Shani Rahu Shrapityog Nivaran Pooja

Shani Rahu Shrapityog Nivaran Pooja


Shani Rahu Shrapit Yoga is formed when the Shani and Rahu are placed together in any house of horoscope or also if they are aspecting to each other and said to be astrological bad luck. But mostly it creates due to both planets being placed altogether. The word Shrapit means is cursed due to bad karma in a past life and Shapit Dosha is believed to be extremely bad for the individual which causes lots and lots of problems.

Due to Shrapit Dosha, an individual’s life may go in waste without any purpose and effects on personal and professional life, also the good effect of other Grah could be removed. Thus, to remove the impact of Shrapit Dosha, an individual has to perform Shrapit Dosha Nivaran Puja. If Puja is not performed, then this dosha may continue in the next birth as well.

If the combination of Shani and Rahu is in the 1st, 4th, 7th, 8th or 12th house of the horoscope then the negative effect will be at a high level and if it is in the 3rd, 6th or 11th house the individual will suffer less due to this Dosha. The conjunction of Saturn and Rahu makes a person intelligent and makes successful in professional life but Dosha makes a person unlucky and could not get success in any activities. Due to the Shrapir Dosha, individuals can suffer from unfruitful marriage life, child-related problem, the dispute in the family, unnatural death etc.

Favorable Effect Of Shrapit Dosha:-

  •  Rahu represents unconventional, and innovation, and Saturn is hard work, determination. When Both are combined, then both positive and negative energies also come in synch. These people are of high intellect. They don’t adhere to the rules of society. Sometimes the person who has grown from a very grounded level to a high level has this combination.
  •  Some religious leaders who have denied the society laws have seen to have this combination if it has a beneficial aspect of Jupiter.
  • Rahu and Saturn make a person highly innovative. They go deep into a subject and create something new out of it.

The Negative Effect Of Shrapit Yoga:-

  • Rahu denotes confusion and illusion. Saturn makes a person depressed and struggles hard. This combination creates a lack of decision power or forces a person to make the wrong decisions.
  • If Saturn or Rahu is associated with the 7th house or marriage house, then this combination will boost the risks of a divorce case happening in the life of the individual. The native could be turning into a widower or a widow.
  • If it impacted the 5th house, then there are chances of miscarriage or problems during the pregnancy period.
  • If the 4th house or 2nd house is impacted, then there will be frequent quarrels in the family. Relations with parents will suffer.
  • If the 10th house is impacted, then the person will need to feel satisfied in his career. There will be a constant feeling of restlessness, and despite hard work, he will not get its reward.

Shrapit Yoga Remedies:-

  • On Saturdays, cook rice. Feed the rice ball to fish and crows. Feeding food and water to birds will also help.
  • Taking care of parents and the oppressed person will also help. Always treat the maids, labourers with respect. Don’t misbehave with them.
  • Donating blankets to beggars will also reduce the negative effect of Shrapit yoga.
  • One of the most effective remedies is reading Sri Ramacharita Manas. Lord Hanuman’s worship and reading Hanuman Chalisa also helps in reducing the effect of Shrapit Yoga.
  • The best remedy of Sharpie yoga is to make your karma right. Even though you will face a struggle in your life. Don’t deter from the right path.

For those who want to get the worship done by Shani, Rahu cursed, for them, by the learned pundits of our institute, the mantras, related to the worship of cursed by Shani Rahu will be chanted. Worship for the removal of curses cursed by Shani Rahu will be done for 2-3 hours with complete rituals. Together you should chant the mantras given by our Pandit ji and follow the rules. After the completion of the puja, you are blessed by Pandit ji. That device will be sent to you. After installing that Yantra in your house of worship, you must recite the mantras told by Pandit ji every day, and you should pray to get rid of this defect.

Astrologer Nidhi ji Shrimali ji explains and guides proper Shani Rahu cursed dosh nivaran puja remedies. If you want to worship for Shani Rahu cursed dosha, then astrologer Nidhi ji Shrimali is the best option in India.

