Astro Gyaan, Astrology Tips, Featured

Vrishchik Rashi Shani शनिदेव का राशि परिवर्तन वृश्चिक राशि पर प्रभाव

Vrishchik Rashi Shani

शनिदेव का राशि परिवर्तन वृश्चिक राशि पर प्रभाव


Vrishchik Rashi Shani

Image result for vrishchik rashi

पंडित एन एम श्रीमाली जी के अनुसार अब आप आराम से चिंता मुक्त हो जाए अब आप सामान्य रूप से अपना जीवन जी पाएंगे शनि की साढ़े साती  अब आपको खत्म हो रही है जी हां हम बात कर रहे है वृश्चिक राशि वालो की जिनको शनि की साढ़े साति खत्म होने वाली है  24 जनवरी 2020  को जब शनि धनु राशि से मकर राशि में उत्तराषाढ़ा नक्षत्र पर शुक्रवार के दिन प्रवेश करेंगे तब आपको शनि की साढ़े साती  ख़त्म हो जाएगी और आप आराम से हो जायेंगे शनि की साढ़े साति ख़त्म होना यानि आपके जीवन में बहुत सारी समस्याओ का समाधान स्वत ही मिल जायेगा जो आपने समस्याए झेली है कष्ट झेले है परेशानिया झेली है जो रूकावटे आपके कार्यो में आयी है जो उन्नति के मार्ग में आपके बाधाए उत्पन्न हुई है अब उस सबके ख़त्म होने का समय आ गया है अब आप आगे बढ़ सकते है अपने जीवन में कुछ नया सोच सकते है उन्नति कर सकते है अब आपको उन्नति करने से कोई नहीं रोक सकता है इसी प्रकार शनि के इस राशि परिवर्तन का प्रभाव हमारे राष्ट्र पर भी बहुत ही सकरात्मक पड़ने वाला है 370 और राम मंदिर का जो मुद्दा अभी हल हुआ है उसके सकरात्मक परिणाम मिलने शुरू हो ही गए है परन्तु शनि का ये जो राशि परिवर्तन होने वाला है उसके बाद हमारा देश विशेष उच्चाईयों को छुएगा विश्व में अपनी अलग पहचान बनाएगा पेट्रोल के दामों में कमी होगी कृषि-उत्पादन साधनों में वृद्धि होगी कृषक जो होंगे उनके लिए ये समय बहुत ही स्वर्णदायक होगा किसानों के लिए बहुत ही बढ़िया रहेगा अच्छी फसलों की पैदावार होगी कारखाने खुलेंगे मशीनरी जैसे लोहों से संबधित जो व्यापार है वो बढेंगे मशीनरी से संबधित काम बढेंगे जिससे बहुत से युवाओ को रोज़गार मिलेगा ज़मीनों में जो बहुत लम्बे समय से जो मंदी का दोर चल रहा था वो ख़त्म हो गया है अब ज़मीनों में उछाल आयेगा इसलिए निर्माण से सम्बन्धित कार्य भी बहुत सारे हमारे देश में जो नई-नई जो बहुत लम्बे समय से निर्माण सम्बन्धित से जो योजनायें अधूरी पड़ी थी उनको वो पुनः शरू होगी और उच्चाईयों पर निर्माण का कार्य चलेगा जिससे हमारी देश की आर्थिक स्थितिया भी सुधरेगी तो ये सभी सकरात्मक परिणाम शनि के इस राशि परिवर्तन के कारण अपने राष्ट्र के लिए देख रहे है और आने वाले समय में इतना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि हमारा देश एक सशक्त राष्ट्र और विश्व की अपार शक्ति के रूप में उबरेगा परन्तु ये तो है राष्ट्र की बात | Vrishchik Rashi Shani

वृश्चिक राशि के हिसाब से शनि का ये जो राशि परिवर्तन है शनि की साढ़े साती  तो आपको उतर रही है ये बहुत बढ़िया और सकरात्मक आपके लिए रहने वाला है परन्तु और क्या प्रभाव इस शनि के राशि परिवर्तन के आपके राशि में पड़ने वाले है इस 12 भावो पर हम विश्लेषण करेंगे हम आपको बतायेंगे कि शनि के राशि परिवर्तन का आपकी राशि के इन सभी 12 भावो पर क्या प्रभाव पड़ेगा Vrishchik Rashi Shani

