी रहेगा। इस समय आपकी उत्तरोत्तर स्थिति आपको देखने को मिलेगी और शुक्र के बेहतरीन परिणाम भी आपको प्राप्त होंगे और शुक्र चूंकि आपके द्वादश भाव के स्वामी है तो उसके अंदर शुक्र के रिजल्ट ट्वेल्थ हाउस के भाव के स्वामी का अपने से बार बार जाकर बैठना आपके लिए उतना अच्छा नहीं है। परंतु चूंकि शुक्र आपके नीच भंग योग की तरफ बढ़ रहा है तो वो आपके लिए थोड़े से न्यूट्रल स्थितियां पैदा करेंगे तो यह समय आपके लिए बहुत ही अच्छा है। कन्फ्यूज नहीं होना है और कॉन्फिडेंट भी नहीं होना है। डर की स्थितियों को अपने जीवन से खत्म करें और आपके जो नौकरी में आपके साथ के सहकर्मी उनको लेकर चलें। एक टीमवर्क की तरह अगर आप काम करेंगे। अपने स्टाफ से आपको काम करवाना भी आना चाहिए। अगर ऐसा करेंगे तो निश्चित रूप से सफलता को अपने लिए बहुत ही अच्छा और सुदृढ़ करते हुए भी दिखाई देंगे तो शुक्र के रिजल्ट मैंने आपको। बताया जो कि द्वादश स्थान के भी स्वामी है और आपके सप्तम भाव के स्वामी भी हैं | Vrishchik Rashifal August 2022 in Hindi

अब सीधा आ जाते हैं। आपके अष्टम भाव की बात करें तो अष्टमेश हैं बुध जो कि लाभ भाव में स्वग्रही होने और उच्च के हो रहे हैं | बुध का लाभ भाव में उच्च का होकर बैठना बहुत ही बढ़िया आपको रिजल्ट देगा। काम के सिलसिले में जो भी आपकी यात्राएं होगी यानी बिजनेस मीटिंग जो आपकी होगी। उसके संदर्भ में आप कोई भी यात्रा करेंगे तो यात्रा निश्चित रूप से आपके लिए सुखद और मंगलमय रहेगी। इस समय आप एक प्लैनिंग के साथ अपने जीवन में उतरेगें और वो प्लानिंग भी साकार होती हुई दिखाई देगी। गुप्त शत्रु अपने आप ही शांत हो जाएंगे और आप अपने कार्यों में एक अच्छे ऑर्गनाइज्ड में करते हुए हर क्षेत्र में सफलता हासिल करेंगे। खुद खड़े रहकर अपने कार्य को पूर्ण करें। किसी और के भरोसे अपने कार्य को न छोडें। इस बात का आपको विशेष रूप से ध्यान भी रखना पड़ेगा। तब बुध के रिजल्ट आपके लिए दुगने और तिगुने होते हुए दिखाई देंगे। गुप्त धन यानी अचानक से कोई लाभ होना इसकी प्राप्ति के अच्छे योग बने हुए हैं। अचानक लाभ के साथ साथ व्यापार में आप अच्छी उन्नति करेंगे। व्यापार की कोई नयी ब्रांच खोल सकते हैं। कोई बड़ी योजना आप व्यापार को फैलाने की लगा सकते हैं। अपनी एक ब्रैंडिंग करते हुए आप दिखाई दे सकते हैं। यह समय उन सभी चीजों के लिए बहुत ही अच्छा है। सामाजिक मान सम्मान बढ़ोतरी में बढोतरी होगी और परिवार में एक अच्छा तालमेल और सामंजस्य आपको देखने को मिलेगा। घर में मेहमानों का आवागमन रहेगा, परंतु घर का माहौल उससे हैल्दी होता हुआ दिखाई देगा।

