Astro Gyaan|Astrology Tips|Featured

Parad Gomukh Shivling | पारद गोमुख शिवलिंग |

p g s | Panditnmshrimali

पारद गोमुख शिवलिंग


पारद शिवलिंग की अब तक की सबसे नई किस्म है। हम सभी जानते हैं कि शिवलिंग की पूजा करने से हमें जीवन में समृद्धि, धन और अच्छे परिणाम मिलते हैं। तो हमने हाल ही में इस नए पारद गोमुख शिवलिंग का विमोचन किया। Parad Gomukh Shivling

पारद शिवलिंग की पूजा से मिलती है लक्ष्मी मां की कृपा

शिवपुराण में बताया गया है कि अन्य शिवलिंगों के अपेक्षा पारद शिवलिंग की पूजा करने से हजार गुना फल मिलता है। बताया जाता है कि पारद की उत्पत्ति भगवान शिव के अंश से हुई थी और घर में इसको रखने पर भगवान शिव, माता लक्ष्मी और कुबेर देवता का स्थायी वास होता है।  Parad Gomukh Shivling

कैसे करें पारद शिवलिंग की नित्य पूजा

शिवलिंग को घर के मन्दिर में उत्तर की ओर मुख करके स्थापित करें। शिवपूजा में पवित्रता का अत्यन्त महत्त्व है, अत: स्नान करके रुद्राक्ष व भस्म लगाकर शिवपूजा करने से उमामहेश्वर की प्रसन्नता प्राप्त होती है। शास्त्रों में लिखा है कि जिस इष्टदेवता की उपासना करनी हो उस देवता के स्वरूप में स्थित होना चाहिए।

पूजन के लिए पूर्व दिशा की ओर मुख करके, आसन पर बैठकर शिवलिंग की पूजा करें। शिवलिंग को एक बड़े कटोरे या थाली में रखकर प्रतिदिन ‘नम: शिवाय’ या प्रणव का जप करते हुए जल, कच्चा दूध या गंगाजल से स्नान कराएं। पारद शिवलिंग को विशेष दिनों में (श्रावणमास, सोमवार, प्रदोष, मासिक शिवरात्रि, पुष्य नक्षत्र या त्योहारों पर) पंचामृत से स्नान कराना चाहिए। फिर चंदन, अक्षत, इत्र, सुगन्धित फूल या श्वेत फूल (सफेद आक) चढ़ाएं। शिवपूजा में बेलपत्र सबसे महत्वपूर्ण हैं। बेलपत्र इस मन्त्र से चढ़ाएं–

त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रिधायुतम्।
त्रिजन्म पापसंहारं बिल्वपत्रं शिवार्पणम्।।

अर्थात्–तीन दल वाला, सत्त्व, रज एवं तमरूप, सूर्य, चन्द्र व अग्नि–इन तीन नेत्ररूप, तीन आयुधरूप, तथा तीनों जन्मों के पापों को नष्ट करने वाला यह बिल्वपत्र मैं भगवान शिव को अर्पण करता हूँ।

धूप, दीप से आरती कर क्षमा-प्रार्थना करें। प्रतिदिन नियमपूर्वक शिवलिंग का दर्शन कर नमस्कार करने से भी मनुष्य का कल्याण होता है। क्षमा-प्रार्थना इस मन्त्र से करें–

पापोऽहं पापकर्माहं पापात्मा पापसम्भव:।
त्राहि मां पार्वतीनाथ सर्वपापहरो भव।।

शिव के निर्माल्य को पेड़ पौधों पर चढ़ा दें, उससे पैर नहीं लगने चाहिए। पारद या नर्मदेश्वर शिवलिंग की पूजा में आवाहन और विसर्जन नहीं होता है।

पारद शिवलिंग की पूजा के शुभफल

  • पारद शिवलिंग की पूजा से धन-ऐश्वर्य, भोग और मोक्ष प्राप्त होता है।
  • गन्ने के रस से पारद शिवलिंग का अभिषेक करने से जन्म-जन्मान्तर की दरिद्रता दूर हो जाती है।
  • भगवान शंकर ज्ञान के देवता हैं। लिंगाष्टक में कहा गया है–’बुद्धिविवर्धनकारण लिंगम्’, अत: शिवलिंग पूजा बुद्धि का वर्धन करती है, तथा साधक को अक्षय विद्या प्राप्त हो जाती है।
  • पारद शिवलिंग की पूजा से अनेक जन्मों के संचित पाप नष्ट हो जाते हैं।
  • पारद शिवलिंग की पूजा सभी मनोरथों को पूर्ण करने वाली व अपार सुख देने वाली है।
  • पारद शिवलिंग पर यदि रोजाना ‘त्र्यम्बकं मन्त्र’ बोलते हुए जल की धारा चढ़ाई जाए तो रोगों से छुटकारा मिल जाता है।

स्कन्दपुराण में कहा गया है कि चातुर्मास्य में जो पंचामृत से पारद शिवलिंग को स्नान कराता है, उसका पुनर्जन्म नहीं होता। जो शिवलिंग पर शहद से अभिषेक करता है उसके सभी दु:ख दूर हो जाते हैं, और जो चातुर्मास्य में शिवजी के आगे दीपदान करता है, वह शिवलोक को प्राप्त होता है।

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि नंदी (गाय) भगवान शिव की प्रिय हैं। और इसके बाद इसे इस शिवलिंग से जोड़ दिया जाता है। पारद गोमुख शिवलिंग पर पूजा करके कोई भी भगवान शिव को प्रभावित कर सकता है। इस शिवलिंग में 40% शुद्ध पारद (बुध) है और शेष अन्य सामग्री है। लेकिन इस शिवलिंग को हमारे प्रसिद्ध ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली द्वारा प्रतिदिन सावन पूजा 2020 में सक्रिय किया गया है। Parad Gomukh Shivling

पारद शिवलिंग से धन, अन्न, स्वास्थ्य, पद, मान-प्रतिष्ठा, सुख आदि की भी प्राप्ति होती है। पारद शिवलिंग से नवग्रहों के नकारात्मक प्रभावों का भय भी दूर होता है। भगवान शिव के शिवलिंग की पूजा करने से निःसंतान दंपत्ति को भी संतान की प्राप्ति होती है। पारद गोमुख शिवलिंग की पूजा से प्राप्त पुण्य की मात्रा पवित्र शिवलिंग के दर्शन से ही मिलती है। पारद शिवलिंग बहुत गुणी और भाग्यशाली है। पारद शिवलिंग के महत्व का वर्णन ब्रह्मपुराण, ब्रह्मवेवर्त पुराण, शिव पुराण, उपनिषद आदि कई ग्रंथों में किया गया है। पारद शिवलिंग से अकाल मृत्यु का भय दूर होता है। रुद्र संहिता में कहा गया है कि रावण रसायन शास्त्र का विद्वान और तंत्र-मंत्र का विद्वान था। उन्होंने रसराज पारे के लिंगम का निर्माण और पूजा करके भी शिव को प्रसन्न किया। Parad Gomukh Shivling

 

Note: Daily, Weekly, Monthly, Annual Horoscope, and Festival Videos are being provided by Astrologer Nidhi JI Shrimali on her YouTube Channel, almost free.

To know daily, weekly, monthly, annual horoscopes and to end your problems related to your life click on (Kundali Vishleshan) or contact Guru Maa Nidhi Ji Shrimali WhatsApp No. 9929391753, E-Mail- [email protected]

Back to list

Leave a Reply

Your email address will not be published.