सबसे पहले हम आपको बता देते है कि 1 जनवरी 2020 से शनि अस्त हो जायेंगे और 2 फरवरी 2020 को शनि फिर से उदय हो जायेंगे परन्तु सबसे ज्यादा ध्यान देने वाली बात है कि आपको 11 मई 2020 से 29 सितम्बर 2020 तक ध्यान रखना है की  जब शनि वक्री होकर बैठेंगे शनि का वक्री होना अशुभ माना जाता है इस समय शनि कष्ठ और पीड़ाओ को बढ़ाते है दरिद्रता बढ़ाते है हमारे दैनिक दिनचर्या में आ रही समस्याओ को भी बढ़ाते है तो इस समय आपको थोडा-सा ध्यान रखने की आवश्यकता रहेंगी Vrishchik Rashi Shani

पंडित एन एम श्रीमाली के अनुसार  वृश्चिक राशि के लिए शनि क्या परिणाम लेकर आ रहे है तो शनि आपके राशि के पराक्रम भाव में जाकर विराजित हो रहे है इनकी तीसरी दृष्टि पंचम स्थान पर सप्तम दृष्टि भाग्य स्थान पर और दसवी दृष्टि खर्च स्थान पर पड़ रही है और शनि की दृष्टिया कितनी विनाशकारी होती है आप इस बात से जानिये कि शनि का जब जन्म हुआ तो शनि की पहली दृष्टि उनके पिता सूर्य देव पर पड़ी उनको कुष्ठ रोग हो गया उनके सारथि अरुण भंगु हो गये और अश्व अंधे हो गये तो कितनी विनाशकारी शनि की दृष्टी है इस छोटे से उदहारण से आप समझ सकते है तो इन भावों के लिए आपको विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता रहेंगी जिन भावों पर शनि की तीसरी सातवी और दसवी दृष्टि पड़ रही है| Vrishchik Rashi Shani

पराक्रम भाव:  पराकर्म भाव में शनि आकर विराजित हो रहे है आपके पराक्रम में वो वृद्धि करेंगे क्योकि शनि स्वग्रही हो के बैठ रहे है निश्चित तोर पर वे और आपको प्रबल बनायेंगे बहुत शक्तिशाली व्यक्तित्व के रूप में लोगों पर आपके प्रभाव को वो बढ़ाएंगे आपके भाई-बहनों के साथ आपकी अच्छी बनेगी आपके रिश्तों में सुधार आएगा और एक अलग ही संबंध आपको इस समय अपने भाई-बहनों और रिश्तेदारों के साथ में देखने को मिलेगी यानि ये समय आपके लिए बहुत बढ़िया जाने वाला है शनि देव आपको बहुत ही अच्छा परिणाम देंगे आपके मान-सम्मान सामाजिक प्रतिष्ठता यश कीर्ति में बढ़ोतरी करवाएंगे| Vrishchik Rashi Shani

सुख स्थान: सुख स्थान की यदि हम बात करे तो इस स्थान की स्वामी भी शनि देव है और शनि की साढ़े साति जा चुकी है तो अब सुख प्राप्त करने का समय आपका आ गया है भूमि भवन वाहन संबंधी सुख-सुविधाओ से अब आप परिपूर्ण होंगे कोई महंगे वाहन की आप खरीदारी कर सकते है और आपकी सम्पति में बढ़ोतरी होगी यानि आप अपनी सम्पति में बढ़ोतरी करते हुए दिखाई देंगे अब माता के साथ में आपके संबंध बहुत बढ़िया रहने वाले है और संबंधो में मजबूती आएगी और वैसे भी हमने कहा है कि पारिवारिक संबंधो में बहुत अच्छी मजबूती इस समय रहेंगी पूरा परिवार आपके हर काम में आपकी जिंदगी के हर समस्या में साथ देते हुए नज़र आयेंगे वैसे भी शनि की साढ़े साती  में आपके परिवार ने एकजुट होकर आपका साथ दिया है जिससे आप आसानी से इस शनि साढ़े साती से बाहर निकल पाए शनि के सकरात्मक परिणाम आपको मिले है शनि के जो भी नकारात्मक परिणाम रहे है उसमे भी आपके परिवार का पूरा साथ रहा है तो ये साथ आपके लिए और भी अधिक मजबूत रहेगा आप नैतिकता से और भी अधिक उनसे आपका लगाव रहेगा| Vrishchik Rashi Shani

