Astro Gyaan, Astrology Tips, Featured

Dhanu Rashi Shani शनिदेव का राशि परिवर्तन धनु राशि पर प्रभाव

Dhanu Rashi Shani

शनिदेव का राशि परिवर्तन धनु राशि पर प्रभाव


Dhanu Rashi Shani

Image result for धनु राशि pngपंडित एन एम श्रीमाली जी के अनुसार 24 जनवरी 2020 को शुक्रवार के दिन उत्तराषाडा नक्षत्र में शनि धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश कर रहे है| इस शनि के राशि परिवर्तन का सभी 12 राशियों पर सम्मान रूप से प्रभाव होंगा और ये राशि परिवर्तन बहुत ही महत्वपूर्ण है| यदि हम हमारे राष्ट्र की दृष्टि से देखे तो ये राशि परिवर्तन हमारे राष्ट्र के लिये बहुत सकारात्मक संकेत ले कर आया है कृषि उत्पादन में वृद्धि होंगी, फसलो में वृद्धि होंगी, किसान जो बहुत परेशान अब तक चल रहा था उनके भी उत्पादन में वृद्धि होंगी उनको लाभ इस शनि के राशि परिवर्तन से होंगा| जमीन जायदाद संबंधी मामलो में तेजी आएंगी बहुत लम्बे समय से हमारा पूरा विश्व मंदी की मार जमीनों में झेल रहा है| तो अब निर्माण क्षेत्र में उछाल आयेंगा| बहुत सारे निर्माण हमारे देश में होंगे| लोंह संबंधी व्यापार बढेंगा| मशीनरी संबंधी व्यापार भी बढेंगा यानी हमारा डिजिटल और उच्च तकनीक होगा| मशीनों के माध्यम से और अधिक हम लोगो को रोजगार दे पाएंगे| नौकरिया बढेंगी, पेट्रोल के भाव भी कम होंगे| कई सकारात्मक प्रभाव इस शनि के राशि परिवर्तन के हमको देखने को मिलेंगे| वैसे भी धारा 370 के ख़त्म होने और राम मंदिर जैसे मुद्दों के सुलझने के बाद में हमारे देश में एक अलग ही विकास की लहर दौड़ने वाली है| और इसमें इस शनि का राशि परिवर्तन का विशेष योगदान रहने वाला है| तो देश के लिये तो ये राशि परिवर्तन बहुत ही सकारात्मक होंगा| परन्तु धनु राशि वालो के लिये यानि आपकी राशि में शनि के इस राशि परिवर्तन के क्या प्रभाव पड़ेंगा उसके बारे में हम आपको विस्तार से बतायेंगे| Dhanu Rashi Shani

01 जनवरी 2020 को शनि अस्त होंगा| और 02 फ़रवरी 2020 को शनि फिर से उदय हो जायेंगा| परन्तु सबसे ज्यादा ध्यान देने की बात ये है की आपको 11 मई 2020 से 29 सितम्बर 2020 तक सजग रहना पड़ेंगा क्युकी उस समय शनि वक्री होकर बैठेंगे और शनि का वक्री होना शुभ नही माना जाता है| कष्टकारी होता है| तरह तरह की परेशानियां हमारे जीवन में आती है| दरिद्रता बढती है| और किसी भी प्रकार की सामाजिक जो तत्व है जो समाज में गड़बड़ी फैलाते है उनकी भी अधिकता बढती है इसलिये इस समय थोडा सा सभी को सावधान रहने की आवश्यकता रहेंगी धनु राशि वालो की कुंडली में शनि द्वितीय भाव में आकर विराजित हो रहे है द्वितीय भाव वाणी का, संगीत का, पैतृक सम्पति का होता है वही शनि की दृष्टियां तीसरी, सातवी, और दसवी दृष्टि बहुत घातक और विनाशकारी होती है| तो शनि की तीसरी दृष्टि आपके सुख स्थान पर, सातवी दृष्टि अष्टम भाव पर, और दसवी दृष्टि लाभ भाव पर पड़ रही है| आप शनि की दृष्टियों इस प्रकार समझिये की शनि भगवान का जब जन्म हुआ था तब उनके पिता सूर्य देव पर शनि की प्रथम दृष्टि पड़ने से उनको कुष्ठ रोग गया, उनके सारथी अरुण पर दृष्टि पड़ने से वे पंगू हो गए, और उनके अश्वों पर दृष्टि पड़ने से वे अंधे हो गए| तो शनि की दृष्टियां इतनी विनाशकारी हो रही है| साथ में आपको शनि की साढ़े साती चल रही है| जिसका अंतिम चरण अभी आपको चल रहा है| शनि की साढ़े साती शरीर के हिसाब से तीन चरण में बाटी गयी है पहले वो सर पर आती है, फिर धड़ पर आती है, और फिर पैरो में आती है| यानी धनु राशि वालो को दो चरण गुजर चुके है अब आपको शनि की साढ़े साती पैरो में आ रही है| ये समय बहुत संभल कर चलने वाला रहेंगा| शनि की साढ़े साती से भी और और शनि की दृष्टियों से भी द्वितीय भाव में शनि का विराजित होना आपके लिये शुभ संकेत ला रहा है| द्वितीय भाव वाणी का स्थान होता है तो यदि आप राजनेता है, संगीत क्षेत्र से जुड़े हुए है, अभिनेता है, कोई रंग मंच से जुड़े हुए कलाकार है, गीतकार है तो इन क्षेत्रो से जुड़े हुए व्यक्तियों को विशेष लाभ की प्राप्ति होंगी आप अच्छी प्रसिद्धी प्राप्त करेंगे शनि का आपके भाव में बैठना बहुत ही शुभ संकेत दे रहा है| अच्छी प्रसिद्धी, नाम, और फेम इस समय आपको मिलेंगा वही पैतृक सम्पति में भी आपके बढ़ोतरी होती हुई दिखाई देंगी| आप यदि अपने करियर किसी मीडिया क्षेत्र से, या रंगमंच, अभिनेता अभिनय में कोशिश करना चाहते है तो उसके लिये भी ये समय आपके लिये पक्ष में रहेंगा| Dhanu Rashi Shani

पराकर्म भाव: पराकर्म भाव आपका अच्छा रहेंगा| आपके पराकर्म में वृद्धि होंगी| भाई बहनों से आपका रिश्ता और अच्छा होंगा जितना आप कर्म करेंगे आप पर लोगो का प्रभाव अधिक पड़ेंगा| लोग आपकी बातो को मानेंगे समाज में आपकी एक अलग पहचान मान सम्मान और प्रतिष्ठा बढेंगी| शनि की तीसरी दृष्टि सुख स्थान पर पड़ने से ये स्थान आपके लिये थोडा सा गड़बड़ परिणाम लेकर आ रहा है| इस स्थान पर शनि की दृष्टि पड़ने से आपके सुखो में कमी होंगी यानि भूमि, भवन, वाहन जैसे सुखो से आप थोडा सा वंचित रहेंगे इस समय आपको यदि भूमि का क्रय विक्रय से आप जुड़े हुए है कोई प्रोपर्टी डीलर के काम से जुड़े हुए है तो आपको बहुत संभल के इस क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहिए| क्युकी नुकसान की सम्भावना ज्यादा है लाभ की स्थितिया कम उत्पन्न हो रही है| साथ ही नया वाहन खरीदने से भी इस समय आपको बचना चाहिए| जो वाहन है उसे ही चलाये क्युकी नये वाहन से आपको वो शुभ नही रहेंगा और इससे आपके दुर्घटना होने का खतरा बढेंगा| आपको उससे नुकसान उठाना पड़ सकता है| इसीलिये भूमि और वाहन की खरीदारी अभी नही करेंगे तो आपके लिये अच्छा रहेंगा माता से भी आपके संबंधो में कुछ खीचतान और तनाव की स्थितिया उत्पन्न होंगी माता से आपके संबंध बहुत अच्छे है| तो थोड़ी सी दूरिया गलतफेमी के कारण बढ़ जाएँगी माँ के स्वास्थ्य को लेकर भी इस समय आपको चिंतित होना पड़ेंगा| और अस्पताल के चक्कर लगाने पड़ेंगे| उसका समय समय पर स्वास्थ्य जाँच करवाये और सही ईलाज थोड़ी सी भी गड़बड़ होते ही पीड़ा हो सकती है इसलिये सही से ईलाज करवाये| Dhanu Rashi Shani

पंचम स्थान: पंचम स्थान आपका ठीक रहने वाला है वैसे शनि की साढ़े साती चल रही है तो हर भाव पर समान प्रभाव तो पड़ेंगा ही परन्तु फिर भी दृष्टियों वाले भाव ज्यादा गड़बड़ करेंगे| और ये भाव सामान्य रूप से चलते चले जायेंगे| शनि न्याय प्रिय देवता कहलाते है तो शनि की साढ़े साती के अन्दर व्यक्ति को शनि उसके कर्मो के हिसाब से परिणाम देते है यदि आपने अच्छे कर्म किये है तो शनि की साढ़े साती आपको बहुत अच्छी जाएँगी और यदि आपके कर्म अच्छे नही है तो शनि आपको दंड भी देंगे| इस कलयुग के अन्दर शनि देव ही ऐसे देवता है जो की व्यक्ति को इस जन्म में ही उसके कर्मो का फल दे देते है तो आप सन्मार्ग पर चलेंगे तो आपके लिये अच्छी स्थितिया शनि देव जरुर लेकर आयेंगे| पंचम भाव की हम बात करे तो संतान भाव के कारण आपकी संतान आपकी आज्ञा में रहेंगी| विद्या अध्ययन वाले विद्यार्थी जो  है उनके लिये ये समय अच्छा है आप जितनी मेहनत करेंगे उतना आपको परिणाम मिलेंगा बहुत ज्यादा आपको मेहनत का फल तो नही मिलेंगा परन्तु ऐसा होता है कई बार की भाग्य कई बार हमारे साथ में होता है कम मेहनत करते है अच्छा परिणाम हमको मिल जाता है| ऐसी परिस्थितिया तो नही होंगी| परन्तु आप जितनी मेहनत करेंगे उतना आपको परिणाम जरुर मिलेंगा| Dhanu Rashi Shani

छठा घर: छठे घर की यदि हम बात करे तो रोगों में आपके थोड़ी कमी आएंगी परन्तु थोडा शनि की वजह से आपको हड्डियों संबंधी समस्या हो सकती है, त्वचा संबंधी समस्या हो सकती है, नब्ज सिस्टम संबंधी कोई समस्या यानि बी.पी की समस्या हो सकती है| और बहुत बड़ी समस्या हम नही देख रहे है आपको कोई बड़ी बीमारी नही होंगी| तो स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखे योग प्राणायाम करे और अपने पारिवारिक सदस्यों का विशेषकर अपनी माता के स्वास्थ्य का जरुर ध्यान रखे| Dhanu Rashi Shani

दाम्पत्य भाव: दाम्पत्य भाव की यदि हम बात करे तो मिलेजुले परिणाम आपके दाम्पत्य भाव में रहने वाले है| कभी आप दोनों के बीच में बहुत मधुरता अपने जीवनसाथी के साथ में रहने वाली है और कभी ऐसा वातावरण होंगा की मधुरता थोड़ी कम रहेंगी और गलतफेमियो का वातावरण ज्यादा रहेंगा| पर ये समय ऐसा है की आपको अपने जीवनसाथी की भावनाओ को समझना पड़ेंगा| छोटी छोटी बातो को दिल पर नही लगाये और उनके साथ आगे बढे छोटे मोटे यदि कोई झगड़े होते हो तो आप शांति से बैठ कर समझाईस के द्वारा उन मनमुटाव को दूर करने की कोशिश करे वही प्रेमप्रसंगों की भी स्थिति रहेंगी प्रेम प्रसंगों के मामले में आप किसी को प्रपोज करना चाहते है तो थोडा सा आपको रुकना पड़ेंगा| अच्छे समय का इंतजार करना पड़ेंगा| यदि आप पहले से ही किसी रिश्ते में बंधे हुए है तो आपको अपने रिश्ते में सोच समझ कर आगे बढ़ना पड़ेंगा| क्युकी ऐसा नही हो की आपकी गलतफेमी से आप एक अच्छा रिश्ता अपने हाथ से गवां दे इसीलिये सोच समझ कर इसमें आगे बढे पहले उनको थोडा सा समय दे आपको समझने के लिये और आप भी उन्हें समझने की कोशिश करे उसके बाद अपने रिश्तो को आगे ले जाए| सांझेदारी में काम करने पर भी आपको मिलेजुले परिणाम मिलेंगे| पर बीच बीच में आपके और आपके सांझेदार के बीच में जो गलतफेमी होंगी तो वो बढ़ सकती है और सांझेदारी टूट भी सकती है| इसीलिये यदि आपकी सांझेदारी अच्छी चल रही है और आपको उसमे लाभ हो रहा है| तो थोडा सा सोच समझ कर सांझेदारी में आगे बढे सांझेदार की भावनाओ को समझे और दोनों सामंजस्य बीठा कर अपने कारोबार में आगे बढे| Dhanu Rashi Shani

अष्टम भाव: अष्टम भाव पर शनि की दृष्टि पड़ने पर इस दृष्टि से आपको दुर्घटना की सम्भावनाये बढेंगी दुर्घटना ज्यादा से ज्यादा आपके जिंदगी में कुछ ऐसी घटनाये दुर्घटनाएं घटेगी| एक दम से आकस्मिक घटनाएँ घटेंगी और आपके लिये भी अचानक होंगी तो आप उसके लिये मानसिक संतुलन से सही रहे कुछ ऐसी घटनाये अगर आपके साथ घटती है तो स्थिर दिमाग से उनका सामना करे| रिश्तेदारी में भी, परिवारजन में भी कुछ अशुभ समाचार आपको मिल सकते है शनि की दृष्टि पड़ने पर अष्टम भाव वैसे भी थोडा सा सही नही माना जाता है ज्योतिष की दृष्टि से और उस पर शनि की दृष्टि पड़ जाना वो उसको और भी ज्यादा बिगाड़ता है कोई भी छोटा निवेश नही करे शेयर मार्केट में निवेश करने से बचे| लॉटरी में भी निवेश करने से बचे, जुआ, सट्टा इन सब चीजो पर कोशिश नही करे क्युकी अगर आपने कोशिश किया तो आप कंगाल हो सकते है नुकसान इतना ज्यादा हो सकता है की आपको बड़ा घाटा लग सकता है| इसलिये इन चीजो में कोशिश नही करे| जो लम्बे निवेश है उन्ही को करने की कोशिश करे और वाहन चलाते समय विशेष रूप से आपको सावधानी रखनी पड़ेंगी| यात्रा करने पर आप लंबी दुरी की यात्रा को टाल सकते है खुद वाहन चला कर कई पर भी नही जाये रेल, बस का, या हवाई जहाज का उपयोग करे| जहाँ तक हो सके लंबी दुरी की यात्रा को टालने की कोशिश करे, ट्राफिक नियमो का पालन जरुर करे| क्युकी दुर्घटना की सम्भावना बढ़ी हुई है| Dhanu Rashi Shani

भाग्य भाव स्थान: भाग्य आपका जितनी आप मेहनत करेंगे उतना भाग्य आपको परिणाम देंगा यानि लक बहुत ख़राब भी हम आपको नही कहेंगे और बहुत अच्छा भी नही रहने वाला है मतलब मिलेजुले परिणाम भाग्य आपको देंगा इसलिये बहुत ज्यादा रिस्क नही लेना है नया निवेश आपको नही करना है| कोई ऐसी बात व्यापार के अन्दर नही करनी है जिससे आपके कार्य परेशान हो जाए इसीलिये नई योजनाओ को लागू करने की अपेक्षा पुराने लंबित पड़े हुए कामो को ही आपको पूरा करना है| भाग्य जितनी जरूरत होंगी आपका साथ देंगा इसलिये सोच समझ कर अपने निर्णयों को करे संतुलित दिमाग हो कर चलेंगे तो किसी प्रकार की कोई समस्या नही आएंगी| Dhanu Rashi Shani

कर्म भाव: कर्मभाव की यदि हम बात करे तो कर्म स्थान आपका जितनी मेहनत करेंगे उतना परिणाम मतलब अभी हमने आपको भाग्य स्थान में बताया वही कर्म की स्थिति रहेंगी आपकी मेहनत के दम पर आप परिणाम प्राप्त कर पाएंगे| आप सोचे की आपका भाग्य आपका साथ दे देगा| आपको मेहनत कम करनी पड़ेंगी तो ऐसा नही है मेहनत पुरे प्रयास आपको अपने काम में डालने ही पड़ेंगे| तभी आपको सही परिणाम मिलेंगा अन्यथा आपको लाभ की प्राप्ति की स्थितिया नही बनेगी इसीलिये कर्म पर थोडा सा अधिक जोर डाले| पिता से भी आपके खट्टे मीठे रिश्ते रहेंगे| यानी कभी आपके पिता आपको बहुत सहयोग करते हुए नजर आयेंगे| और कभी आपको दोनों के बीच में गलतफेमी जैसी स्थितिया उत्पन्न होंगी| ये आपको तय करना है की आपको किस तरह से इन समस्याओं से झुझना है| क्युकी पिता कभी भी गलत नही होते उनका साथ आपको उनका सानिध्य आपको मिलेगा आशीर्वाद आपको मिलेंगा तो आप आगे ही बढ़ेंगे इसलिये माता पिता के कहने में रहिए उनकी आज्ञा का पालन कीजिए उनको नाराज करना आपके लिये ठीक नही है उनका आशीर्वाद लेकर आप कोई भी काम करेंगे तो उसमे आपको अच्छी सफलता की प्राप्ति जरुर होंगी| Dhanu Rashi Shani

लाभ भाव: लाभ भाव जिस पर शनि की दसवी दृष्टि है लाभ भाव हमारे कर्मो पर आधारित होता है| हमारे कर्म हमारे प्रयास अगर बहुत ज्यादा नही रहेंगे| तो लाभ की स्थितिया कम रहेंगी क्युकी शनि की दृष्टि उस पर पड़ रही है| शनि की साढ़े साती भी आपको चल रही है| तो आप जितना लाभ की अपेक्षा रखते है उतना लाभ आपको नही मिलेंगा थोड़ी खीनत आपके मन में होंगी परन्तु खीन समय आगे आपको आपकी मेहनत का अच्छा फल जरुर देंगा| क्युकी कर्म प्रधान जीवन हमारा रहता है भाग्य हमारा कभी साथ देता है जब हम कर्म करते है तो यदि आपने कर्म किये है तो आज नही तो कल आपके अटकाव की स्थितिया खत्म होंगी और समस्याएं जैसे ही शनि की साढ़े साती ढाई साल की और रही है ये अगर खत्म हो जाएँगी तो उसके बाद स्थितिया अपने आप अच्छे परिणाम आपको जीवन में देना शुरू कर देंगी| Dhanu Rashi Shani