For any assistance or confusion regarding Puja, contact us by clicking below. You can also WhatsApp us on this number. Our team is always there to assist you.

 

शनि राहु श्रापित दोष निवारण पूजा


शनि राहु श्रापित योग तब बनता है जब शनि और राहु कुंडली के किसी भी घर में एक साथ हों या वे एक-दूसरे पर दृष्टि डाल रहे हों और ज्योतिषीय अपशकुन कहे गए हों। लेकिन ज्यादातर यह दोनों ग्रहों के एक साथ होने के कारण पैदा होता है। श्रापित शब्द का अर्थ है पिछले जन्म में बुरे कर्मों के कारण शापित और शापित दोष व्यक्ति के लिए बेहद बुरा माना जाता है

जो बहुत सारी समस्याओं का कारण बनता है। श्रापित दोष के कारण व्यक्ति का जीवन बिना किसी उद्देश्य के व्यर्थ चला जाता है और व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन पर प्रभाव पड़ता है, अन्य ग्रह के अच्छे प्रभाव को भी हटाया जा सकता है। इस प्रकार, श्रापित दोष के प्रभाव को दूर करने के लिए, व्यक्ति को श्रापित दोष निवारण पूजा करनी होती है। यदि पूजा नहीं की जाती है, तो यह दोष अगले जन्म में भी जारी रह सकता है।

यदि शनि और राहु की युति कुंडली के पहले, चौथे, सातवें, आठवें या बारहवें भाव में हो तो नकारात्मक प्रभाव उच्च स्तर पर होगा और यदि यह तीसरे, छठे या ग्यारहवें भाव में हो तो इस दोष के कारण व्यक्ति को कम कष्ट होगा। . शनि और राहु की युति व्यक्ति को बुद्धिमान बनाती है और पेशेवर जीवन में सफल बनाती है लेकिन दोष व्यक्ति को अशुभ बनाता है और किसी भी गतिविधि में सफल नहीं हो पाता है। श्रापीर दोष के कारण व्यक्ति को निष्फल वैवाहिक जीवन, संतान संबंधी समस्या, परिवार में विवाद, अप्राकृतिक मृत्यु आदि कष्ट हो सकते हैं।

श्रापित दोष का अनुकूल प्रभाव :-

राहु अपरंपरागत और नवीनता का प्रतिनिधित्व करता है, और शनि कड़ी मेहनत, दृढ़ संकल्प है। जब दोनों मिल जाते हैं, तो सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ऊर्जाएं भी एक साथ आती हैं। ये लोग उच्च बुद्धि के होते हैं। वे समाज के नियमों का पालन नहीं करते हैं। कभी-कभी वह व्यक्ति जो बहुत जमीनी स्तर से उच्च स्तर तक बढ़ गया है, उसके पास यह संयोजन होता है।
कुछ धार्मिक नेता जिन्होंने समाज के कानूनों का खंडन किया है, उन्होंने यह संयोजन देखा है यदि इसमें बृहस्पति का लाभकारी पहलू है।
राहु और शनि व्यक्ति को अत्यधिक नवीन बनाते हैं। वे किसी विषय की गहराई में जाते हैं और उसमें से कुछ नया रचते हैं।

