Mangal-Ketu Angarak Yog Nivaran Pooja | By Astrologer Nidhi Ji Shrimali |

निवारण पूजा 16 | Panditnmshrimali

Mangal-Ketu Angarak Yog Nivaran Pooja


Mangal Ketu Angarak Yog Nivaran Pooja  – This Puja will be done through our Vidhavan Pandits. This puja can be done online (video call) or offline (at your place).

Introduction :-

In Vedic astrology, Angarak dosha is formed when Mars and Ketu are in the same house in a person’s horoscope. The word “Angarak” means “fire to kill” Natives with Angarak dosha can be extremely angry, stubborn and violent. They may also face road accidents and skin diseases. Additionally, it can also create obstacles in career and relationships. However, the effect of Mangal-Ketu Angarak Dosha may vary depending on the position and degree between Mars and Ketu. Mangal Ketu Angarak Dosha Nivaran Puja is the most effective Vedic way to eliminate the bad effects of this dosha.

Following are the benefits of Mangal-Ketu Angarak Dosh Nivaran Puja:-

  • This worship removes the negative effects of Mangal Ketu Angarak Dosha, this worship controls pride and ego
  • This puja also helps in maintaining harmony and preventing family disputes.
  • This worship protects from accidents and misfortunes.
  • By this worship, your relationships remain happy.
  • By this worship, your relationships remain happy.

Do this puja from astrologer Nidhi ji Shrimali at a very nominal cost to Mangal Ketu Angarak Yog Nivaran Pooja as soon as possible.

The person who wants to get worship done, Pandit ji already takes a resolution in his name and as we all know, every worship or auspicious work of Lord Ganesha is always done. So Mangal Ketu Angarak Yog Nivaran Puja also begins with the consecration of Lord Ganesha, we need to please him first.

Pandit ji will worship the Navagrahas and after that, he will appease the 12 deities (mothers), one of which will be your Kuldevi.

Mantras related to Mangal Ketu Angarak Yoga Nivaran Puja will be chanted by Pandit ji. Mangal Ketu Angarak Yoga Nivaran Puja will be done for 2 – 3 hours. This pooja will be performed by 2 – 3 pundits with complete rituals. After the puja after the havan, he will appease the 12 deities (mothers), one of whom will be your Kuldevi.

In the end, the main Havan of Puja begins, in which Panditji starts chanting mantras for you and you should chant the mantras and follow the rules as given by our Panditji. After the completion of the puja, you are blessed by Pandit ji.

The yantras related to worship are kept in this havan. That device will be sent to you. After installing that yantra in your house of worship, you must recite the mantras told by Pandit ji every day, and you should pray to get rid of this defect.

Astrologer Nidhi ji Shrimali ji explains and guides the proper Mangal ketu angarak yog nivaran Puja remedies. If you want to do Mangal ketu angarak yog nivaran Puja, then astrologer Nidhi ji Shrimali is the best choice in India.

For any assistance or confusion regarding Puja, contact us by clicking below. You can also WhatsApp us on this number. Our team is always there to assist you.

 

मंगल-केतु अंगारक योग निवारण पूजा


मंगल केतु अंगारक योग निवारण पूजा – यह पूजा हमारे विधान पंडितों के माध्यम से की जाएगी। यह पूजा ऑनलाइन (वीडियो कॉल) या ऑफलाइन (आपके स्थान पर) की जा सकती है।

परिचय:-

वैदिक ज्योतिष में, जब किसी व्यक्ति की कुंडली में मंगल और केतु एक ही घर में होते हैं तो अंगारक दोष बनता है। “अंगारक” शब्द का अर्थ है “मारने के लिए आग” अंगारक दोष वाले मूल निवासी बेहद क्रोधी, जिद्दी और हिंसक हो सकते हैं। उन्हें सड़क दुर्घटनाओं और त्वचा रोगों का भी सामना करना पड़ सकता है। इसके अतिरिक्त, यह करियर और रिश्तों में भी बाधाएँ पैदा कर सकता है। हालाँकि, मंगल-केतु अंगारक दोष का प्रभाव मंगल और केतु के बीच की स्थिति और डिग्री के आधार पर भिन्न हो सकता है। मंगल केतु अंगारक दोष निवारण पूजा इस दोष के बुरे प्रभावों को खत्म करने का सबसे प्रभावी वैदिक तरीका है।

मंगल-केतु अंगारक दोष निवारण पूजा के निम्नलिखित लाभ हैं:-

  • मंगल केतु अंगारक दोष के नकारात्मक प्रभावों को दूर करती है यह पूजा अहंकार को नियंत्रित करती है
  • यह पूजा सद्भाव बनाए रखने और पारिवारिक विवादों को रोकने में भी मदद करती है।
  • यह पूजा दुर्घटनाओं और दुर्भाग्य से रक्षा करती है।
  • इस पूजा से आपके रिश्ते खुशनुमा रहते हैं।

इस पूजा को ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली से बहुत ही मामूली कीमत पर जल्द से जल्द मंगल केतु अंगारक योग निवारण पूजा करें।

जो व्यक्ति पूजा करवानां चाहते है पंडित जी पहले से ही उसके नाम पर संकल्प लेते है और जैसा कि हम सभी जानते हैं, भगवान गणेश की हर पूजा या शुभ कार्य हमेशा किया जाता है। तो मंगल केतु अंगारक योग निवारण पूजा भी भगवान गणेश के अभिषेक के साथ शुरू होती है, हमें पहले उन्हें प्रसन्न करने की आवश्यकता है।

पंडित जी नवग्रहों की पूजा करेंगे और उसके बाद, वह 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे , जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

पंडित जी के द्धारा मंगल केतु अंगारक योग निवारण पूजा से सम्बंधित मंत्रो का जाप किया जाएगा | मंगल केतु अंगारक योग निवारण पूजा 2 – 3 घंटे तक की जाएगी | यह पूजा 2 – 3 पंडितो द्धारा पूरे विधि विधान से सम्पन्न की जाएगी | पूजा के बाद हवन बाद, वह 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे , जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

आखिर में पूजा का मुख्य हवन शुरू होता है, जिसमें पंडित जी आपके लिए मंत्रों का जाप करने लगते हैं और आपको साथ में हमारे पंडित जी द्धारा बताये गए मन्त्रों का जाप तथा नियमों का पालन करना चाहिए । पूजा सम्पन्न होने के पश्चात पंडित जी द्धारा आपको आशीर्वाद दिया जाता हैं |

इस हवन में पूजा से संबंधित जो यन्त्र रखा जाता हैं | वो यन्त्र आपको भिजवाया जाएगा | उस यन्त्र को आप अपने पूजा घर में स्थापित कर प्रतिदिन पंडित जी द्धारा बताए गए मंत्रो का जाप , दर्शन अवश्य करना चाहिए तथा इस दोष से मुक्ति के लिए आपको प्रार्थना करनी चाहिए |

ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली जी उचित मंगल केतु अंगारक योग निवारण पूजा उपायों की व्याख्या और मार्गदर्शन करती हैं। अगर आप मंगल केतु अंगारक योग निवारण पूजा करना चाहते हैं, तो ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली भारत में सबसे अच्छी पसंद हैं।

पूजा के संबंध में किसी भी सहायता या भ्रम के लिए, नीचे क्लिक करके हमसे संपर्क करें। आप हमें इस नंबर पर व्हाट्सएप भी कर सकते हैं। हमारी टीम आपकी सहायता के लिए हमेशा मौजूद है।

Shopping cart
Shop
0 items Cart
My account