अब आ जाते हैं भाग्य स्थान पर, भाग्य स्थान की अगर बात करें तो भाग्येश है आपके चंद्रमा, जो कि हर दो ढाई दिन में बदलते रहते हैं तो बाकी कभी कभी फ्लक्चुएशन से भरा रहेगा तो मैं भाग्य के भरोसे बैठे नहीं और ग्रह दूसरे बहुत अच्छे हैं। जैसे बुध गुरु स्वग्रही हो रहे। शनि वक्री अवस्था में स्वगृही होकर बैठे मंगल जो कि लग्नेश आपके व बहुत अच्छी पोजिशन में है। इसलिए आपको इस समय एकदम तटस्थ रहना अपने मन को विचलित नहीं करना है। मन चंचलता लिए हुए जरूर है और चन्द्रमा आपको चंचल बना रहा है। मस्तिक से परंतु आपको विचलित नहीं होना चंचल नहीं होना है। अपने फैसलों पर अडिग रहे और जो भी आप डिसिशन लेंगे, उसमें आपको परिणाम अपने मनमुताबिक जरूर मिलेंगे। ये परिणाम आपके लिए भी बहुत सकारात्मक साबित होंगे। इसीलिए अपने मन को विचलित न करें और एक कॉन्फिडेंस लेवल के साथ आप अपने जीवन में आगे बढ़ें, जिससे आप सही डिसीजन पर पहुंच सकें और सफलता अपने जीवन में सुनिश्चित कर सकें।

अब आते हैं आपके दशम भाव पर, कर्म भाव की अगर बात करें तो कर्म भाव के स्वामी हैं। सूर्य जो कि 17 सितंबर तक आपके कर्म भाव में बैठे हैं। यह समय मेडिकल से जुड़े हुए लोगों के लिए यानी अगर आप किसी का काम करते हैं। दवाइयों की अगर आपकी कंपनी है या दवाइयों की आपकी दुकान है या फिर कोई लैब है। आपकी जिसमें आप कोई टेस्ट वगैरह करते हैं या फिर आपका कोई क्लीनिक है। हॉस्पिटल है या मेडिकल से संबंधित कोई भी काम आप कर हैं। इन क्षेत्रों से जुड़े हुए लोगों को बहुत अच्छा लाभ इस माह प्राप्त होगा। 17 सितंबर तक का समय आपकी प्रसिद्धि में चार चांद लगाएगा। इलेक्ट्रॉनिक्स से संबंधित कामों में भी आपको सफलता प्राप्त होगी। बिजली के सामान से संबंधित अगर आप कोई काम करें तो उसमें भी आपको अच्छी सफलता मिलने के योग बने हुए हैं। वहीं सरकारी नौकरियों में भी अच्छा लाभ प्राप्त करेंगे। अधिकारियों का साथ मिलेगा और रुका हुआ इन्क्रिमेंट मिलेगा और प्रमोशन के चांसेस बनेंगे। मनचाही ट्रांसफर के भी योग बन सकते हैं। 16, 17 सितंबर के बाद अपने से एक घर आगे बैठे हैं, परंतु बुध के साथ में बैठे हैं तो सूर्य बुध को बुधादित्य योग भी बनाएंगे और इसका फायदा भी आपको मिलेगा। उत्तरोतर लाभ की स्थितियां उत्तरोत्तर प्रगति आपको अपने जीवन में देखने को मिलेगी तो वृश्चिक राशि वालों के लिए यह सितंबर माह बहुत ही अच्छा और उत्तम परिणाम लेकर आया है | Vrishchik Rashifal August 2022 in Hindi

शुभ तारीखें – 3 से 8 तारीख, 11 से 17 तारीख, 21 से 27 तारीख और 30 |

ध्यान देने योग्य तारीखें 1, 2, 9, 10, 18 से 20, 28 और 29 |

शुभ रंग – रेड और टमाटर कलर, रानी कलर, आसमानी कलर, गोल्डन कलर |

 

विशेष उपाय

 

  • अंगूठी में या चैन के रूप में सोना धारण करें।
  • मंगलवार के दिन बंदरों को गुड़ और चना जरुर खिलाएं।
  • किसी भी लोहे या बिजली के सामान को का गिफ्ट न लें और ये गिफ्ट जरूर दें |
  • शनिवार के दिन दान करें। पर गिफ्ट ना लें।
  • केसर को माथे पर नाभि पर कान पर और गले पर जरूर लगाएं।
  • हनुमान जी को सिंदूर का चोला जरुर चढ़ाएं।

 

Note: Daily, Weekly, Monthly, and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Shrimali Ji is almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on (Kundali Vishleshan) (Kundali Making) (Kundali Milan) or contact Pandit NM Srimali  WhatsApp No. 9929391753, E-Mail- [email protected]

Contact : +918955658362 | Email: [email protected] | Click below on Book Now
Subscribe on YouTube – Nidhi Shrimali

 

Back to list

Leave a Reply

Your email address will not be published.