Karnvedan Sanskar Pooja

Karnvedan Sanskar Pooja


Karnavedha Sanskar is the ninth sacrament in Hindu religious rituals. This sanskar is performed for the enhancement of hearing power in the ear, wearing jewelery in the ear and protecting health. Especially for girls, Karnavedan is considered necessary. In this, after piercing both the ears, a gold horoscope is worn in it so that its nerves can be kept healthy. It has physical benefits.
  • Before Upanayana, Karnavedha-sanskar should be performed.
  • This sanskar is performed from 6th month to 16th month or in odd years like 3rd, 5th etc. or at appropriate age as per family tradition.
  • It is performed to attain complete femininity and masculinity in men and women.
  • It is also believed that the rays of the sun enter through the ear holes and make the boy and girl prosperous.
  • After worshiping the deities sitting at a holy place in inauspicious times, the ears of the boy or girl should be chanted in front of the sun with the following mantra

भद्रं कर्णेभिः शृणुयाम देवा भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्राः । स्थिरैरङ्गैस्तुष्टुवांसस्तनूभिर्व्यशेम देवहितं यदायुः ॥

After this, pierce the child’s right ear first and then the left ear with a needle. Wear coils etc. in them. There is a law to wear jewelery by first piercing the left ear of the girl, then piercing the right ear and piercing the left nostril. Wearing gold with holes in the nose and ears is considered beneficial to make both the parts of the brain effective from the effects of electricity. Wearing nostrils in the nose does not cause nasal diseases and gives relief in cold and cough. [Is this a fact or just an opinion?] Wearing gold earrings or earrings etc. in the ears helps in regular menstruation in women. It is also beneficial in hysteria disease. Astrologer Nidhi ji Shrimali ji explains and guides the proper Karnvedan sanskar Puja remedies. If you want to do Karnvedan sanskar Puja, then astrologer Nidhi ji Shrimali is the best choice in India. For any assistance or confusion regarding Puja, contact us by clicking below. You can also WhatsApp us on this number. Our team is always there to assist you.

कर्णवेध संस्कार


कर्णवेध संस्कार हिंदू धार्मिक अनुष्ठानों में नौवां संस्कार है। यह संस्कार कान में श्रवण शक्ति की वृद्धि, कान में आभूषण धारण करने और स्वास्थ्य की रक्षा के लिए किया जाता है। खासकर लड़कियों के लिए कर्णवेदन जरूरी माना जाता है। इसमें दोनों कानों में छेद करने के बाद उसमें सोने की कुण्डली पहनी जाती है ताकि उसकी नसों को स्वस्थ रखा जा सके। इसके भौतिक लाभ हैं।
  • उपनयन से पहले कर्णवेध-संस्कार करना चाहिए।
  • यह संस्कार 6 महीने से 16वें महीने तक या विषम वर्षों जैसे 3, 5 आदि में या परिवार की परंपरा के अनुसार उचित उम्र में किया जाता है
  • यह पुरुषों और महिलाओं में पूर्ण स्त्रीत्व और पुरुषत्व प्राप्त करने के लिए किया जाता है।
  • यह भी मान्यता है कि सूर्य की किरणें कानों के छिद्रों से प्रवेश करती हैं और लड़के और लड़की को समृद्ध बनाती हैं।
  • अशुभ समय में किसी पवित्र स्थान पर विराजमान देवताओं की पूजा करने के बाद सूर्य के सामने निम्न मंत्र से बालक या बालिका के कानों का जाप करना चाहिए |

भद्रं कर्णेभिः शृणुयाम देवा भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्राः । स्थिरैरङ्गैस्तुष्टुवांसस्तनूभिर्व्यशेम देवहितं यदायुः ॥

इसके बाद बालक के दाहिने कान में पहले और बाएं कान में बाद में सुई से छेद करें। उनमें कुडंल आदि पहनाएं। बालिका के पहले बाएं कान में, फिर दाहिने कान में छेद करके तथा बाएं नाक में भी छेद करके आभुषण पहनाने का विधान है। मस्तिष्क के दोनों भागों को विद्युत के प्रभावों से प्रभावशील बनाने के लिए नाक और कान में छिद्र करके सोना पहनना लाभकारी माना गया है। नाक में नथुनी पहनने से नासिका-संबधी रोग नहीं होते और सर्दी-खांसी में राहत मिलती है।[क्या ये तथ्य है या केवल एक राय है?] कानों में सोने की बालियं या झुमकें आदि पहनने से स्त्रीयों में मासिकधर्म नियमित रहता है, इससे हिस्टीरिया रोग में भी लाभ मिलता है | ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली जी उचित कर्णवेदन संस्कार पूजा उपायों की व्याख्या और मार्गदर्शन करती हैं। यदि आप कर्णवेदन संस्कार पूजा करना चाहते हैं, तो ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली भारत में सबसे अच्छी पसंद हैं। पूजा के संबंध में किसी भी सहायता या भ्रम के लिए, नीचे क्लिक करके हमसे संपर्क करें। आप हमें इस नंबर पर व्हाट्सएप भी कर सकते हैं। हमारी टीम आपकी सहायता के लिए हमेशा मौजूद है।

Contact : +918955658362 | Email: [email protected] | Click below on Book Now Subscribe on YouTube – Nidhi Shrimali

Shopping cart
Call Us
9571122777
Shop
0 items Cart
My account