Shukra Shani Yog Nivaran Pooja | शुक्र शनि योग निवारण पूजा | By Astrologer Nidhi Ji Shrimail |

निवारण पूजा 21 | Panditnmshrimali

Shukra Shani Yog Nivaran Pooja


Shukra Shani Yog Nivaran Puja – This worship will be done through our Vidhavan Pandits. This puja can be done online (video call) or offline (at your place).

If Venus-Shani Yoga is formed in the horoscope of any person, then there are many misconceptions about the combination of Venus and Saturn and there are many fears in the minds of people about the combination of Venus and Saturn. The assessment is
If there is a conjunction of Venus and Saturn in the Ascendant, it is believed that it has a very bad effect on health and family life. There is a lot of tension and due to this stress, mental problems remain constant and no work is successful soon, then if Venus and Saturn are in conjunction in the ascendant, then it cannot be considered good.
The combination of Venus and Saturn for the eighth house of the eighth house cannot be considered good that such people have liver kidney problems, blood pressure also troubles a lot, the accident can also be big, such people should be careful about blood related diseases And the most difficult thing is that it can also stain the character.
The combination of Venus and Saturn in the twelfth house causes sudden loss of money, not only that, he also loses whatever he has earned and gets into the wrong company and takes him on the wrong path and makes it very tremendous. Overall Venus and The conjunction of Saturn is very effective, some would be very beneficial for some people and some would be very harmful.

The surefire way to strengthen the planetary condition of Venus-Saturn-

1. This mantra is chanted to make Venus auspicious-
Om Shukrai Namah.
Himkundamrunalabham daityanam paramam guru
2. To strengthen the planet Venus in the horoscope, keep a fast on Friday and worship Maa Lakshmi.
3. For the auspiciousness of Venus, ants and white cows should be fed flour.
4. Worship the Shukra Yantra by law and place it at the place of worship.
5. Diamond and white topaz are worn to strengthen Venus.
6. To strengthen Shani, do not eat stale food at all.
7. Never eat more food than necessary, doing so weakens Shani.
8. To strengthen Shani, use plenty of black gram, black lentils and cloves in the food.
9. Do not eat food very late at night.
10. Always eat food in steel utensils.
11. Do not talk to anyone in bad language.
12. Be nice to everyone. Don’t waste time at all.
13. Be nice to people who are below you.
14. Do not have long hair and nails at all.
15. Take bath regularly. Always follow discipline.
16. Chant Shani Mantra in the evening.
17. Chant Shani Mantra in the evening. Light a mustard oil lamp under a Peepal tree on Saturday. Donate to a poor person on Saturday.
18. Wear an iron ring on the middle finger on Saturday. Do not always wear shoes and slippers after cleaning them.

To remove this defect, do Shukra Shani Yog Nivaran Puja at a very nominal cost from astrologer Nidhi ji Shrimali as soon as possible.

The person who wants to get worship done, Pandit ji already takes a resolution in his name and as we all know, every worship or auspicious work of Lord Ganesha is always done. So Shukra Shani Yog Nivaran Puja also starts with the Abhishek of Lord Ganesha, we need to please him first.

Pandit ji will worship the Navagrahas and after that, he will appease the 12 deities (mothers), one of which will be your Kuldevi.

Mantras related to Shukra Shani Yog Nivaran Puja will be chanted by Pandit ji. Shukra Shani Yog Nivaran Puja will be done for 2 – 3 hours. This pooja will be performed by 2 – 3 pundits with complete rituals. After the puja after the havan, he will appease the 12 deities (mothers), one of whom will be your Kuldevi.

In the end, the main Havan of Puja begins, in which Panditji starts chanting mantras for you and you should chant the mantras and follow the rules as given by our Panditji. After the completion of the puja, you are blessed by Pandit ji.

The yantras related to worship are kept in this havan. That device will be sent to you. After installing that yantra in your house of worship, you must recite the mantras told by Pandit ji every day, and you should pray to get rid of this defect.

Astrologer Nidhi ji Shrimali ji explains and guides proper Shukra Shani Yog Nivaran Puja remedies. If you want to do pooja for Shukra Shani Yog Nivaran Pooja , then astrologer Nidhi ji Shrimali is the best option in India.

For any assistance or confusion regarding Puja, contact us by clicking below. You can also WhatsApp us on this number. Our team is always there to assist you.

 

शुक्र शनि योग निवारण पूजा


शुक्र शनि योग निवारण पूजा- यह पूजा हमारे विधान पंडितों द्वारा की जाएगी। यह पूजा ऑनलाइन (वीडियो कॉल) या ऑफलाइन (आपके स्थान पर) की जा सकती है।

किसी भी व्यक्ति की कुंडली में शुक्र – शनि योग बनता है तो शुक्र शनि की युति के बारे में कई सारी भ्रांतियां हैं और लोगों के मन में शुक्र और शनि की युति के बारे में काफी सारे डर हैं इसके बारे में ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली का जो आकलन है वो –
लग्न में शुक्र और शनि की युति है तो इसमें यह माना जाता है कि स्वास्थ्य पर बहुत ही बुरा असर डालता है और पारिवारिक जीवन है वह काफी परेशानियों से बीता है और काफी स्ट्रेसफुल होता है व्यक्ति के लग्न में शुक्र और शनि की युति होने के कारण काफी तनाव रहता है और इस तनाव के कारण मानसिक परेशानियां लगातार बनी रहती हैं और कोई भी कार्य सफल जल्द नहीं हो पाता है तो अगर लग्न में शुक्र और शनि की युति है तो यह अच्छा नहीं माना जा सकता है |
आठवें भाव की आठवें भाव के लिए शुक्र और शनि की युति अच्छी नहीं मानी जा सकती है कि ऐसे लोगों को लीवर किडनी की प्रॉब्लम होती ब्लड प्रेशर भी काफी परेशान करता है दुर्घटना भी बड़ी हो सकती है ऐसे लोगों को सावधान रहना चाहिए ब्लड से संबंधित रोग हो सकते हैं और सबसे बड़ी मुश्किल की बात यह है कि यह चरित्र पर भी दाग लगा सकता है
बारहवें भाव में शुक्र और शनि की युति जो होती है अचानक धन हानि कराता है यही नहीं जो कुछ भी कमाया है वह भी गवा देता है और गलत संगत में पड़कर काफी गलत रास्ते पर ले जाता और उसमें बहुत ही जबरदस्त कराता है कुल मिलाकर शुक्र और शनि की युति बहुत ही प्रभावशाली होती है कुछ लोगों के लिए काफी फायदेमंद होती तो कुछ काफी हानिकारक होती है।