पंचम भाव: पंचम भाव की यदि हम बात करे तो विद्यार्थि वर्ग के लिए ये समय बहुत ही सावधानी रखनी होगी क्योकि शनि की तीसरी दृष्टि आपके पंचम भाव पर पड़ रही है विद्या अध्ययन में मुश्किलें आएगी आप जो करना चाहते है वो नहीं कर पाएंगे जितने परिणाम आपको पढाई में मिलने चाइये वो नहीं मिलेंगे जिससे आपको निराशा भी हो सकती है और कुछ गलत करने की भी आपके मन में आ सकती है हमारी ये क्या जिंदगी है हम क्यों जी रहे है क्यों कर रहे है पढाई ऐसी इच्छाए भी आपके मन में आएगी लेकिन हम आपको हमेशा एक बात कहते है कि अच्छा परिणाम आज नहीं तो कल हमे जरुर मिलेगा इसलिए ऐसी बात या ऐसे क्रियाकलाप आप बिल्कुल न करे जिससे आप तो छुट जायेंगे लेकिन आपके परिवार वालो को अवसाद झेलना पड़ेगा  इसीलिए मेहनत किये जाये ये समय सही नहीं लेकिन  आने वाला समय आपके पक्ष में रहेगा और इस समय को भी आपके पक्ष में करने के लिए हम आपके लिए बहुत अच्छा उपाय लेकर आये है जो हम आपको बाद में बताते है वही संतान पक्ष की और से भी आपको थोडा-सा चिंता का वातावरण रहेगा उसके स्वास्थ्य को लेकर कभी आप चिंतित रहेंगे कभी उसकी पढाई को कभी उसके पाठ्यक्रम गतिविधियों को लेकर कभी उसके व्यवहार को लेकर कभी आप-सी संबंधो को लेकर आप चिंतित रहेंगे तो संतान की तरफ से और विद्या की तरफ से इस समय आपको बहुत सावधानी रखनी होगी परन्तु बिल्कुल निराश न हो आने वाला समय बहुत बढ़िया है समय कभी भी जीवन में एक-सा नहीं रहता है इसीलिए प्रयास कीजिए समय जरुर आपका साथ देगा| Vrishchik Rashi Shani

 षष्टम भाव: षष्टम भाव की अगर हम बात करे तो ये भाव रोगों और शत्रुओ का होता है रोगों में आपके कमी आने वाली है शत्रुओ में भी आपके कुछ कमी हम देख रहे है रोग आपको एक स्वास्थ्य के हिसाब से जो आपको बहुत लम्बे समय से जिन समस्याओ से आप झुंझ रहे थे उन समस्याओ में अब कमी आएगी शनि की साढ़े साति के अंदर हम रोगों से थोडा-सा उच्च शनि उदर विकार भी देता है रक्त संबंधी समस्याओ से भी आपको ग्रसित करता है बी.पी का उतार-चढ़ाव रहता है हो सकता है आपको कोई बड़ा रोग भी शनि ने दे दिया हो परन्तु अब शनि की साढ़े साति जा चुकी है तो किसी भी प्रकार के रोग से यदि आप बहुत लम्बे समय से झुंझ रहे थे तो उसमे आपको विशेष तोर से आराम मिलेगा शत्रुओ में आपके कमी होगी क्योकि शनि आपके पराक्रम भाव में विराजित हो रहे है तो शत्रु आपका चाहकर भी वो आपका कुछ नही बिगाड़ पाएंगे जितना भी प्रयास करेंगे उस प्रयास को आप हराते हुए नज़र आयेंगे यानि आप उनके प्रयासों को विफल करेंगे अपने व्यक्तित्व से और अपने कार्यो से | Vrishchik Rashi Shani

