निवारण पूजा 5 | Panditnmshrimali

Ketu Dosh Nivaran Puja


Ketu Dosh Nivaran Puja – This worship will be done by our Vidhan Pundits. This puja can be done online (video call) or offline (at your place).

The planets Rahu and Ketu have also been calculated in the Navagraha. Rahu and Ketu are considered shadow planets. Rahu and Ketu (Rahu-Ketu) are considered inauspicious in the horoscope of any person. According to legend, Rahu and Ketu were born during the churning of the ocean. These two are two parts of the same demon. During the churning of the ocean, the demon changed form and joined the line of the gods and took the nectar. Even nectar had not come down from the neck of the demon that Lord Vishnu cut off his head. In this, the part of the head is called Rahu and the trunk is called Ketu.

Rahu and Ketu are considered malefic planets. People who have Ketu dosha in their Kundli develop bad habits, hinder their work. Hair starts falling on the head, there is a problem with stones. Kaal Sarp Yog is also formed due to Ketu and Rahu. To avoid all this, you have to keep Ketu good. There are some astrological remedies for this, by doing which one gets freedom from Ketu Dosha and rank, honour and respect, children get happiness. Those who have Ketu defects in their horoscope can also wear Ketu gem or Spartan.

Ketu Dosha Remedy:-

  • If you have Ketu Dosha in your horoscope then you should observe a fast on Saturday. You should keep fast for at least 18 Saturdays.
  • To remove Ketu dosha or for the peace of Ketu, one should chant the mantra Om Strambitam Straus: Ketve Namah. You can chant this mantra for 18, 11 or 05 rosaries.
  • Remedies to get rid of Rahu dosha and things related to food are also applicable in Ketu dosha. On the day of Saturday’s fast, fill a vessel with water from Kusha and Durva and offer it to the root of Peepal.
  • To get rid of Ketu Dosha, lighting a lamp of ghee under a Peepal tree on Saturday is also considered beneficial.
  • Blanket, umbrella, iron, urad, warm clothes, musk, garlic etc. should be donated to get rid of Ketu dosha.
  • To get rid of Ketu Dosha, you can wear its gemstone Lahunia. If it is not found, then turquoise, condensate or Godan can wear Ketu’s Spartan.
  • If you want to be free from Ketu Dosha then treat your children well. Worship Ganesh ji. Keeping a dog or serving a dog is also beneficial.
  • To remove this defect, do Ketu Dosh Nivaran Puja from astrologer Nidhi ji Shrimali at a very nominal cost as soon as possible.

The person who is doing the puja, already the pandit takes Sankalp in his name and as we all know, every puja or auspicious work of lord Ganesha is always done. So the Ketu Dosh Nivaran Puja also starts with the Abhishek of Lord Ganesha, we need to please him first.

The person who wants to get worship done, Pandit ji already takes a resolution in his name and as we all know, every worship or auspicious work of Lord Ganesha is always done. So the Buddha Dosha Nivaran Puja also begins with the consecration of Lord Ganesha, we need to please him first.

Pandit ji will worship the Navagrahas and after that, he will appease the 12 deities (mothers), one of which will be your Kuldevi.

Mantras related to all diseases destroyer worship will be chanted by Pandit ji. Worship that destroys all diseases will be done for 2 – 3 hours. This pooja will be performed by 2 – 3 pundits with complete rituals. After the puja after the havan, he will appease the 12 deities (mothers), one of whom will be your Kuldevi.

In the end, the main Havan of Puja starts, in which Panditji starts chanting mantras for you and you should chant the mantras and follow the rules as given by our Panditji. After the completion of the puja, you are blessed by Pandit ji.

The yantras related to worship are kept in this havan. That device will be sent to you. After installing that yantra in your house of worship, you must recite the mantras told by Pandit ji every day, and you should pray to get rid of this defect.

Astrologer Nidhi ji Shrimali ji explains and guides proper Ketu Dosh Nivaran Puja remedies. If you want to worship Ketu dosha, then astrologer Nidhi ji Shrimali is the best option in India.

For any assistance or confusion regarding Puja, contact us by clicking below. You can also WhatsApp us on this number. Our team is always there to assist you.

 

केतु दोष निवारण पूजा


केतु दोष निवारण पूजा – यह पूजा हमारे विधान पंडितों द्वारा की जाएगी। यह पूजा ऑनलाइन (वीडियो कॉल) या ऑफलाइन (आपके स्थान पर) की जा सकती है।

नवग्रह में राहु और केतु ग्रहों की गणना भी की गई है। राहु और केतु को छाया ग्रह माना गया है। किसी भी व्यक्ति की कुंडली में राहु और केतु (राहु-केतु) को अशुभ माना जाता है। किंवदंती के अनुसार, राहु और केतु का जन्म समुद्र मंथन के दौरान हुआ था। ये दोनों एक ही राक्षस के दो अंग हैं। समुद्र मंथन के दौरान, राक्षस ने रूप बदल लिया और देवताओं की रेखा में शामिल हो गया और अमृत ले लिया। उस राक्षस के गले से अभी तक अमृत भी नहीं उतरा था कि भगवान विष्णु ने उसका सिर काट दिया। इसमें मस्तक के भाग को राहु तथा धड़ को केतु कहते हैं।

