Mahamrityunjaya Mantra Pooja

Mahamrityunjaya Mantra Pooja

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्‌। उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृत

Mahamrityunjaya Mantra Pooja – This Pooja will be done via our Vidhwaan Pandits. This Pooja can be done Online (Video Call) or Offline (At your place).

If someone in your house has been ill for a long time and even after several treatments, the patient is not able to get healthy, then in such a situation Mahamrityunjaya Mantra should be recited and worshipped. By chanting the Mahamrityunjaya mantra, premature death is averted, health is also attained. Chanting this mantra while bathing water while pouring water on the body gives health benefits.

Chanting this mantra while staring at milk and then drinking that milk also helps in protecting youth. Also, chanting of this mantra removes many obstacles, so one should chant this mantra as much as possible. Abhishekam to Shiva with the Mahamrityunjaya mantra never causes health problems in life. This Mantra is the Most Powerful Mantra of all time. This Mantra is also called “Rudra Mantra” means Lord Shiva’s Mantra. This Mantra totally belongs to Lord Shiva, as he is the Mrityunjaya in “Mahamrityunjaya”. Its mantra is also known as Moksha Mantra.

 

There is destruction of defects :-

Chanting of Mahamrityunjaya Mantra destroys many defects like Manglik Dosha, Nadi Dosha, Kaal Sarp Dosh, Ghost-Phantom Dosha, Disease, Nightmare, Pregnancy, Childbirth.

Gets auspicious results:-

  • Longevity (long life) – Any person who has a desire to get long life, should regularly chant Mahamrityunjaya Mantra. With the effect of this mantra, the fear of premature death of man ends. This mantra is very dear to Lord Shiva, the one who chants it gets a long life.
  • Healing – This mantra not only makes a person fearless but also destroys his diseases. Lord Shiva is also called the god of death. By chanting this mantra, diseases are destroyed and a person becomes healthy.
  • Acquisition of wealth – Any person who has a desire to get wealth, should recite the Mahamrityunjaya Mantra. Lord Shiva is always pleased with the recitation of this mantra and man never lacks money and food.
  • Achievement of Yash (respect) – By chanting this mantra, a person gets a high position in society. A person seeking respect should chant the Mahamrityunjaya mantra daily.
  • Attainment of children – By chanting the Mahamrityunjay mantra, the grace of Lord Shiva always remains and every wish is fulfilled. Chanting this mantra daily gives birth to a child.

 

Pooja Features:-

  • Pooja will be performed at Shiv Temple or as per request Pooja can also be performed at your particular place or home.
  • There are 5 types of Mantra Jap’s –
  • 11000 Jap Performed by 4 Priest in One Day
  • 21000 Jap Performed by 8 priests in One Day
  • 31000 Jap Performed by 10 Priests in One Day or 6 Priests Two Days
  • 62000 Jap Performed by 10 Priests in Two Days or 7 Priests in Three Days
  • 125000 Jap Performed by 8 Priests in Five Days

The person who is doing the puja, already the pandit takes Sankalp in his name and as we all know, every puja or auspicious work is always done to Lord Ganesha. So the worship of Mahamrityunjaya Mantra also begins with the consecration of Lord Ganesha, we need to please him first.

Pandit ji will worship the Navagrahas and after that, he will appease the 12 deities (mothers), one of which will be your Kuldevi.

Mantras related to Mahamrityunjaya Mantra worship will be chanted by Pandit ji. Mahamrityunjaya Mantra Puja will be done for 2 – 3 hours. This pooja will be performed by 2 – 3 pundits with complete rituals. After the puja after the havan, he will appease the 12 deities (mothers), one of whom will be your Kuldevi.

In the end, the main Havan of Puja starts, in which Panditji starts chanting mantras for you and you should chant the mantras and follow the rules as given by our Panditji. After the completion of the puja, you are blessed by Pandit ji.

The yantras related to worship are kept in this havan. That device will be sent to you. After installing that yantra in your house of worship, you must recite the mantras told by Pandit ji every day, and you should pray to get rid of this defect.

Pandit NM Shrimali ji explains and guides the proper Mahamrityunjaya Mantra worship remedies. If you want to worship Mahamrityunjaya Mantra, then Astrologer Pandit NM Shrimali Ji is the best choice in India.