 सप्तम भाव: सप्तम भाव की यदि हम बात करे तो जीवनसाथी के साथ दैनिक दिनचर्या आपकी सामान्य से चलती जाएगी इस समय मधुरता रहेंगी विवाह-शादी सगाई जैसे वार्तालाप आपके घर में होंगे यदि आप विवाह योग्य है और हो सकता है इस साल आप विवाह के परिणय बंधन में भी बंध जाये आपको सही जीवनसाथी मिल जाये आपके जीवनसाथी की तलाश ख़त्म हो जाएगी तो आपके लिए ये समय जीवनसाथी के हिसाब से बहुत अच्छा रहने वाला है साथ ही प्रेम-प्रशंगो के लिए ये समय अच्छा रहेगा यदि आप कीसी के लिए प्रस्ताव रखना चाहते है तो ये समय बहुत अच्छा है आप उस समय उस व्यक्ति को प्रस्ताव रख सकते है वो आपके प्रस्ताव को नही ठुकराएगा और आपको बिल्कुल अच्छे परिणाम ही देगा साझेदारी में कार्य करना आपके लिए नुकशानदायक नहीं रहेगा आप साझेदारी में काम कर सकते है यदि आप अपने जीवनसाथी को ही हिस्सा बनाते है तो आपके लिए विशेष लाभ की भी स्थितिया उत्पन्न हो सकती है इसीलिए अगर आप कोई नया कार्य शुरू करना चाहते है तो अपने जीवनसाथी का नाम उस कार्य में जरुर जोड़े| Vrishchik Rashi Shani

 अष्टम भाव: अष्टम भाव की यदि हम बात करे तो ये अष्टम भाव आपको मिलेजुले परिणाम देगा राहू का अष्टम भाव में जाकर बैठना आपके जीवन को थोडा-सा परेशान कर सकता है दैनिक दिनचर्या में थोडा-सा तनाव ला सकता है दैनिक दिनचर्या में आपके ब्रह्म की स्थितिया उत्पन्न होगी सोचने की स्थितिया राहु उत्पन्न करता है इसीलिए अष्टम भाव में राहु का जाकर बैठना आपके लिए शुभ संकेत नहीं माना जायेगा आपके दुर्घटनाओ में वृद्धि कराएगा राहु आपकी समस्याओ में वृद्धि कराएगा परन्तु यदि कोई कोर्ट-कचहरी संबंधी कोई मामले है कोई मुकदमो से संबंधित कोई मामले है तो उसमे आपको विशेष तोर पर जीत हासिल होगी उसमे आपको विशेष तोर पर लाभ प्राप्त होगा तो बहुत लम्बे समय से कोई मुकदमे आपके चल रहे है पेत्रक-सम्पंती या कोर्ट-कचहरी से संबंधी है किसी भी प्रकार के कार्यक्षेत्र से संबंधित है तो आप उन मुकदमो को थोड़ी गति पकडवाए उनका फैसला आपका पक्ष में आना वाला है| Vrishchik Rashi Shani