राहु और केतु को पाप ग्रह माना गया है। जिन लोगों की कुंडली में केतु दोष होता है, उनमें बुरी आदतों का विकास होता है, काम में बाधा आती है। सिर के बाल झड़ने लगते हैं, पथरी की समस्या हो जाती है। काल सर्प योग भी केतु और राहु के कारण बनता है। इन सब से बचने के लिए आपको केतु को अच्छा रखना होगा। इसके लिए कुछ ज्योतिषीय उपाय हैं, जिन्हें करने से केतु दोष से मुक्ति मिलती है और पद, मान-सम्मान में वृद्धि होती है, संतान सुख की प्राप्ति होती है। जिनकी कुंडली में केतु दोष है वे भी केतु रत्न या उपरत्न धारण कर सकते हैं।

केतु दोष उपाय:-

  • यदि आपकी कुंडली में केतु दोष है तो आपको शनिवार का व्रत करना चाहिए। आपको कम से कम 18 शनिवार का व्रत रखना चाहिए।
  • केतु दोष को दूर करने के लिए या केतु की शांति के लिए ओम स्त्राम्बितं स्त्रौं स: केतवे नम: मंत्र का जाप करना चाहिए। इस मंत्र का जाप आप 18, 11 या 05 माला तक कर सकते हैं।
  • राहु दोष से छुटकारा पाने के उपाय और भोजन से जुड़ी चीजें भी केतु दोष में लागू होती हैं। शनिवार के व्रत के दिन एक पात्र में कुशा और दूर्वा से जल भरकर पीपल की जड़ में अर्पित करें।
  • केतु दोष से मुक्ति पाने के लिए शनिवार के दिन पीपल के पेड़ के नीचे घी का दीपक जलाना भी लाभकारी माना जाता है।
  • केतु दोष से मुक्ति के लिए कंबल, छाता, लोहा, उड़द, गर्म कपड़े, कस्तूरी, लहसुन आदि का दान करना चाहिए।
  • केतु दोष से मुक्ति पाने के लिए आप इसका रत्न लहुनिया धारण कर सकते हैं। यदि यह न मिले तो फ़िरोज़ा, संघनित या गोदान, केतु का उपरत्न धारण कर सकते हैं।
  • यदि आप केतु दोष से मुक्त होना चाहते हैं तो अपने बच्चों के साथ अच्छा व्यवहार करें। गणेश जी की पूजा करें। कुत्ता पालने या कुत्ते की सेवा करने से भी लाभ होता है।
  • इस दोष को दूर करने के लिए ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली से केतु दोष निवारण पूजा बहुत ही मामूली कीमत पर जल्द से जल्द करें।

जो व्यक्ति पूजा करवानां चाहते है पंडित जी पहले से ही उसके नाम पर संकल्प लेते है और जैसा कि हम सभी जानते हैं, भगवान गणेश की हर पूजा या शुभ कार्य हमेशा किया जाता है। तो बुद्ध दोष निवारण पूजा भी भगवान गणेश के अभिषेक के साथ शुरू होती है, हमें पहले उन्हें प्रसन्न करने की आवश्यकता है।

पंडित जी नवग्रहों की पूजा करेंगे और उसके बाद, वह 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे , जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

पंडित जी के द्धारा सर्व रोग नाशक पूजा से सम्बंधित मंत्रो का जाप किया जाएगा | सर्व रोग नाशक पूजा 2 – 3 घंटे तक की जाएगी | यह पूजा 2 – 3 पंडितो द्धारा पूरे विधि विधान से सम्पन्न की जाएगी | पूजा के बाद हवन बाद, वह 12 देवताओं (माताओं) को प्रसन्न करेंगे , जिनमें से एक आपकी कुलदेवी होगी।

आखिर में पूजा का मुख्य हवन शुरू होता है, जिसमें पंडित जी आपके लिए मंत्रों का जाप करने लगते हैं और आपको साथ में हमारे पंडित जी द्धारा बताये गए मन्त्रों का जाप तथा नियमों का पालन करना चाहिए । पूजा सम्पन्न होने के पश्चात पंडित जी द्धारा आपको आशीर्वाद दिया जाता हैं |

इस हवन में पूजा से संबंधित जो यन्त्र रखा जाता हैं | वो यन्त्र आपको भिजवाया जाएगा | उस यन्त्र को आप अपने पूजा घर में स्थापित कर प्रतिदिन पंडित जी द्धारा बताए गए मंत्रो का जाप , दर्शन अवश्य करना चाहिए तथा इस दोष से मुक्ति के लिए आपको प्रार्थना करनी चाहिए |

ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली जी उचित केतु दोष निवारण पूजा उपायों की व्याख्या और मार्गदर्शन करती हैं। यदि आप केतु दोष के लिए पूजा करना चाहते हैं, तो ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली भारत में सबसे अच्छा विकल्प है।

पूजा के संबंध में किसी भी सहायता या भ्रम के लिए, नीचे क्लिक करके हमसे संपर्क करें। आप हमें इस नंबर पर व्हाट्सएप भी कर सकते हैं। हमारी टीम आपकी सहायता के लिए हमेशा मौजूद है।

 

Note: Daily, Weekly, Monthly, and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Shrimali Ji, is almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on (Kundali Vishleshan) (Kundali Making) (Kundali Milan) or contact Pandit NM Srimali  WhatsApp No. 9929391753, E-Mail- [email protected]

Contact : +918955658362 | Email: [email protected] | Click below on Book Now
Subscribe on YouTube – Nidhi Shrimali