For any assistance or confusion regarding Puja, contact us by clicking below. You can also WhatsApp us on this number. Our team is always there to assist you.

If You Want Pooja To Be Held At Your Location:-

You will have to manage all Travel Expenses of Priest (Going – Return), Stay – Food Accommodations also.

25% will be charged extra if you want Pooja to be done at your place.

Guideline:-

  • Once booking will be done, there will be no refund of the amount.
  • After Booking, the date can be postponed or delayed by you.
  • In online Pooja, devotees will get a chance to see Live Pooja or can get their Held Pooja’s Video and Prasad after its been done.

महामृत्युंजय मंत्र पूजा

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्‌। उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृत

महामृत्युंजय मंत्र पूजा – यह पूजा हमारे विधान पंडितों के माध्यम से की जाएगी। यह पूजा ऑनलाइन (वीडियो कॉल) या ऑफलाइन (आपके स्थान पर) की जा सकती है।

यदि आपके घर में कोई लंबे समय से बीमार है और कई उपचारों के बाद भी रोगी स्वस्थ नहीं हो पा रहा है, तो ऐसी स्थिति में महामृत्युंजय मंत्र का जाप और पूजा करनी चाहिए। महामृत्युंजय मंत्र के जाप से अकाल मृत्यु टलती है, स्वास्थ्य की भी प्राप्ति होती है। नहाते समय इस मंत्र का जाप करने से शरीर पर जल डालते समय स्वास्थ्य लाभ होता है।

दूध को देखते हुए इस मंत्र का जाप करें और फिर उस दूध को पीने से भी यौवन की रक्षा होती है। साथ ही इस मंत्र के जाप से कई बाधाएं भी दूर होती हैं, इसलिए इस मंत्र का जाप जितना हो सके करना चाहिए। शिव को महामृत्युंजय मंत्र से अभिषेक करने से जीवन में कभी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं नहीं होती हैं। यह मंत्र अब तक का सबसे शक्तिशाली मंत्र है। इस मंत्र को “रुद्र मंत्र” भी कहा जाता है जिसका अर्थ है भगवान शिव का मंत्र। यह मंत्र पूरी तरह से भगवान शिव का है, क्योंकि वे “महामृत्युंजय” में मृत्युंजय हैं। इस मंत्र को मोक्ष मंत्र के नाम से भी जाना जाता हैदोषों का नाश होता है :-

महामृत्युंजय मंत्र के जाप से मांगलिक दोष, नाड़ी दोष, काल सर्प दोष, भूत-प्रेत दोष, रोग, दुःस्वप्न, गर्भावस्था, प्रसव जैसे कई दोषों का नाश होता है।

  

शुभ फल मिलता है:-

  

दीर्घायु (दीर्घायु)- जिस व्यक्ति को भी लंबी आयु प्राप्त करने की इच्छा हो उसे नियमित रूप से महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए। इस मंत्र के प्रभाव से मनुष्य की अकाल मृत्यु का भय समाप्त हो जाता है। यह मंत्र भगवान शिव को बहुत प्रिय है, इसका जाप करने वाले की आयु लंबी होती है।
हीलिंग – यह मंत्र न केवल व्यक्ति को निडर बनाता है बल्कि उसके रोगों का नाश भी करता है। भगवान शिव को मृत्यु का देवता भी कहा जाता है। इस मंत्र के जाप से रोगों का नाश होता है और व्यक्ति निरोगी बनता है।
धन की प्राप्ति – जिस भी व्यक्ति को धन प्राप्ति की इच्छा हो उसे महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए। इस मंत्र के जाप से भगवान शिव हमेशा प्रसन्न रहते हैं और मनुष्य को कभी भी धन और अन्न की कमी नहीं होती है।
यश की प्राप्ति (सम्मान)- इस मंत्र के जाप से व्यक्ति को समाज में उच्च पद की प्राप्ति होती है। सम्मान चाहने वाले व्यक्ति को प्रतिदिन महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए।
संतान प्राप्ति – महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने से भगवान शिव की कृपा सदैव बनी रहती है और हर मनोकामना पूर्ण होती है। इस मंत्र का प्रतिदिन जाप करने से संतान की प्राप्ति होती है।


