निवारण पूजा 6 | Panditnmshrimali

Simantonnayana Sanskar Pooja


 

This Sanskar is performed in the fourth, sixth or eighth month of pregnancy, to purify the womb and provide inspiration to the mother to contemplate the best. It is noteworthy that after the fourth month in the womb, the child’s organs, heart etc. At this time the unborn child becomes capable of teaching. A new consciousness-power starts awakening in his mind and intellect. In such a situation, the impressive good values that are installed have a very deep effect on the mind of the child. There is no doubt that the fetus is very sensitive.

The husband should recite the following mantras while reciting Om Bhurvinayami, Om Bhurvinayami, Om Swavinayami and performing separate karnadi actions using sycamore plant as described in the scriptures.

येनादित सीमानं नयति प्रजापतिर्महेले सौभाग्य।
तेनहमसयै सीमानं नयाम प्रजामासय जर्दिश्तिम क्रुनोमी।

That is, just as Prajapati did the simtonnayan of the deity Aditi, in the same way, by simatonnayana of this pregnant woman, I make her son long-lived till his old age. At the end of the ceremony, the old Brahmins should bless the wife. There is a law to feed khichdi with enough ghee in the Seemantonnayan rite, it has been mentioned in the Gobhil Grihyasutra in such a way that

पश्यसितुकवा प्रजामिति वचनायत तन सा स्वयं भुंजित बिरसुजीवपलनीति ब्राह्मण्यो मंगलाबीरवाग्मी पसीरन।

Gobhil Grihayasutra means that on asking what do you see, then I see a child in what a woman says. Eat that khichdi yourself. Be present at the time of this rite, while blessing her that you are going to give birth to a living child. May you remain fortunate forever.

Make this page from astrologer Nidhi ji Shrimali at a very nominal cost to Seemantonnayan Sanskar Puja as soon as possible.

Simantonnayana Sanskar Puja – This Puja will be done through our Vidhavan Pandits. This puja can be done online (video call) or offline (at your place).

Astrologer Nidhi ji Shrimali ji explains and guides the proper Punswan Puja remedies. If you want to do Simatonnayan Sanskar Puja, then astrologer Nidhi ji Shrimali is the best choice in India.

For any assistance or confusion regarding Puja, contact us by clicking below. You can also WhatsApp us on this number. Our team is always there to assist you.

 

सीमांतोन्नयन संस्कार पूजा


यह संस्कार गर्भ के चौथे, छठे या आठवें महीने में गर्भ को शुद्ध करने और माँ को सर्वश्रेष्ठ चिंतन करने की प्रेरणा प्रदान करने के लिए किया जाता है। उल्लेखनीय है कि गर्भ में चौथे महीने के बाद बच्चे के अंग, हृदय आदि होते हैं। इस समय अजन्मा बच्चा पढ़ने में सक्षम हो जाता है। उसके मन और बुद्धि में एक नई चेतना-शक्ति जागृत होने लगती है। ऐसे में जो प्रभावशाली अच्छे संस्कार डाले जाते हैं, उनका बच्चे के मन पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। इसमें कोई शक नहीं कि भ्रूण बहुत संवेदनशील होता है।

पति को ओम भुरविनयामी, ओम भुरविनयामी, ओम स्वाविनयामी का पाठ करते हुए और शास्त्रों में वर्णित गूलर के पौधे का उपयोग करके अलग-अलग कर्नादि क्रियाएं करते हुए निम्नलिखित मंत्रों का पाठ करना चाहिए| |

येनादित सीमानं नयति प्रजापतिर्महेले सौभाग्य।
तेनहमसयै सीमानं नयाम प्रजामासय जर्दिश्तिम क्रुनोमी।

 

अर्थात् जिस प्रकार प्रजापति ने अदिति देवता का सीमांतोन्नयन किया, उसी प्रकार इस गर्भवती स्त्री के सीमांतोन्नयन से उसके पुत्र को वृद्धावस्था तक दीर्घजीवी बनाता हूँ। समारोह के अंत में, वृद्ध ब्राह्मणों से पत्नी को आशीर्वाद देना चाहिए। सीमांतोन्नयन संस्कार में पर्याप्त घी के साथ खिचड़ी खिलाने का विधान है, इसका उल्लेख गोभील गृह्यसूत्र में इस प्रकार किया गया है कि

पश्यसितुकवा प्रजामिति वचनायत तन सा स्वयं भुंजित बिरसुजीवपलनीति ब्राह्मण्यो मंगलाबीरवाग्मी पसीरन।

गोभील गृहसूत्र का अर्थ है कि यह पूछने पर कि आप क्या देखते हैं, तो एक महिला जो कहती है उसमें मुझे एक बच्चा दिखाई देता है। वो खिचड़ी खुद खाओ। इस संस्कार के समय उपस्थित रहें, उसे आशीर्वाद देते हुए कि आप एक जीवित बच्चे को जन्म देने जा रहे हैं। आप सदा भाग्यशाली रहें।

ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली जी पुंसवान पूजा के उचित उपायों की व्याख्या और मार्गदर्शन करती हैं। यदि आप सिमातोन्नयन संस्कार पूजा करना चाहते हैं, तो ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली भारत में सबसे अच्छी पसंद हैं।

पूजा के संबंध में किसी भी सहायता या भ्रम के लिए, नीचे क्लिक करके हमसे संपर्क करें। आप हमें इस नंबर पर व्हाट्सएप भी कर सकते हैं। हमारी टीम आपकी सहायता के लिए हमेशा मौजूद है।