भाग्य स्थान: भाग्य स्थान की दृष्टी से आपका ये समय भाग्य के लिए विपरीत जाने वाला है क्योकि शनि की सातवी दृष्टी आपके भाग्य स्थान पर पड़ने से वो आपके भाग्य को ख़राब कर रही है मानसिक चिन्ताओ को बढ़ाएगी सोचने की स्थिति को बढ़ाएगी आप ये सोचेंगे की मैं ये काम करू या नहीं करू आप कभी एक काम की तरफ ध्यान होगा फिर आपका झुकाव दूसरी तरफ हो जायेगा क्योकि आपके भाग्य स्थान का मालिक चन्द्रमा है और चन्द्रमा की शनि से शत्रुता होती है और शनि की दृष्टि भी इस भाग्य स्थान पर पड़ रही है इसीलिए वो आपके भाग्य स्थान को परेशान कर रहा है आपके भाग्य के अंदर उथल-पुथल का वातावरण ला रहा है आप एक जगह स्थिर वो आपको नहीं रखने देगा आप एक नोकरी करेंगे फिर आप थोड़े दिन बाद में सोचेंगे मैं इस नोकरी को बदल दू फिर आपको लगेगा की नहीं मैं इस नोकरी से संतुष्ट नहीं हु मैं इसको बदल दू और ऐसा ही कुछ आपके व्यापार में भी होगा कुछ कार्यक्षेत्र में भी होगा मानसिक तनाव चिंता ये सभी चन्द्रमा की वजह से पैदा होगी भाग्येश आपका चन्द्रमा है शनि की दृष्टी पड़ रही है और शनि-चन्द्र की शत्रुता भी है तो इस वजह से आपका भाग्य आप से रूढ़ सकता है इसलिए इस समय आपको थोडा-सा सचेत रहना पड़ेगा ध्यान लगा कर कुछ चीजों को सोचिये ऐसा मत सोचिये की मैं ये करू या न करू थोडा अपने ऊपर भरोसा रखिये आप जो भी निर्णय लेंगे उसमे आप अपने परिवार की सलाह लीजिये और उसके बाद उस निर्णय पर पहुचिये किसी भी प्रकार की कोई समस्या नही आएगी भाग्य को आजमाने की कोशिश मत कीजिए नए कामो में निवेश मत कीजिए कोई नया जोखिम भरा काम मत कीजिए किसी नई चीज में बड़ा निवेश मत कीजिए ये सब चीजे यदि आप करेंगे तो आपको नुकशान उठाना पड़ेगा भाग्य आपका साथ नहीं देगा फिर आपको मन में निराशा होगी कि भाग्य ने मेरा साथ नहीं दिया इसलिए जैसा आपका जीवन चल रहा है चलने दीजिये| Vrishchik Rashi Shani

कर्म स्थान: कर्म स्थान की यदि हम बात करे तो क्या हुआ भाग्य साथ नहीं दे रहा है परन्तु कर्म आपको अधिक करने पड़ेंगे मेहनत अधिक करनी पड़ेगी क्योकि जितनी मेहनत आप करेंगे उतना फल आपको नहीं मिलेगा इसलिए आपको अपना दिमाग ज्यादा लगाना पड़ेगा तभी आपको परिणाम अच्छा मिलेगा इसीलिए थोडा-सा मेहनत अधिक कीजिए परिश्रम करेंगे तो आपको सही फल जरुर मिलेगा पिता से आपकी बहुत अच्छी बनेगी परन्तु थोड़ी-सा खीचतान भरा माहोल हर थोड़े समय के बाद में आपको देखना पड़ेगा क्योकि कर्म स्थान के मालिक सूर्य है और सूर्य-शनि की शत्रुता कहलाती है पिता-पुत्र होने के बावजूद भी इनकी आपस में एक-दुसरे से नहीं बनती है इसीलिए कर्म भाव भी परेशान रहेगा पिता के साथ आपके मतभेद चलते रहेंगे वो समझेंगे आपको आपके साथ आगे बढ़ेंगे परन्तु एक समय ऐसा आएगा वो अपने हाथ पीछे खिंच लेंगे आप दोनों के बीच में ग़लतफ़हमी हो जाएगी आप उन्हें गलत समझेंगे और वो आपको गलत समझेंगे परन्तु हम आपको एक ही बात कहते है कि माता-पिता कभी भी बच्चों के लिए गलत नहीं होते है न वो गलत सोचते है न वो गलत करते है माँ-बाप अपने बच्चों के लिए सही निर्णय ही लेते है और झुकना आपको ही पड़ेगा वो आप से बड़े है उन्होंने आपसे ज्यादा उम्र ली है इसीलिए आप उनके सामने झुक जाये वो जैसा कहे वैसा कीजिए  उनके कहे अनुसार आगे बढ़ेंगे तो आपके लाभ की स्थितिया बढ़ेगी उनका आशिर्वाद लेकर आप अपना काम कीजिए और ऐसा कोई भी कार्य न करे जिससे वो नाराज हो जाए| Vrishchik Rashi Shani

लाभ भाव: लाभ भाव की यदि हम बात करे तो जितना काम आप करेंगे उतना लाभ आपको मिल जायेगा आर्थिक स्थिति आपकी सामान्य चलेगी न बहुत ज्यादा बिगड़ेगी न बहुत ज्यादा ऊपर तक जाएगी तो जैसी है वैसी रहने वाली है तो आप वितीय स्थिति को आप सुचारू रूप से चलाते रहे परन्तु इस बात का जरुर ध्यान रखे कि फालतू खर्चो में आपके वृद्धि नही होनी चाइये क्योकि आपके बहारवे भाव पर शनि की दसवी दृष्टि पड़ रही है और इस वजह से वो फालतू खर्चे करवाएगा ही करवाएगा आपको अपने जीवन में तो फालतू खर्चो से बचे यदि आपने वो खर्चे किये उल-जलूल जगह आपके खर्च हुए होने तो सही हम ये नही कहते कि एकदम ख़त्म हो जायेंगे परन्तु आप अपनी तरफ से कोशिश करे जैसे फालतू की कोई खरीदारी न करे पारिवारिक सदस्यों को भी समझाइए की कोई इलेक्ट्रॉनिक का सामान ले लिया या फिर घर का कोई सामान ले लिया नहीं जरुरत थी वो भी लेकर आ गए ऐसी स्थितिया मत कीजिए बाकि वो हॉस्पिटल में खर्च करवाएंगे रोगों में खर्च होगा वाहन ख़राब हो गया तो उसमे खर्च होगा ऐसी चीजों में वो खर्च जरुर होगा परन्तु आप अपनी तरफ से कोशिश कीजिए कि खर्च कम हो तो ये थोडा-सा प्रयास आपको करना पड़ेगा आपके खर्च भाव में शनि की दृष्टि पड़ रही है आपके लिए ठीक नहीं है खर्च को बढ़ाएगा विदेशों से आप कोई भी मेल-मिलाप न करे कोई विदेशी कंपनी यदि आपका कुछ सहयोग है आप उनके साथ कुछ काम करना चाहते है तो अभी आप रुक जाये आने वाले समय का सही और उचित समय का इंतजार करे उसके बाद ही आप किसी काम की शुरुआत विदेशी कम्पनीयों के साथ करे| Vrishchik Rashi Shani

व्यक्तित्व: व्यक्तित्व की यदि हम बात करे तो आपका व्यक्तित्व ठीक रहेगा आपके लग्न भाव का मालिक लग्न में ही जाकर विराजित है तो आपके व्यक्तित्व को निखारेगा आप में तेज़ उत्पन्न होगा वैसे भी हमने आपको बताया है कि आपके पराक्रम में वृद्धि तो होने वाली ही है शनि आपके पराक्रम भाव में बैठे है और व्यक्तित्व के भाव में मंगल बैठे है यानि लग्न भाव आपका व्यक्तित्व का होता है तो उसमे स्वग्रही हो के मंगल बैठे है तो ये सभी मतलब मिले-जुले परिस्तिथिया हम जो देख रहे है उसके हिसाब से आपके व्यक्तित्व को कोई नहीं दबा सकता है आपको कोई नहीं दबा सकता है परन्तु ऐसा नहीं हो के गुस्सा आपमें और अधिक बढ़ जाए और उस वजह से चीजे आपके हाथो से निकल जाए तो उतना ही व्यक्तित्व में तेज़ लाए जितना जरूरत हो उससे ज्यादा गुस्सा होने की जरुरत नहीं है इससे आपके काम बिगड सकते है| Vrishchik Rashi Shani

