Astro Gyaan|Astrology Tips|Featured|Numerology

Navratri Me Kese Badaye Apna Vyapar

Blue and White Calm Education YouTube Thumbnail 1 | Panditnmshrimali

Navratri Me Kese Badaye Apna Vyapar

 


  Navratri Me Kese Badaye Apna Vyapar  व्यापार में उनत्ति के लिए यहाँ कुछ वशिष्ट उपायों का विवरण दिया जा रहा है |जो अलग अलग राशियों से सम्बंदित है लोग अपने व्यापार को बढाने के  उपाय नवरात्री जैसे शुभ पर्व पर करके  उचित लाभ प्राप्त कर सकते है जो किसी कारण नवरात्री पर नहीं कर पाए वे रामनवमी, हनुमान जयंती व् अक्षय त्रित्या पर उपाय कर लाभान्वित हो सकते है|
१.मेष राशी:-

प्रथम नवरात्रि को व्यापार स्थल पर कांच या मिटटी के पात्र में जल भरकर रखे| लोहे स्टील या अन्य धातु  जैसे वाटर कूलर  जिसमे जग लगी हो उसमे  पानी भरकर नहीं रखना चाहिए मीठा खाकर जल पीकर यात्रा करना शुभकारी है, कांच के बर्तन में थोडा पानी डालकर पाँच सफ़ेद फूल रखे, पानी बदलते रहे|
२.वृषभ राशी :-

कार्य स्थल पर चमकीले एवम हलके रंगों का प्रयोग कर साज सज्जा करे, कार्य स्थल पर नवरात्री के किसी भी दिन एक दर्पण ऐसे दीवार पर लगाना चाहिए जो की बाहर से दिखाए नहीं दे परन्तु प्रवेश करते ही उस दर्पण पर दृष्टि पड़े |दरवाजे के सामने की बजाय किसी कोने में बैठने का स्थान होना चाहिए|Navratri Me Kese Badaye Apna Vyapar 
३.मिथुन राशी :-

 नवरात्री के दुसरे दिन हरे पत्तो सहित फूल लाकर अपनी दूकान या संस्था के ऑफिस में रखे , ऑफिस में आवाज़ करने वाला कोई भी इलेक्ट्रोनिक्स उपकरण नहीं रखे| उत्तेर या पूर्व की दीवार पर डालफिन या पेंडुलम घडी लगाये| नवरात्री में दूकान या संस्थान के बाहर पाँच हरे पोधे लगाये|
४.कर्क राशी:-

किसी भी पवित्र नदी या सरोवर का जल कांच के पात्र में भरकर नवरात्री के किसी भी दिन दूकान के पूजा घर रखना चाहिए| कार्य सिद्धि यन्त्र नवरात्री में अपने पूजा घर में रखकर प्रतिदिन दर्शन करे, पूर्णिमा को अपनी दूकान के प्रवेश द्वार के दोनों और कुछ गंगा जल अवस्य छिडके|
५.सिंह राशी:-

दूकान में इस प्रकार से बैठना चाहिए की बाहर से यक्ति का मुह दिख्याई नहीं दे अष्टमी  के दिन मंदिर में मिटटी का शेर चढ़ाना चाहिए लोहे या किसी भी धातु के फ़र्निचर का प्रयोग बहूत कम करना चाहिए प्रवेश द्वार पर रोली से जय माँ दुर्गा अंकित करे दूकान में प्रतिदिन भोग लगाये|
६.कन्या राशी:-

प्रथम नवरात्री को माँ दुर्गा का चित्र अपने दूकान या संस्थान के मंदिर लगाये व्यापार सुरु करने से पहले पुरे नवरात्री दुर्गा चालीसा का पथ करे लकड़ी का फर्नीचर प्रयोग में ले आस्ट्मी को कन्या भोज कराकर उनका आशीर्वाद   ले|Navratri Me Kese Badaye Apna Vyapar 
७.तुला राशी:-

संस्थान के मध्ये में बैठना चाहिए सात श्री फल लाल वस्त्र में बांधकर कार्य स्थल की अलमारी में अष्टमी  को रख दे उस अलमारी में अन्य सामान नहीं रखे सुक्रवार  से शुरूकर सुगंदित फूल लाकर पूजा घर में चडाने चाहिएदूकान में सफाई का पूरा ध्यान रखे|
८.वर्श्चिक राशी:-

नवरात्री के प्रथम दिन मुख्य द्वार के दोनों और सिन्दूर से स्वस्तिक बनाये दूकान के प्रथम मंगलवार, शनिवार को लाल फूल चढ़ाये नवरात्री के पहले दिन किसी बुजुर्गे के पाव छुकर आये प्रत्येक मंगलवार को गंगा जल लाकर दूकान के सभी कोनो में फूल द्वारा छिडके|
९.धनु राशी:-

धन स्थान पर सफ़ेद चन्दन की लकड़ी हलके गुलाबी रंग के कपडे में लपेटकर रखे तीसरे नवरात्री को दूकान मंदिर में गाय के दूध से बने घी में छोटी इलायची डालकर दीपक जलाये मुख्य द्वार के सामने न बैठे|गुरुवार के दिन पीले फूल मंदिर में चदाये धनदा यन्त्र व्यापार स्थल पर स्थापित करे।
१०.मकर राशी:-

नवरात्री के शनिवार को दूकान पर आये भिखारी को एक मुट्ठी काला तिल दे घोड़े की नाल मुख्य द्वार पर शाम के समय पीपल वृक्ष को छुआकर लगाये| व्यापार बहूत मंदा हो तो नवरात्री के शनिवार को मिटटी के घड़े पर दक्कन लगाकर टेप से मुह बांध कर दूकान में रखे बुधवार को प्रातकाल उसे बहते जल में प्रवाहित कर दे।  |Navratri Me Kese Badaye Apna Vyapar 
११.कुभ राशी:-

कार्य स्थल पर इस प्रकार बैठे की आगे का स्थान खुला हो शनिवार को मिटटी के कुलड़ में काले तिल डालकर अगले दिन किसी को दान में दे सजावट में लाल सफ़ेद रंग का प्रयोग करे| शनिवार को भिखारी को खाली हाथ नहीं जाने दे।Navratri Me Kese Badaye Apna Vyapar 
१२.मीन राशी :-

पहली नवरात्री को पूज्य व्यक्ति से आर्शीवाद लेकर तथा कार्य सिद्धि यन्त्र के दर्शन करके घर से निकलना चाहिए गुरुवार को कार्य स्थल पर आये साधू को दान अवस्य दे सफ़ेद चन्दन को पीले वस्त्र में बांधकर नवमी को दूकान की तिजोरी में रखे पहली नवरात्री को सफ़ेद कपडे का झंडा बनाकर पीपल के वृक्ष पर लगाये फिर प्रतिदिन जल चढ़ाये।Navratri Me Kese Badaye Apna Vyapar 

 

 

Note: Daily, Weekly, Monthly, and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Shrimali Ji, almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on (Kundali Vishleshan) or contact Pandit NM Shrimali  Whatsapp No. 9929391753, E-Mail- [email protected]

Connect with us at Social Network:-

Find us on Youtube     Find us on Facebook     Find us on Instagram     Find us on Twitter     Find us on Linkedin

 

Back to list

Leave a Reply

Your email address will not be published.