श्रापित योग का नकारात्मक प्रभाव :-

  • राहु भ्रम और भ्रम को दर्शाता है। शनि व्यक्ति को निराश करता है और कठिन संघर्ष करता है। यह संयोजन निर्णय शक्ति की कमी पैदा करता है या किसी व्यक्ति को गलत निर्णय लेने के लिए मजबूर करता है।
  • यदि शनि या राहु सप्तम भाव या विवाह भाव से जुड़ा हो, तो यह युति व्यक्ति के जीवन में तलाक के मामले के जोखिम को बढ़ाएगी। जातक विधुर या विधवा हो सकता है।
  • यदि इसका प्रभाव पंचम भाव पर पड़ता है, तो गर्भपात या गर्भावस्था के दौरान समस्या होने की संभावना रहती है।
  • यदि चतुर्थ भाव या द्वितीय भाव का प्रभाव हो तो परिवार में बार-बार झगड़े होते रहेंगे। माता-पिता के साथ संबंध खराब होंगे।
  • यदि दसवां भाव प्रभावित हो तो जातक को अपने करियर में संतुष्टि महसूस करने की आवश्यकता होगी। लगातार बेचैनी की अनुभूति होगी और कड़ी मेहनत के बावजूद उसे उसका प्रतिफल नहीं मिलेगा।

श्रापित योग के उपाय :-

  • शनिवार के दिन चावल पकाएं। मछली और कौवे को राइस बॉल खिलाएं। पक्षियों को भोजन और पानी खिलाने से भी मदद मिलेगी।
  • माता-पिता और उत्पीड़ित व्यक्ति की देखभाल करने से भी मदद मिलेगी। नौकरानियों, मजदूरों के साथ हमेशा आदर का व्यवहार करें। उनके साथ गलत व्यवहार न करें।
  • भिखारियों को कंबल दान करने से भी श्रापित योग का नकारात्मक प्रभाव कम होगा।
  • सबसे प्रभावी उपायों में से एक है श्री रामचरित मानस का पाठ। भगवान हनुमान की पूजा और हनुमान चालीसा का पाठ भी श्रापित योग के प्रभाव को कम करने में मदद करता है।
  • शार्पिट योग का सबसे अच्छा उपाय है अपने कर्म को सही करना। भले ही आपको अपने जीवन में संघर्ष का सामना करना पड़े। सही रास्ते से मत हटो।

जो भी व्यक्ति शनि राहु द्वारा शापित दोष निवारण पूजा करवाना चाहते हैं, उनके लिए हमारे संस्थान के विद्वान पंडितों द्धारा शनि राहु द्वारा शापित दोष निवारण पूजा से सम्बंधित मंत्रो का जाप किया जाएगा | शनि राहु द्वारा शापित दोष निवारण पूजा 2–3 घंटे तक पूरे विधि विधान से सम्पन्न की जाएगी | आपको साथ में हमारे पंडित जी द्धारा बताये गए मन्त्रों का जाप तथा नियमों का पालन करना चाहिए । पूजा सम्पन्न होने के पश्चात पंडित जी द्धारा आपको आशीर्वाद दिया जाता हैं इस पूजा में शनि राहु द्वारा शापित दोष निवारण से संबंधित जो यन्त्र रखा जाता हैं | वो यन्त्र आपको भिजवाया जाएगा | उस यन्त्र को आप अपने पूजा घर में स्थापित कर प्रतिदिन पंडित जी द्धारा बताए गए मंत्रो का जाप , दर्शन अवश्य करना चाहिए तथा इस दोष से मुक्ति के लिए आपको प्रार्थना करनी चाहिए |

ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली जी शनि राहु द्वारा शापित दोष निवारण पूजा के उपायों की व्याख्या और मार्गदर्शन करती हैं। यदि आप शनि राहु शापित दोष के लिए पूजा करना चाहते हैं, तो ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली भारत में सबसे अच्छा विकल्प है।

पूजा के संबंध में किसी भी सहायता या भ्रम के लिए, नीचे क्लिक करके हमसे संपर्क करें। आप हमें इस नंबर पर व्हाट्सएप भी कर सकते हैं। हमारी टीम आपकी सहायता के लिए हमेशा मौजूद है।

Contact : +918955658362 | Email: [email protected] | Click below on Book Now
Subscribe on YouTube – Nidhi Shrimali

Shopping cart

Stock Clearance Sale 2023 is Live Now : Use Coupon Code SCS23 & Get 30% Off.

Call Us
9571122777
Shop
0 items Cart
My account