वाणी का स्थान यानि द्वितीय घर: वाणी के स्थान की यदि हम बात करे तो ये स्थान आपका सुचारू रूप से चलेगा आप किसी को भी अपनी वाणी से दुखी नहीं करेंगे सभी आपकी वाणी से मोहित रहेंगे परिवार आपका साथ देगा रिश्तों में आपके मधुरता रहेंगी साथ ही पैत्रिक-सम्पति संबंधी कोई विवाद है तो हमने आपको बोला कि यदि आपके कोई कोर्ट केस चल रहा है तो उसमे आपको निश्चित तोर पर सफलता मिलेगी ही मिलेगी शनि का कोई भी दुष्प्रभाव या कोई भी दृष्टि आपके द्वितीय घर पर नहीं पड़ रही है तो सुचारू रूप से आपका द्वितीय घर चलता रहेगा अष्टम भाव में आपके राहु का जाकर बैठना पैत्रिक-सम्पति,कोर्ट केस में विजय प्राप्त करवाएगा इसीलिए हमने आपको बोला कि पैत्रिक-सम्पति संबंधी कोई विवाद है तो वो हल हो जायेगा इसीलिए इया समय थोडा ध्यान लगाइए और कोई पैत्रिक-सम्पति,कोर्ट केस संबंधी कोई विवाद है तो उसका निपटारा कीजिए| Vrishchik Rashi Shani

पंडित एन एम श्रीमाली जी के अनुसार ये था वृश्चिक राशि वालो के बाहरा भाव की तरफ से शनि के राशि परिवर्तन का प्रभाव जो की हमने आपको बताया है अब शनि की दृष्टियों का जो हमने आपको बताया पंचम भाव पर पड़ रही है भाग्य पर पड़ रही है और बहारवे भाव पर यानि खर्च भाव पर पड़ रही है और ये तीनों भाव बहुत ही मुख्य माने जाते है देखिए खर्च को बढ़ाना भी ख़राब है भाग्य के स्थान से यदि हमको साथ नहीं मिलेगा तो हम किसी भी कार्य में सफल नहीं हो पायेंगे और विद्यार्थि वर्ग के लिए खासकर पंचम भाव विद्यार्थि वर्ग के लिए संतान भाव की तरफ से होता है तो यदि वहा से भी हमको साथ नहीं मिलेगा या उस पर दृष्टि रहेंगी वो खराब रहेगा तो हम उन्नति नहीं कर पाएंगे तो विशेषकर विद्यार्थि वर्गे के लिए और जो कामकाज युवा वर्ग है करियर में कुछ नया करना चाहते है अपने कार्यक्षेत्र में अच्छा करना चाहते है व्यापार व्यवसाय नोकरी को नई उच्चाईयों तक ले जाना चाहते है| Vrishchik Rashi Shani

उपाय: जिससे आपके ये शनि की दृष्टिया थोड़ी ठंडी पड़े शनि की कृपा आप पर बनी रहे और आपको सकरात्मक परिणाम मिले दुष्प्रभाव शनि की दृष्टियों का बहुत ज्यादा न हो इसके लिए क्योकि आप पहले से ही शनि की साढ़े साती से गुजर आये है तो आपको ये उपाय जरुर करने पड़ेंगे| Vrishchik Rashi Shani

  1. गुरु यन्त्र लॉकेट में मोती जो हमने विशेष रूप से तैयार करवाया है आप लोगों के लिए गुरु यन्त्र लॉकेट उसके साथ ही मोती जोड़ के एक विशेष लॉकेट का निर्माण किया है उसे आपको अपने गले में धारण करना है यदि आप ये उपाय कर लेते है तो आपके पंचम स्थान ठीक होता है भाग्य स्थान ठीक होता है और खर्च स्थान की स्थितिया ठीक होती है तो आप इस उपाय को जरुर अपनाये ये लॉकेट आपको हमारा यहाँ से ही मिलेगा| तथा हम ये लॉकेट आपके नाम से प्राण-प्रतिष्ठत, अभिमंत्रित और सिद्ध करके आप तक भेजंगे| Vrishchik Rashi Shani

RELATED PRODUCT

Nidhi Shrimali

About Nidhi Shrimali

Astrologer Nidhi Shrimali is most prominent & renowned astrologer in India, and can take care of any issue of her customer and has been constantly effective.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *