निवारण पूजा 1 1 | Panditnmshrimali

Shani-Mangal Angarak Dosh Nivaran Pooja


Shani-Mangal Angarak Dosh Nivaran Pooja  – This Pooja will be done through our Vidhavan Pandits. This puja can be done online (video call) or offline (at your place).

Hanumanji is said to be the living deity of Kali Yuga. According to astrology, if Saturn and Mars are giving inauspicious results in a person’s birth chart, then worshipping Hanumanji can solve their problems to a great extent. Some remedies related to Hanuman ji should be taken for the prevention of Shani’s half-and-half and Mangal dosha.

1. Go to a Hanuman temple on Tuesday and Saturday and sit there and recite Hanuman Chalisa 11 or 21 times, it removes the troubles related to Mars and Shani.

2. If there is Mangal or Angarak dosha in the birth chart, then offer Chola to Hanuman ji with full devotion and devotion till 11th Tuesday. This may reduce the problems a bit.

3. If you are troubled by Shani’s half-century or Daiya, then on every Saturday, after bathing in the Hanuman temple in the evening, wear pure clothes and make five flour lamps sitting in the temple and light them in front of Hanumanji.

4. To reduce the troubles of life, recite Hanuman Ashtak or chant five rounds of the mantra Om Hanumate Namah. Offer jaggery-gram to Hanumanji and pray for freedom from your troubles.

5. Peace of Navagrahas can also be done by worshipping Hanuman ji. For this, offer a lot of water to Hanumanji every day and take vermilion from his statue and apply it to your head.

6. Offer a garland of hibiscus flowers to Hanumanji every Tuesday to strengthen the Sun.

7. To get success, every Tuesday or Saturday, sit in the Hanuman temple and recite Sundarkand.

Do this puja from astrologer Nidhi ji Shrimali at a very nominal cost to Shani Mangal Angarak Dosh Nivaran Puja as soon as possible.

The person who wants to get worship done, Pandit ji already takes a resolution in his name and as we all know, every worship or auspicious work of Lord Ganesha is always done. So Shani Mangal Angarak Dosh Nivaran Puja also starts with the Abhishek of Lord Ganesha, we need to please him first.

Pandit ji will worship the Navagrahas and after that, he will appease the 12 deities (mothers), one of which will be your Kuldevi.

Mantras related to Shani Mangal Angarak Dosh Nivaran Puja will be chanted by Pandit ji. Shani Mangal Angarak Dosh Nivaran Puja will be done for 2 – 3 hours. This pooja will be performed by 2 – 3 pundits with complete rituals. After the puja after the havan, he will appease the 12 deities (mothers), one of whom will be your Kuldevi.

In the end, the main Havan of Puja begins, in which Panditji starts chanting mantras for you and you should chant the mantras and follow the rules as given by our Panditji. After the completion of the puja, you are blessed by Pandit ji.

The yantras related to worship are kept in this havan. That device will be sent to you. After installing that yantra in your house of worship, you must recite the mantras told by Pandit ji every day, and you should pray to get rid of this defect.

Astrologer Nidhi ji Shrimali ji explains and guides the proper Shani Mangal Angarak Dosh Nivaran Puja remedies. If you want to do Shani Mangal Angarak Dosh Nivaran Puja, then astrologer Nidhi ji Shrimali is the best choice in India.

For any assistance or confusion regarding Puja, contact us by clicking below. You can also WhatsApp us on this number. Our team is always there to assist you.

 

शनि-मंगल अंगारक दोष निवारण पूजा


शनि-मंगल अंगारक दोष निवारण पूजा – यह पूजा हमारे विधान पंडितों के माध्यम से की जाएगी। यह पूजा ऑनलाइन (वीडियो कॉल) या ऑफलाइन (आपके स्थान पर) की जा सकती है।

हनुमानजी को कलियुग के जीवित देवता कहा जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में शनि और मंगल अशुभ फल दे रहे हैं तो हनुमानजी की पूजा करने से उनकी समस्याओं का काफी हद तक समाधान हो सकता है। शनि की साढ़ेसाती और मंगल दोष की रोकथाम के लिए हनुमान जी से जुड़े कुछ उपाय करने चाहिए।

1. मंगलवार और शनिवार को किसी हनुमान मंदिर में जाकर वहां बैठकर 11 या 21 बार हनुमान चालीसा का पाठ करें, इससे मंगल और शनि से संबंधित परेशानियां दूर होती हैं।