खर्च भाव यानी बारहवां घर: बारहवे घर की यदि हम बात करे तो वही खर्चो में अंकुश आपको लगाना जरुरी है अनर्गल खर्च नही करे| पारिवारिक सदस्यों को भी थोडा सा रोके जितनी जरूरत हो उतना खर्च करे खुद भी जितनी जरूरत हो उतना ही निवेश अपने कार्य क्षेत्र में करे| यानी बहुत बड़ा निवेश आपको अभी नही करना चाहिए| यदि आप नया निवेश करते है तो आपको निश्चित ही संघर्ष करना पड़ेंगा| शनि की साढ़े साती हठ जाने के बाद आप किसी भी बड़े निवेश में अपना पैसा डाल सकते है अपने कार्य क्षेत्र में नया काम शुरू कर सकते है पर तब तक थोड़ी शांति रखिये और जो चल रहा है उसी को चलने दीजिये| Dhanu Rashi Shani

लग्न भाव: आपके लग्न में व्यक्तित्व में कोई परिवर्तन नही आयेंगा| जैसा सामान्य और रूटीन जीवन आपका चल रहा है| वैसा ही आपका जीवन आगे भी चलने वाला है सामाजिक मान प्रतिष्ठा में वृद्धि यश कीर्ति आपकी बढेंगी| लोगो पर, परिवार पर आपका प्रभाव बढेंगा| माता पिता से थोड़ी खीचतान रहेंगी परन्तु जीवन साथी भाई बहनों के साथ आपका रिश्ता अच्छा रहेंगा इसलिये रिश्तो में भी आप तालमेल और सामंजस्य बैठा लेंगे अपनी वाणी से सबको मोहित करते हुए नजर आयेंगे| तो धनु राशि का 12 भावो के हिसाब से शनि का राशि परिवर्तन का ये प्रभाव था जो की हम आपको बताया| Dhanu Rashi Shani

उपाय: हमारे द्वारा बताये जा रहे उपायों को आप जरुर अपनाये ताकि आपके राशि पर पड़ रही शनि के 12 भावो की दृष्टियों के प्रकोप को कम किया जा सके| जिससे शनि की ठंडी दृष्टि आपके ऊपर पड़े और शनि के साढ़े साती का नकारात्मक प्रभाव आपके जीवन पर नही आये| Dhanu Rashi Shani

  • हमारे द्वारा विशेष रूप से धनु राशि वालो के लिये तैयार की गई मूंगा माला में यदि हनुमान यन्त्र लॉकेट डाल के उसे आप अपने गले में धारण करते है हमारे द्वारा इस मूंगा हनुमान लॉकेट को मूंगा माला में स्थापित करके बनाया गया है| ये माला हनुमान यन्त्र लॉकेट के साथ हमारे द्वारा आपके नाम से प्राण प्रतिष्ठित वह अभिमंत्रित सिद्ध करके आप तक पहुचाई जाएँगी| इसे यदि आप अपने गले में धारण करते है तो आपके जीवन में जो सुखो में कमी आ रही है उसमे बढ़ोतरी होंगी, आपके लाभ में भी बढ़ोतरी होंगी जो लाभ की स्थितिया कमजोर हो रही है वो ख़त्म होंगी और जो अष्टम भाव पर दृष्टि पड़ रही है जिससे आपकी दैनिक दिनचर्या परेशान हो रही है, शत्रुओ में वृद्धि हो रही है आपके अनर्गल काम में समस्याएं आ रही है, दुर्घटना हो रही है उन सभी में आपको आराम मिलेंगा तो सही मानिये आपके ये उपाय करना ही पड़ेंगा तब जाकर शनि देव का आशीर्वाद आपको मिलेंगा और शनि देव के सकारात्मक परिणाम आपको मिलेंगे तो इन उपायों को जरुर अपनाये और जीवन को सुगम बनाये| Dhanu Rashi Shani

RELATED PRODUCT

Nidhi Shrimali

About Nidhi Shrimali

Astrologer Nidhi Shrimali is most prominent & renowned astrologer in India, and can take care of any issue of her customer and has been constantly effective.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *