Rahu Dosh Nivaran Pooja | राहु दोष निवारण पूजा | By Astrologer Nidhi Ji Shrimali |

निवारण पूजा 3 1 1 | Panditnmshrimali

Rahu Dosh Nivaran Pooja


Rahu Dosh Nivaran Puja – This Puja will be done through our Vidhavan Pundits. This page can be done online (video call) or offline (at your place).

Rahu planet is considered a cruel planet. The planet Rahu is said to be the cause of harsh speech, gambling, evil deeds, skin diseases, religious travels etc. If Rahu sits in an inauspicious place in the person’s horoscope, or is weak or afflicted by any other planet in the horoscope, then it gives negative results to the person. The planet Rahu does not own any sign, but it is exalted in Gemini and it is debilitated in Sagittarius.

Effective and weak Rahu in the horoscope:-

The effect of the planet Rahu in the horoscope gives results according to their position. It is said that if Rahu is placed in an auspicious position in the horoscope of a person, then luck is brightened. Along with this, the person has a sharp intellect. The person gets respect and fame in society.

If there is a weak Rahu in the horoscope, then the person gets negative results from it. This creates anomalies within the native. Due to the influence of weak Rahu, the person gives birth to a feeling of deceit and fraud. Along with this, the person starts consuming meat and liquor. The person deviates from the path of religion.

Rahu Planet Remedy :-

  • If Rahu is in an auspicious state in the horoscope of a person, then he should do work related to rubber business, lottery, commission, agent, the job of the publicity department, municipality, politics.
  • Due to the dose of Rahu, a person often suffers from insomnia, stomach diseases, brain-related diseases and mental worries. Due to the influence of Rahu, the person also has bone and skin diseases etc. This often makes people lazy.
  • To avoid the ill effects of Rahu, first of all, you should change your habits. Like he should never get angry while staying away from all kinds of intoxicants.
  • To get the blessings of Rahu, one should donate mica, iron, sesame, blue cloth, copper sheet, seven types of paddy, urad, onyx, black flowers, oil, blanket, etc.
  • To remove the troubles related to Rahu, try to donate to a disabled person. Rahu is soon pleased by donating the same to a disabled person as he needs.

To remove this defect, perform Rahu Dosh Nivaran Puja at a very nominal cost from astrologer Nidhi ji Shrimali as soon as possible.

The person who wants to get worship done, Pandit ji already takes a resolution in his name and as we all know, every worship or auspicious work of Lord Ganesha is always done. So the Rahu Dosh Nivaran Puja also starts with the Abhishek of Lord Ganesha, we need to please him first.

Pandit ji will worship the Navagrahas and after that, he will appease the 12 deities (mothers), one of which will be your Kuldevi.

Mantras related to Rahu Dosh Nivaran Puja will be chanted by Pandit ji. Rahu Dosh Nivaran Puja will be done for 2 – 3 hours. This pooja will be performed by 2 – 3 pundits with complete rituals. After the puja after the havan, he will appease the 12 deities (mothers), one of whom will be your Kuldevi.

In the end, the main Havan of Puja starts, in which Panditji starts chanting mantras for you and you should chant the mantras and follow the rules as given by our Panditji. After the completion of the puja, you are blessed by Pandit ji.

The yantras related to worship are kept in this havan. That device will be sent to you. After installing that yantra in your house of worship, you must recite the mantras told by Pandit ji every day, and you should pray to get rid of this defect.

Astrologer Nidhi ji Shrimali ji explains and guides proper Rahu Dosh Nivaran Puja remedies. If you want to do Pooja for Rahu dosha, then astrologer Nidhi ji Shrimali is the best choice in India.

For any assistance or confusion regarding Puja, contact us by clicking below. You can also WhatsApp us on this number. Our team is always there to assist you.

राहु दोष निवारण पूजा


राहु दोष निवारण पूजा – यह पूजा हमारे विधान पंडितों के माध्यम से की जाएगी। यह पूजा ऑनलाइन (वीडियो कॉल) या ऑफलाइन (आपके स्थान पर) की जा सकती है।

ज्योतिष शास्त्र में राहु को एक पापी ग्रह माना गया है जो जीवन में बाधाएं पैदा करता है | कुंडली के अनुसार राहु जातकों को शुभ और अशुभ दोनों ही परिणाम देता है | कुंडली में राहु और केतु के कारण काल सर्प दोष का योग बनता है | राहु की वजह से होने वाली बीमारियों और बाधाओं से बचने के लिए राहु यंत्र की पूजा करें |