2. जन्म कुण्डली में मंगल या अंगारक दोष हो तो 11 मंगलवार तक हनुमान जी को पूरी श्रद्धा और भक्ति के साथ चोला चढ़ाएं। इससे परेशानी थोड़ी कम हो सकती है।

3. यदि आप शनि की साढ़ेसाती या दय्या से परेशान हैं तो प्रत्येक शनिवार को शाम के समय हनुमान मंदिर में स्नान करके शुद्ध वस्त्र धारण करें और मंदिर में बैठकर आटे के पांच दीपक बनाकर हनुमानजी के सामने जलाएं।

4. जीवन की परेशानियों को कम करने के लिए हनुमान अष्टक का पाठ करें या ओम हनुमते नमः मंत्र की पांच माला जाप करें। हनुमानजी को गुड़-चने का भोग लगाएं और अपने कष्टों से मुक्ति की प्रार्थना करें।

5. हनुमान जी की पूजा करने से भी नवग्रहों की शांति प्राप्त की जा सकती है। इसके लिए प्रतिदिन हनुमानजी को ढेर सारा जल अर्पित करें और उनकी प्रतिमा से सिंदूर लेकर अपने सिर पर लगाएं।

6. सूर्य को मजबूत करने के लिए हर मंगलवार को हनुमानजी को गुड़हल के फूलों की माला चढ़ाएं।

7. सफलता पाने के लिए हर मंगलवार या शनिवार को हनुमान मंदिर में बैठकर सुंदरकांड का पाठ करें।

इस पूजा को ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली से बहुत ही मामूली कीमत पर जल्द से जल्द शनि मंगल अंगारक दोष निवारण पूजा करें।

जो व्यक्ति पूजा करवानां चाहते है पंडित जी पहले से ही उसके नाम पर संकल्प लेते है और जैसा कि हम सभी जानते हैं, भगवान गणेश की हर पूजा या शुभ कार्य हमेशा किया जाता है। तो शनि मंगल अंगारक दोष निवारण पूजा भी भगवान गणेश के अभिषेक के साथ शुरू होती है, हमें पहले उन्हें प्रसन्न करने की आवश्यकता है।

पंडित जी नवग्रहों की पूजा करेंगे और उसके बाद, वह 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे , जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

पंडित जी के द्धारा शनि मंगल अंगारक दोष निवारण पूजा से सम्बंधित मंत्रो का जाप किया जाएगा | शनि मंगल अंगारक दोष निवारण पूजा 2 – 3 घंटे तक की जाएगी | यह पूजा 2 – 3 पंडितो द्धारा पूरे विधि विधान से सम्पन्न की जाएगी | पूजा के बाद हवन बाद, वह 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे , जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

आखिर में पूजा का मुख्य हवन शुरू होता है, जिसमें पंडित जी आपके लिए मंत्रों का जाप करने लगते हैं और आपको साथ में हमारे पंडित जी द्धारा बताये गए मन्त्रों का जाप तथा नियमों का पालन करना चाहिए । पूजा सम्पन्न होने के पश्चात पंडित जी द्धारा आपको आशीर्वाद दिया जाता हैं |

इस हवन में पूजा से संबंधित जो यन्त्र रखा जाता हैं | वो यन्त्र आपको भिजवाया जाएगा | उस यन्त्र को आप अपने पूजा घर में स्थापित कर प्रतिदिन पंडित जी द्धारा बताए गए मंत्रो का जाप , दर्शन अवश्य करना चाहिए तथा इस दोष से मुक्ति के लिए आपको प्रार्थना करनी चाहिए |

ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली जी उचित शनि मंगल अंगारक दोष निवारण पूजा उपायों की व्याख्या और मार्गदर्शन करती हैं। यदि आप शनि मंगल अंगारक दोष निवारण पूजा करना चाहते हैं, तो ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली भारत में सबसे अच्छी पसंद हैं।

पूजा के संबंध में किसी भी सहायता या भ्रम के लिए, नीचे क्लिक करके हमसे संपर्क करें। आप हमें इस नंबर पर व्हाट्सएप भी कर सकते हैं। हमारी टीम आपकी सहायता के लिए हमेशा मौजूद है।

Contact : +918955658362 | Email: [email protected] | Click below on Book Now
Subscribe on YouTube – Nidhi Shrimali