पूजा की विशेषताएं :-

पूजा शिव मंदिर में की जाएगी या अनुरोध के अनुसार पूजा आपके विशेष स्थान या घर पर भी की जा सकती है।


मंत्र जप 5 प्रकार के होते हैं –:-

  •  11000 जप एक दिन में 4 पुजारियों द्वारा किया गया |
  • 21000 जप एक दिन में 8 पुजारियों द्वारा किया गया |
  • 31000 जप एक दिन में 10 पुजारियों द्वारा किया जाता है |
  • 125000 जप पांच दिनों में 8 पुजारियों द्वारा किया गया |
  •  

जो व्यक्ति पूजा कर रहा है, पहले से ही पंडित उसके नाम पर संकल्प लेता है और जैसा कि हम सभी जानते हैं, भगवान गणेश की हर पूजा या शुभ कार्य हमेशा किया जाता है। तो महामृत्युंजय मंत्र की पूजा भी भगवान गणेश के अभिषेक के साथ शुरू होती है, हमें पहले उन्हें प्रसन्न करने की आवश्यकता है।

पंडित जी नवग्रहों की पूजा करेंगे और उसके बाद, वह 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे , जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

पंडित जी के द्धारा महामृत्युंजय मंत्र पूजा से सम्बंधित मंत्रो का जाप किया जाएगा | महामृत्युंजय मंत्र पूजा 2 – 3 घंटे तक की जाएगी | यह पूजा 2 – 3 पंडितो द्धारा पूरे विधि विधान से सम्पन्न की जाएगी | पूजा के बाद हवन बाद, वह 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे , जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

आखिर में पूजा का मुख्य हवन शुरू होता है, जिसमें पंडित जी आपके लिए मंत्रों का जाप करने लगते हैं और आपको साथ में हमारे पंडित जी द्धारा बताये गए मन्त्रों का जाप तथा नियमों का पालन करना चाहिए । पूजा सम्पन्न होने के पश्चात पंडित जी द्धारा आपको आशीर्वाद दिया जाता हैं |

इस हवन में पूजा से संबंधित जो यन्त्र रखा जाता हैं | वो यन्त्र आपको भिजवाया जाएगा | उस यन्त्र को आप अपने पूजा घर में स्थापित कर प्रतिदिन पंडित जी द्धारा बताए गए मंत्रो का जाप , दर्शन अवश्य करना चाहिए तथा इस दोष से मुक्ति के लिए आपको प्रार्थना करनी चाहिए |

पंडित एनएम श्रीमाली जी उचित महामृत्युंजय मंत्र पूजा के उपाय बताते हैं और मार्गदर्शन करते हैं। यदि आप महामृत्युंजय मंत्र की पूजा करना चाहते हैं, तो भारत में ज्योतिषी पंडित एनएम श्रीमाली जी सर्वश्रेष्ठ विकल्प हैं।

पूजा के संबंध में किसी भी सहायता या भ्रम के लिए, नीचे क्लिक करके हमसे संपर्क करें। आप हमें इस नंबर पर व्हाट्सएप भी कर सकते हैं। हमारी टीम आपकी सहायता के लिए हमेशा मौजूद है।

यदि आप चाहते हैं कि आपके स्थान पर पूजा हो:-

आपको पुजारी के सभी यात्रा व्यय (जाने – वापसी), रहने – भोजन आवास का भी प्रबंधन करना होगा।
यदि आप चाहते हैं कि आपके घर पर पूजा हो तो 25% अतिरिक्त शुल्क लिया जाएगा।

दिशानिर्देश:-

एक बार बुकिंग हो जाने के बाद राशि वापस नहीं होगी।
बुकिंग के बाद, आपके द्वारा तिथि को स्थगित या विलंबित किया जा सकता है।
ऑनलाइन पूजा में, भक्त को लाइव पूजा देखने का मौका मिलेगा या उसकी आयोजित पूजा का वीडियो और प्रसाद हो जाने के बाद प्राप्त कर सकता है।

Connect with us at Social Network:-

Shopping cart

Stock Clearance Sale 2023 is Live Now : Use Coupon Code SCS23 & Get 30% Off.

Call Us
9571122777
Shop
0 items Cart
My account