कुंडली में राहु दोष के प्रभाव- कुंडली में राहु दोष होने से मानसिक तनाव बढ़ता है | इसके अलावा आर्थिक नुकसान, तालमेल की कमी और ग्रहों का अशुभ प्रभाव पड़ने लगता है | कहा जाता है कि राहु का शुभ प्रभाव व्यक्ति को रंक से राजा बना देता है, वहीं इसका अशुभ फल मिलने से व्यक्ति राजा से रंक बन जाता है. कुंडली में राहु कमजोर होने पर इसकी शांति के उपाय करने चाहिए. इससे कष्टों में कमी आती है और बाधाएं दूर होने लगती हैं |

राहु ग्रह उपाय :-

  • यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में राहु शुभ स्थिति में हो तो उसे रबर व्यवसाय, लॉटरी, कमीशन, एजेंट, प्रचार विभाग, नगर पालिका, राजनीति से संबंधित कार्य करना चाहिए।
  • राहु के दोष के कारण व्यक्ति को अक्सर अनिद्रा, पेट के रोग, मस्तिष्क संबंधी रोग और मानसिक चिंता का सामना करना पड़ता है। राहु के प्रभाव से व्यक्ति को
  • हड्डी और त्वचा के रोग आदि भी होते हैं। यह अक्सर लोगों को आलसी बना देता है।
  • राहु के दुष्प्रभाव से बचने के लिए सबसे पहले आपको अपनी आदतों में बदलाव करना चाहिए। जैसे उसे हर तरह के नशे से दूर रहकर कभी गुस्सा नहीं करना चाहिए।
  • राहु की कृपा पाने के लिए अभ्रक, लोहा, तिल, नीला कपड़ा, तांबे की चादर, सात प्रकार के धान, उड़द, गोमेद, काले फूल, तेल, कंबल आदि का दान करना चाहिए।
  • राहु से संबंधित परेशानियों को दूर करने के लिए किसी विकलांग व्यक्ति को दान देने का प्रयास करें। राहु जल्द ही विकलांग व्यक्ति को उसकी जरूरत के अनुसार दान करने से प्रसन्न होता है।
  • इस दोष को दूर करने के लिए जल्द से जल्द ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली से बहुत ही मामूली कीमत पर राहु दोष निवारण पूजा करें।
  • राहु की वजह से होने वाली बीमारियों और बाधाओं से बचने के लिए राहु यंत्र की पूजा करें |

जो व्यक्ति पूजा करवानां चाहते है पंडित जी पहले से ही उसके नाम पर संकल्प लेते है और जैसा कि हम सभी जानते हैं, भगवान गणेश की हर पूजा या शुभ कार्य हमेशा किया जाता है। तो राहु दोष निवारण पूजा भी भगवान गणेश के अभिषेक के साथ शुरू होती है, हमें पहले उन्हें प्रसन्न करने की आवश्यकता है।

पंडित जी नवग्रहों की पूजा करेंगे और उसके बाद, वह 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे , जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

पंडित जी के द्धारा राहु दोष निवारण पूजा से सम्बंधित मंत्रो का जाप किया जाएगा | राहु दोष निवारण पूजा 2 – 3 घंटे तक की जाएगी | यह पूजा 2 – 3 पंडितो द्धारा पूरे विधि विधान से सम्पन्न की जाएगी | पूजा के बाद हवन बाद, वह 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे , जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

आखिर में पूजा का मुख्य हवन शुरू होता है, जिसमें पंडित जी आपके लिए मंत्रों का जाप करने लगते हैं और आपको साथ में हमारे पंडित जी द्धारा बताये गए मन्त्रों का जाप तथा नियमों का पालन करना चाहिए । पूजा सम्पन्न होने के पश्चात पंडित जी द्धारा आपको आशीर्वाद दिया जाता हैं |

इस हवन में पूजा से संबंधित जो यन्त्र रखा जाता हैं | वो यन्त्र आपको भिजवाया जाएगा | उस यन्त्र को आप अपने पूजा घर में स्थापित कर प्रतिदिन पंडित जी द्धारा बताए गए मंत्रो का जाप , दर्शन अवश्य करना चाहिए तथा इस दोष से मुक्ति के लिए आपको प्रार्थना करनी चाहिए |

ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली जी राहु दोष निवारण पूजा के उचित उपायों की व्याख्या और मार्गदर्शन करती हैं। यदि आप राहु दोष के लिए पूजा करना चाहते हैं, तो ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली भारत में सबसे अच्छी पसंद हैं।

पूजा के संबंध में किसी भी सहायता या भ्रम के लिए, नीचे क्लिक करके हमसे संपर्क करें। आप हमें इस नंबर पर व्हाट्सएप भी कर सकते हैं। हमारी टीम आपकी सहायता के लिए हमेशा मौजूद है।

Contact : +918955658362 | Email: [email protected] | Click below on Book Now
Subscribe on YouTube – Nidhi Shrimali

Shopping cart
Shop
0 items Cart
My account