Santan Prapti Nivaran Pooja

Santan Prapti Nivaran Pooja

Child attainment worship – This worship will be done through our vidhwan Pandits. This Pooja can be done online (video call) or offline (at your place).

The fifth house in the horoscope represents the causative elements related to children. Along with this, the planet Jupiter is also considered as the main factor for getting children. According to astrology, if the fifth house, fifth house and Jupiter are affected by the malefic effects of malefic planets, then obstacles arise in the attainment of child happiness. On the other hand, the malefic effects of Saturn, Mars and Ketu can cause physical pain. Similarly, due to other reasons in the horoscope, there is a delay in the attainment of child happiness.

If Panchmesh is afflicted in the Ascendant Kundli, then worship him. Worship the planet Jupiter to get child happiness. Donate jaggery on Thursday. To make the planet Jupiter strong, chant these mantras-

Devanam cha rishanam cha gurum kanchansannibham. Buddhibhutam Trilokesham Tan Namami Brihastam.
Om Grand Green Gram Sah Gurve Namah. Hi Gurve Namah. Brihaspataye Namah.

To overcome this, do child-acceptance worship from Pandit NM Shrimali at a very nominal cost as soon as possible.

The person who is doing the puja, already the pandit takes Sankalp in his name and as we all know, every puja or auspicious work is always done to Lord Ganesha. So the progeny puja also starts with the consecration of Lord Ganesha, we need to please him first.

Pandit ji will worship the Navagrahas and after that, he will appease the 12 deities (mothers), one of which will be your Kuldevi.

Mantras related to child birth worship will be chanted by Pandit ji. The progeny worship will be done for 2 – 3 hours. This pooja will be performed by 2 – 3 pundits with complete rituals. After the puja after the havan, he will appease the 12 deities (mothers), one of whom will be your Kuldevi.

In the end, the main Havan of Puja starts, in which Panditji starts chanting mantras for you and you should chant the mantras and follow the rules as given by our Panditji. After the completion of the puja, you are blessed by Pandit ji.

The yantras related to worship are kept in this havan. That device will be sent to you. After installing that yantra in your house of worship, you must recite the mantras told by Pandit ji every day, and you should pray to get rid of this defect.

Pandit NM Shrimali ji explains and guides the proper progeny puja remedies. If you want to do Puja for getting children, then Astrologer Pandit NM Shrimali Ji is the best option in India.

For any assistance or confusion regarding Puja, contact us by clicking below. You can also WhatsApp us on this number. Our team is always there to assist you.

 

Here are the easy solutions:-
  • After worship, keep the given yantra at your place of worship and worship.
  • Fasting should be done on Tuesday. You should visit Hanuman Mandir and chant Hanuman Chalisa in front of him. Wear a copper ring on the ring finger.
  • Non-vegetarians and alcohol or other intoxicants should be avoided.
  • Worship should be done to get children.
  • Keep water in a copper vessel near the pillow and pour it into the cactus plant in the morning.

संतान प्राप्ति पूजा

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्‌। उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृत

संतान प्राप्ति पूजा- यह पूजा हमारे विधान पंडितों द्वारा की जाएगी। यह पूजा ऑनलाइन (वीडियो कॉल) या ऑफलाइन (आपके स्थान पर) की जा सकती है।

कुडंली में पंचम भाव संतान से संबंधित कारक तत्वों को दर्शाता है। इसके साथ ही गुरु ग्रह को भी संतान प्राप्ति का मुख्य कारक माना जाता है। ज्योतिष अनुसार पंचमेश, पंचम भाव और गुरु क्रूर ग्रहों के दोष से प्रभावित हो जाएं तो संतान सुख की प्राप्ति में बाधाएं उत्पन्न होती हैं। वहीं शनि, मंगल व केतु के दुष्प्रभाव से शारीरिक कष्ट हो सकता है। इसी प्रकार से कुंडली में और भी अन्य कारणों से संतान सुख की प्राप्ति में देरी होती है।