शुक्र – शनि की ग्रह दशा मजबूत करने के अचूक उपाय-

1. शुक्र ग्रह को शुभ बनाने के लिए इस मंत्र का जाप किया जाता है-
ॐ शुं शुक्राय नम:।
ॐ हिमकुन्दमृणालाभं दैत्यानां परमं गुरुं
2. कुंडली में शुक्र ग्रह को मजबूत करने के लिए शुक्रवार का व्रत रखें और मां लक्ष्मी की उपासना करें।
3. शुक्र की शुभता के लिए चींटियों और सफेद गाय को आटा खिलाना चाहिए।
4. शुक्र यंत्र को विधि-विधान से पूजित कर पूजा स्थल पर रखें।
5. शुक्र को प्रबल करने के लिए हीरा और सफेद पुखराज पहना जाता है।
6. शनि को मजबूत करने के लिए बासी खाना बिल्कुल ना खाएं।
7. जरूरत से ज्यादा भोजन कभी ना करें ऐसा करने से शनि कमजोर होता है।
8. शनि को मजबूत करने के लिए भोजन में काला चना, काली दाल और लौंग का भरपूर इस्तेमाल करें।
9. बहुत देर रात में भोजन बिल्कुल ना करें।
10. भोजन हमेशा स्टील के बर्तन में ही करें।
11. किसी से खराब भाषा में बात ना करें।
12. सभी के साथ अच्छा व्यवहार रखें। समय बर्बाद बिल्कुल ना करें।
13. अपने से नीचे दर्जे के लोगों के साथ अच्छा व्यवहार रखें।
14. बड़े बाल और नाखून बिल्कुल ना रखें।
15. नियमित रूप से स्नान करें। अनुशासन का सदैव पालन करें।
16. शाम के समय शनि मंत्र का जाप करें।
17. शाम के समय शनि मंत्र का जाप करें। शनिवार को पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं। शनिवार को किसी निर्धन व्यक्ति को दान जरूर करें।
18. लोहे का छल्ला मध्यमा उंगली में शनिवार को जरूर धारण करें। जूता, चप्पल हमेशा साफ करके ही पहने नहीं।

इस दोष को दूर करने के लिए जल्द से जल्द ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली से बहुत ही मामूली कीमत पर शुक्र शनि योग निवारण पूजा करें।

जो व्यक्ति पूजा करवाना चाहता है, उसके नाम पर पंडित जी पहले से ही एक संकल्प लेते हैं और जैसा कि हम सभी जानते हैं, भगवान गणेश की हर पूजा या शुभ कार्य हमेशा किया जाता है। तो शुक्र शनि योग निवारण पूजा भी भगवान गणेश के अभिषेक के साथ शुरू होती है, हमें पहले उन्हें प्रसन्न करने की आवश्यकता है।

पंडित जी नवग्रहों की पूजा करेंगे और उसके बाद वे 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे, जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

शुक्र शनि योग निवारण पूजा से जुड़े मंत्रों का जाप पंडित जी करेंगे। शुक्र शनि योग निवारण पूजा 2-3 घंटे तक की जाएगी। यह पूजा 2-3 पंडित पूरे विधि-विधान से करेंगे। हवन के बाद पूजा के बाद, वह 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे, जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

अंत में पूजा का मुख्य हवन शुरू होता है, जिसमें पंडित जी आपके लिए मंत्रों का जाप करने लगते हैं और आप हमारे पंडित जी द्वारा बताए गए मंत्रों का जाप करें और नियमों का पालन करें। पूजा संपन्न होने के बाद पंडित जी का आशीर्वाद आपको मिलता है।

इस हवन में पूजा से संबंधित यंत्र रखे जाते हैं। वह उपकरण आपको भेजा जाएगा। उस यंत्र को अपने पूजा घर में स्थापित करने के बाद आपको प्रतिदिन पंडित जी द्वारा बताए गए मंत्रों का पाठ करना चाहिए और इस दोष से छुटकारा पाने के लिए प्रार्थना करनी चाहिए।

ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली जी उचित शुक्र शनि योग निवारण पूजा उपायों की व्याख्या और मार्गदर्शन करती हैं। यदि आप शुक्र शनि योग निवारण पूजा करना चाहते हैं, तो ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली भारत में सबसे अच्छा विकल्प है।

पूजा के संबंध में किसी भी सहायता या भ्रम के लिए, नीचे क्लिक करके हमसे संपर्क करें। आप हमें इस नंबर पर व्हाट्सएप भी कर सकते हैं। हमारी टीम आपकी सहायता के लिए हमेशा मौजूद है।

 

Contact : +918955658362 | Email: [email protected] | Click below on Book Now
Subscribe on YouTube – Nidhi Shrimali

 

Hello, if you want to book this pooja by your name. Please contact us at +918955658362 

Shopping cart
Shop
0 items Cart
My account