यदि लग्न कुंडली में पंचमेश पीड़ित हैं तो उनकी आराधना करें। संतान सुख की प्राप्ति के लिए गुरु ग्रह की पूजा करें। गुरुवार के दिन गुड़ दान करें। गुरु ग्रह को मजबूत बनाने के लिए इन मंत्रों का जाप करें-

देवानां च ऋषिणां च गुरुं काञ्चनसन्निभम्। बुद्धिभूतं त्रिलोकेशं तं नमामि बृहस्पतिम्।।
ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरवे नमः। ह्रीं गुरवे नमः। बृं बृहस्पतये नमः।

इस पर काबू पाने के लिए जल्द से जल्द बहुत ही मामूली खर्चे पर पंडित निधि जी श्रीमाली से पूजन करवाएँ |

जो व्यक्ति पूजा कर रहा है, पहले से ही पंडित उसके नाम पर संकल्प लेता है और जैसा कि हम सभी जानते हैं, भगवान गणेश जी  की पूजा हर शुभ कार्य से पहले की जाती है , तो संतान प्राप्ति पूजा भी भगवान गणेश जी  की पूजा के  साथ शुरू होती है, हमें पहले उन्हें प्रसन्न करने की आवश्यकता है।

पंडित जी नवग्रहों की पूजा करेंगे और उसके बाद, वह 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे , जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

पंडित जी के द्धारा संतान प्राप्ति पूजा से सम्बंधित मंत्रो का जाप किया जाएगा | संतान प्राप्ति पूजा 2 – 3 घंटे तक की जाएगी | यह पूजा 2 – 3 पंडितो द्धारा पूरे विधि विधान से सम्पन्न की जाएगी | पूजा के बाद हवन बाद, वह 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे , जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

आखिर में पूजा का मुख्य हवन शुरू होता है, जिसमें पंडित जी आपके लिए मंत्रों का जाप करने लगते हैं और आपको साथ में हमारे पंडित जी द्धारा बताये गए मन्त्रों का जाप तथा नियमों का पालन करना चाहिए । पूजा सम्पन्न होने के पश्चात पंडित जी द्धारा आपको आशीर्वाद दिया जाता हैं |

इस हवन में पूजा से संबंधित जो यन्त्र रखा जाता हैं | वो यन्त्र आपको भिजवाया जाएगा | उस यन्त्र को आप अपने पूजा घर में स्थापित कर प्रतिदिन पंडित जी द्धारा बताए गए मंत्रो का जाप , दर्शन अवश्य करना चाहिए तथा इस दोष से मुक्ति के लिए आपको प्रार्थना करनी चाहिए |

पंडित एनएम श्रीमाली जी उचित संतान पूजा के उपाय बताते हैं और उनका मार्गदर्शन करते हैं। यदि आप संतान प्राप्ति के लिए पूजा करना चाहते हैं तो भारत में ज्योतिषी पंडित एनएम श्रीमाली जी सबसे उत्तम विकल्प हैं।

पूजा के संबंध में किसी भी सहायता या भ्रम के लिए, नीचे क्लिक करके हमसे संपर्क करें। आप हमें इस नंबर पर व्हाट्सएप भी कर सकते हैं। हमारी टीम आपकी सहायता के लिए हमेशा मौजूद है।

 

 

ये हैं आसान उपाय:-

  

  • पूजा के बाद दिए गए यंत्र को अपने पूजा स्थल पर रखें और पूजा करें।
  • मंगलवार के दिन व्रत करना चाहिए। आपको हनुमान मंदिर जाना चाहिए और उनके सामने हनुमान चालीसा का जाप करना चाहिए। अनामिका में तांबे की अंगूठी पहनें।
  • मांसाहारी और शराब या अन्य नशीले पदार्थों से बचना चाहिए।
  • संतान प्राप्ति के लिए पूजा करनी चाहिए।
  • तकिए के पास तांबे के बर्तन में पानी रखें और सुबह इसे कैक्टस के पौधे में डालें।

Connect with us at Social Network:-

Shopping cart
Call Us
9571122777
Shop
0 items Cart
My account