Mulank

Mulank 1 One मूलांक एक 1 वाले लोग कैसे होते है | Numerology अंक ज्योतिष

Mulank 1 One मूलांक एक 1 वाले लोग कैसे होते है | Numerology अंक ज्योतिष Number 1 One Mulaank

Note: Daily, Weekly, Monthly and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Shrimali Ji, almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on  (Kundli Vishleshan) or contact Pandit NM Shrimali  Whatsapp No. 9929391753, E-Mail- info@panditnmshrimali.com

Connect with us at Social Network:-

social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com

10 Mukhi Rudraksha Advantages & Benefits

10 Mukhi Rudraksha Advantages & Benefits | दस मुखी रुद्राक्ष के लाभ एवं धारण विधि | Ten Faced

10 Mukhi Rudraksha Advantages & Benefits | दस मुखी रुद्राक्ष के लाभ एवं धारण विधि | Ten Faced

Note: Daily, Weekly, Monthly and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Shrimali Ji, almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on  (Kundli Vishleshan) or contact Pandit NM Shrimali  Whatsapp No. 9929391753, E-Mail- info@panditnmshrimali.com

Connect with us at Social Network:-

social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com

Vastu Fengshui Dragon Importance & Benefits

Vastu Fengshui Dragon Importance & Benefits | केसे दुर करे वास्तु दोष ड्रैगन से | Solve all Problems

Fengshui Dragon Importance & Benefits | केसे दुर करे वास्तु दोष ड्रैगन से | Solve all Vastu Problems

Note: Daily, Weekly, Monthly and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Shrimali Ji, almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on  (Kundli Vishleshan) or contact Pandit NM Shrimali  Whatsapp No. 9929391753, E-Mail- info@panditnmshrimali.com

Connect with us at Social Network:-

social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com

Fengshui Evil Eye Removal

Fengshui Evil Eye Removal Nazar Suraksha Kavach | नज़र बट्टू कवच

Nazar Suraksha Kavach | Fengshui Evil Eye Removal | नज़र बट्टू कवच

Note: Daily, Weekly, Monthly and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Shrimali Ji, almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on  (Kundli Vishleshan) or contact Pandit NM Shrimali  Whatsapp No. 9929391753, E-Mail- info@panditnmshrimali.com

Connect with us at Social Network:-

social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com

Dhanu Rashi Dhan Prapti

Dhanu Rashi Dhan Prapti धनु राशि धन प्राप्ति के उपाय | Sagittarius Horoscope | Best Astrologer in Rajasthan

धनु राशि धन प्राप्ति के उपाय | Dhanu Rashi | Sagittarius Horoscope | Best Astrologer in Rajasthan

Note: Daily, Weekly, Monthly and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Shrimali Ji, almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on  (Kundli Vishleshan) or contact Pandit NM Shrimali  Whatsapp No. 9929391753, E-Mail- info@panditnmshrimali.com

Connect with us at Social Network:-

social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com

Vrishik Rashi Dhan Prapti

Vrishik Rashi Dhan Prapti वृश्चिक राशि धन प्राप्ति के उपाय | Scorpio Horoscope | Best Astrologer in Rajasthan

वृश्चिक राशि धन प्राप्ति के उपाय | Vrishik Rashi | Scorpio Horoscope | Best Astrologer in Rajasthan

Note: Daily, Weekly, Monthly and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Shrimali Ji, almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on  (Kundli Vishleshan) or contact Pandit NM Shrimali  Whatsapp No. 9929391753, E-Mail- info@panditnmshrimali.com

Connect with us at Social Network:-

social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com

Ek Mukhi Rudraksha

Ek Mukhi Rudraksha एक मुखी रुद्राक्ष के लाभ, उपयोग एवं पहचान

एक मुखी रुद्राक्ष के लाभ, उपयोग एवं पहचान


Ek Mukhi Rudraksha

प्रकति ने हमे कई अमूल्य वस्तुए प्रदान की है| उनमे से एक है रुद्राक्ष ऐसी मान्यता है और पुराणों में यह कहा गया है| की शिव के पसीने की बूंद से रुद्राक्ष का निर्माण हुआ यानि भगवान भोलेनाथ को रुद्राक्ष अतिप्रिय है| वैसे तो सभी रुद्राक्ष अलग अलग देवी देवताओ का प्रतिनिधित्व करते है| और उन सभी का अपना अलग अलग महत्व है| परन्तु उन सभी में सबसे सर्वोत्तम रुद्राक्ष एक मुखी रुद्राक्ष को माना गया है| इस रुद्राक्ष का अपना एक अलग महत्व है| Ek Mukhi Rudraksha आज में एक मुखी रुद्राक्ष के बारे में आपको विस्तृत जानकारी प्रदान करूंगी एक मुखी रुद्राक्ष प्रकति में बहुत ही दुर्भलता से पाया जाता है एक  मुखी रुद्राक्ष तीन प्रकार के होते है| एक काजू आकृति में होता है  यानि अर्द्धचन्द्राकार आकृति में पाया जाता है| और वो भारत में एक मुखी रुद्राक्ष अर्द्धचन्द्राकार मिलता है| दूसरे प्रकार का रुद्राक्ष होता है| वो होता है नेपाली रुद्राक्ष वो गोल दाना होता है| और वो बहुत ही दुर्लभ प्रकति में पाया जाता है| और बहुत ही बहुमूल्य होने की वजह से हमे आसानी से नहीं मिलता है| तीसरे प्रकार का रुद्राक्ष होता है| इंडोनेशियन रुद्राक्ष वो भी अर्द्धचन्द्राकार आकर में ही पाया जाता है| तो ये तीन प्रकार के एक मुखी रुद्राक्ष हमारी प्रकति ने हमको दिए है| और इन प्रकार के रुद्राक्ष का अपना विशेष महत्व है वैसे तो गोल एक मुखी नेपाली दाना है वो सबसे सर्वोत्तम एक मुखी रुद्राक्ष माना जाता है| Ek Mukhi Rudraksha परन्तु उसकी कीमत बहुत अधिक होने के कारण और वो बहुत ही दुर्लभ पाए जाने के कारण वो हमे आसानी से नहीं मिलता इसीलिए ज्यादातर एक मुखी रुद्राक्ष हम अर्द्धचन्द्राकार आकृति का इंडियन दाना ही काम में लेते है| वो भी वो ही काम करता है जो की नेपाली गोल एक मुखी दाना करता है| एक मुखी रुद्राक्ष हमारे नब्ज सिस्टम को बैलेंस करता है| यानि हमारी इन्द्रियों को नियंत्रित करता है एक मुखी रुद्राक्ष हमे मोक्ष प्रदान करने वाला रुद्राक्ष है| हमारे जीवन में जब हम इन्द्रियों को वश में होते है तब हमारे मन में कई सारी इच्छाएं कई सारे विकार होते है| परन्तु यदि हम इन्द्रियों को अपने वश में कर लेते है| तो हमारे अंदर के सारे विकार मिट जाते है| और हमे मोक्ष की प्राप्ति होती है| Ek Mukhi Rudraksha और ये एक मुखी रुद्राक्ष धारण के बाद आसानी से हम कर सकते है| एक मुखी रुद्राक्ष में इतनी शक्ति होती है| की वो रोगो से भी लड़ने में हमारी मदद करता है| धन प्राप्ति के लिए भी एक मुखी रुद्राक्ष विशेष फलदायक साबित होता है| यानि वो धन प्राप्ति के लिए विशेष लाभकारी है| वैसे तो एक मुखी रुद्राक्ष कोई भी व्यक्ति धारण कर सकता है| परन्तु यदि आप प्रशासनिक कार्यो से जुड़े हुए है| नौकरी पेशा, सरकारी कर्मचारी है| या फिर आप राजनीती में प्रवेश करना चाहते है| नेता के पद पर आसीन है तो आपको एक मुखी रुद्राक्ष जरूर धारण करना चाहिए| Ek Mukhi Rudraksha वो आपके विश्वास को बढ़ाएगा और आप में नेतृत्व क्षमता को बढ़ाएगा जिससे आप अपने जीवन में सफलता को प्राप्त करोगे एक मुखी रुद्राक्ष आप धारण तो करते है| परन्तु आपको रुद्राक्ष धारण करते समय कुछ सावधानिया अवश्य रखनी चाहिए यानि रात के समय सोते समय आपको रुद्राक्ष धारण नहीं करना चाहिए सोने से पहले आप उस रुद्राक्ष को अवश्य निकाल ले इसके अलावा आपके घर में किसी शिशु का जन्म हुआ है| तो हमारी स्थानीय भाषा में उसे पिण्डलु बोलते है| तो हमारे घर में यदि कोई शिशु जन्म लेता है| तो हमारे घर में कोई भी शुभ कार्य उस समय नहीं किया जाता उस पिण्डलु  दौरान तो जब शिशु जन्म लेता हैं तो आपको रुद्राक्ष धारण नहीं करना चाहिए| Ek Mukhi Rudraksha वो उतार देना चाहिए या फिर आपको किसी की  अन्तिम यात्रा में जाना है| कोई श्मशान में जा रहे है| या फिर आपके घर में किसी की मृत्यु हो गयी है| तो मृत्युकर्म करते समय आपको रुद्राक्ष धारण नहीं करना चाहिए इसके अलावा आपको मांसाहार का सेवन करते समय या आप शराब या माँस खाते है| तो आपको रुद्राक्ष धारण नहीं करने चाहिए तो ये रुद्राक्ष धारण करते समय कुछ सावधानियाँ थी जो मैंने अभी आपको बताई एक मुखी रुद्राक्ष धारण करने के बाद उसे जाप करने का उसे सिद्ध करने का एक मंत्र है वो मंत्र है| Ek Mukhi Rudraksha

  ऊँ ह्रीं नम:

यदि इस मंत्र का आप उच्चारण नहीं कर पाए या आप किसी भी मंत्र को रुद्राक्ष के विशेष मंत्र बताये गए हैं| उनका यदि आप उच्चारण नहीं कर पाए तो आप ॐ नमः शिवाय का उच्चारण करते हुए उस रुद्राक्ष को धारण कर सकते है | Ek Mukhi Rudraksha मित्रो तो ये थी एक मुखी रुद्राक्ष की जानकारी बहुत बहुमूल्य रुद्राक्ष ये एक मुखी रुद्राक्ष कहलाता है| हमारे पास में अर्द्धचद्राकार और गोल रुद्राक्ष दोनों मिलते है हम उसे प्राण प्रतिष्ठित और सिद्ध करके आप लोगो तक पहुचाते है| Ek Mukhi Rudraksha तो आपको अपने जीवन की समस्या का यदि निराकरण करना है| आप नौकरी पेशा व्यक्ति है, प्रशासन के कार्यो से जुड़े है| या फिर आप राजनीती से जुड़ना चाहते है तो आप एक मुखी रुद्राक्ष अवश्य धारण करे| एक मुखी रुद्राक्ष से आपके जीवन की सभी बाधाए सभी कष्ट दूर हो जायेंगे| Ek Mukhi Rudraksha

Watch Video On Youtube Click Here –

Related Product

Ek One 1 Mukhi Rudraksha 100% Certified & Original

Note: Daily, Weekly, Monthly and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Srimali Ji, almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on  (Kundli ViShleshan) or contact Pandit NM Srimali  Whatsapp No. 9929391753,E-Mail- info@panditnmshrimali.com

Connect with us at Social Network:-

social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com

Diwali Muhurat 2019

Diwali Muhurat 2019 दिवाली लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त 2019

Diwali Muhurat 2019


Diwali Muhurat 2019 पंडित एन. एम श्रीमाली जी के अनुसार दिवाली भारत का सबसे बड़े त्यौहारो में से एक त्यौहार है श्रीमाली जी का मानना हैं की यह त्यौहार मनाने का कारण मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम है क्योकि इस दिन भगवान राम अन्याय पर विजय पा कर सीता माता वह भाई लक्ष्मण के साथ अपना चौहद वर्ष का वनवास पूरा करके अयोध्या लोटे थे अयोध्या लौटने पर अयोध्या वासी तथा सम्पूर्ण भारत वासियो ने अपने घरो के बाहर दीपक लगा कर रौशनी की थी जिससे उस दिन का नाम दिवाली पड़ा तथा उस दिन अमावस्या भी थी तो दिवाली हर वर्ष कार्तिक मास के अमावस्या को भारत देश में पुरे हर्षोल्लास  के साथ मनाई जाती है श्रीमाली के अनुसार  दिवाली का ये त्यौहार पांच दिन तक मनाया जाता है Diwali Muhurat 2019

1 ) धनतेरस

2 ) नरक चतुर्दशी (रूप चौदस)

3 ) दीपावली

4  ) गोर्वधन पूजा

5  )  भाई दूज

1 ) धनतेरस –

धनतेरस का  अपने आप में ही  एक  महत्व है ऐसा माना जाता है की धनतेरस भगवान धन्वतरी जी के लिए मनाया जाता है आज ही के दिन आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति के जन्मदाता धन्वन्तरि वैद्य समुद्र से अमृत कलश लेकर प्रगट हुए थे, इसलिए धनतेरस को धन्वन्तरि जयन्ती भी कहते हैं। श्रीमाली जी के अनुसार धनतरेस इसीलिए वैद्य-हकीम और ब्राह्मण समाज आज धन्वन्तरि भगवान का पूजन कर धन्वन्तरि जयन्ती मनाते  है। आज ही के दिन आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति के जन्मदाता धन्वन्तरि वैद्य समुद्र से अमृत कलश लेकर प्रगट हुए थे, इसलिए धनतेरस को ‘धन्वन्तरि जयन्ती’ भी कहते हैं।  बहुत कम लोग जानते हैं कि धनतेरस आयुर्वेद के जनक धन्वंतरि की स्मृति में मनाया जाता है। इस दिन लोग अपने घरों में नए बर्तन ख़रीदते हैं और उनमें पकवान रखकर भगवान धन्वंतरि को अर्पित करते हैं। लेकिन वे यह भूल जाते हैं कि असली धन तो स्वास्थ्य है।धन्वंतरि ईसा से लगभग दस हज़ार वर्ष पूर्व हुए थे। वह काशी के राजा महाराज धन्व के पुत्र थे।

उन्होंने शल्य शास्त्र पर महत्त्वपूर्ण गवेषणाएं की थीं। उनके प्रपौत्र दिवोदास ने उन्हें परिमार्जित कर सुश्रुत आदि शिष्यों को उपदेश दिए इस तरह सुश्रुत संहिता किसी एक का नहीं, बल्कि धन्वंतरि, दिवोदास और सुश्रुत तीनों के वैज्ञानिक जीवन का मूर्त रूप है। धन्वंतरि के जीवन का सबसे बड़ा वैज्ञानिक प्रयोग अमृत का है। उनके जीवन के साथ अमृत का कलश जुड़ा है। वह भी सोने का कलश। अमृत निर्माण करने का प्रयोग धन्वंतरि ने स्वर्ण पात्र में ही बताया था। उन्होंने कहा कि जरा मृत्यु के विनाश के लिए ब्रह्मा आदि देवताओं ने सोम नामक अमृत का आविष्कार किया था। सुश्रुत उनके रासायनिक प्रयोग के उल्लेख हैं। धन्वंतरि के संप्रदाय में सौ प्रकार की मृत्यु है। उनमें एक ही काल मृत्यु है, शेष अकाल मृत्यु रोकने के प्रयास ही निदान और चिकित्सा हैं। आयु के न्यूनाधिक्य की एक-एक माप धन्वंतरि ने बताई है।

Diwali Muhurat 2019

श्रीमाली जी के अनुसार इस दिन पूजा करने के लिए सर्वप्रथम एक बजोट रखें उस पर स्वस्तिक बना कर भगवान गणेश जी की मूर्ति स्थापित करें | उन्हें पंचामृत से स्नान कराकर शुद्ध जल से स्नान करवाए फिर इन्हें स्थापित करें | उसके पश्चात उन्हें धुप दीप , नैवैध्य , ताम्बुल और दूर्वा चढ़ाकर  “ ॐ गं गणपतये नमः “ का जाप करते हुए उनका आह्वान करें | कुमकुम , रोली , अक्षत चड़ा कर उनकी पूजा करें | उसके पश्चात भगवान धन्वन्तरी की मूर्ति या तस्वीर न हो तो एक सुपारी पर मोली बांधकर मन ही मन उनके प्रतिरूप का आह्वान करते हुए उसे स्थापित करें | इसके पश्चात धन के देवता कुबेर की मूर्ति स्थापित कर उनका इस  मंत्र से आह्वान करें और उनके धुप दीप नैवैद्य के रूप तुलसी दल चढ़ाएं क्योंकि उन्हें औषधीय चढ़ाना अतिप्रिय है और मंत्र का उच्चारण इसके पश्चात् धन देवता कुबेर की मूर्ति स्थापित कर उनका इस मंत्र से आह्वान करें और उनके ऊपर धुप दिप नैवैद्य चढ़ायें | और कुमकुम आदि से पूजा करें | अब अंत में मिटटी का दीपक रखें | जिसे हम यम का दीपक कहते है | वह दीपक दक्षिण दिशा में मुँह होना चाहिए | उसमें  तेल डालें और जोत जलाएं | अब उसमें एक सफेद कोड़ी डालें ध्यान रहे की दीपक बुझे नहीं | अब उसे घर के मुख्य द्वार पर रखें | दिया बुझने पर उसमे से कोड़ी निकाल कर घर तिजोरी में रखें |

धनतेरस dhanteras का पर्व कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है। इस दिन दिपावली का पांच दिवसीय त्यौहार शुरू होता है।
प्रचलित कथा के अनुसार इस दिन समुद्र मंथन से आयुर्वेद के जनक भगवान धन्वन्तरि अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। इस पर उन्होने देवताओं को अमृतपान कराकर अमर कर दिया था। इसको लेकर आयु और स्वस्थता की कामना हेतु धनतेरस पर भगवान धवंतरि का पूजन किया जाता है।
पंडित एन एम श्रीमाली के अनुसार इसी दिन भगवान धवंतरि पूजन भी किया जाता है। शाम के समय दीपक जलाकर घर, दुकान को सजाया जाता है। इसके साथ ही मंदिर गौशाओ, नदी के घाट, तालाब एवं बगीचे में भी दीपक जलाएं जाते है। इस अवसर पर तांबे, पीतल, चांदी के गृह उपयोगी नवीन बर्तन व आभूषण भी खरीदते है। बदलते समय के अनुसार अब लोगों की पंसद और जरूरत दोनों बदल गई है। जिसके कारण धनतेरस के दिन अब बर्तनों ओर आभूषणों के अलावा, वाहन, मोबाइल आदि भी खरीदे जाने लगे है।

धनतेरस का शुभ मुहर्त – कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष द्वादशी (बारस ) शुक्रवार दिनांक 25-10-2019.

दिन में लाभ का शुभ मुहर्त  8 बजकर 11 मिनट से लेकर 9 बजकर 34 मिनट तक रहेगा

अमृत काल का शुभ मुहर्त  9 बजकर 35 मिनट से लेकर 10 बजकर 58 मिनट तक रहेगा

शुभ काल का शुभ मुहर्त 12 बजकर 23 मिनट से लेकर 1 बजकर 45 मिनट तक रहेगा

रात में लाभ काल का शुभ मुहर्त 9 बजकर 10 मिनट से लेकर 10 बजकर 45 मिनट तक रहेगा | Diwali Muhurat 2019

Diwali Muhurat 2019

2 ) नरक चतुर्दशी (रूप चौदस) –

दीपावली पर्व के ठीक एक दिन पहले मनाई जाने वाली नरक चतुर्दशी को छोटी दीवाली, रूप चौदस और काली चतुर्दशी भी कहा जाता है। मान्यता है कि कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी के विधि-विधान से पूजा करने वाले व्यक्ति को सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है। 

इसी दिन शाम को दीपदान की प्रथा है जिसे यमराज के लिए किया जाता है। इस पर्व का जो महत्व है उस दृष्टि से भी यह काफी महत्वपूर्ण त्योहार है। यह पांच पर्वों की श्रृंखला के मध्य में रहने वाला त्योहार है।

दीपावली से दो दिन पहले धनतेरस फिर नरक चतुर्दशी या छोटी दीपावली। इसे छोटी दीपावली इसलिए कहा जाता है क्योंकि दीपावली से एक दिन पहले रात के वक्त उसी प्रकार दीये की रोशनी से रात के तिमिर को प्रकाश पुंज से दूर भगा दिया जाता है जैसे दीपावली की रात को।

इस रात दीये जलाने की प्रथा के संदर्भ में कई पौराणिक कथाएं और लोकमान्यताएं हैं।
श्रीमाली के अनुसार आज के दिन ही भगवान श्रीकृष्ण ने अत्याचारी और दुराचारी दु्र्दांत असुर नरकासुर का वध किया था और सोलह हजार एक सौ कन्याओं को नरकासुर के बंदी गृह से मुक्त कर उन्हें सम्मान प्रदान किया था। इस उपलक्ष्य में दीयों की बारात सजाई जाती है।
इस दिन के व्रत और पूजा के संदर्भ में एक दूसरी कथा यह है कि रंति देव नामक एक पुण्यात्मा और धर्मात्मा राजा थे। उन्होंने अनजाने में भी कोई पाप नहीं किया था लेकिन जब मृत्यु का समय आया तो उनके समक्ष यमदूत आ खड़े हुए।
यमदूत को सामने देख राजा अचंभित हुए और बोले मैंने तो कभी कोई पाप कर्म नहीं किया फिर आप लोग मुझे लेने क्यों आए हो क्योंकि आपके यहां आने का मतलब है कि मुझे नर्क जाना होगा। आप मुझ पर कृपा करें और बताएं कि मेरे किस अपराध के कारण मुझे नरक जाना पड़ रहा है।
यह सुनकर यमदूत ने कहा कि हे राजन् एक बार आपके द्वार से एक बार एक ब्राह्मण भूखा लौट गया था,यह उसी पापकर्म का फल है। इसके बाद राजा ने यमदूत से एक वर्ष समय मांगा। तब यमदूतों ने राजा को एक वर्ष की मोहलत दे दी। राजा अपनी परेशानी लेकर ऋषियों के पास पहुंचे और उन्हें अपनी सारी कहानी सुनाकर उनसे इस पाप से मुक्ति का क्या उपाय पूछा।
तब ऋषि ने उन्हें बताया कि कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी का व्रत करें और ब्राह्मणों को भोजन करवा कर उनके प्रति हुए अपने अपराधों के लिए क्षमा याचना करें। राजा ने वैसा ही किया जैसा ऋषियों ने उन्हें बताया।
इस प्रकार राजा पाप मुक्त हुए और उन्हें विष्णु लोक में स्थान प्राप्त हुआ। उस दिन से पाप और नर्क से मुक्ति हेतु भूलोक में कार्तिक चतुर्दशी के दिन का व्रत प्रचलित है।Diwali Muhurat 2019
रूप चौदस सुबह स्नान का शुभ मुहर्त 5 बजकर 15 मिनट से लेकर 6 बजकर 30 मिनट तक का रहेगा |
                        स्नान के समय तेल का उबटन अवश्य करे|

3 ) दीपावली –

श्रीमाली जी के अनुसार हर वर्ष भारतवर्ष में दिवाली का त्यौहार बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है. प्रतिवर्ष यह कार्तिक माह की अमावस्या को मनाई जाती है. रावण से दस दिन के युद्ध के बाद श्रीराम जी जब अयोध्या वापिस आते हैं तब उस दिन कार्तिक माह की अमावस्या थी, उस दिन घर-घर में दिए जलाए गए थे तब से इस त्योहार को दीवाली के रुप में मनाया जाने लगा और समय के साथ और भी बहुत सी बातें इस त्यौहार के साथ जुड़ती चली गई.

दीवाली के दिन लक्ष्मी का पूजा का विशेष महत्व माना गया है, इसलिए यदि इस दिन शुभ मुहूर्त में पूजा की जाए तब लक्ष्मी व्यक्ति के पास ही निवास करती है. “ब्रह्मपुराण” के अनुसार आधी रात तक रहने वाली अमावस्या तिथि ही महालक्ष्मी पूजन के लिए श्रेष्ठ होती है. यदि अमावस्या आधी रात तक नहीं होती है तब प्रदोष व्यापिनी तिथि लेनी चाहिए. लक्ष्मी पूजा व दीप दानादि के लिए प्रदोषकाल ही विशेष शुभ माने गए हैं.Diwali Muhurat 2019

दीपावली का शुभ मुहर्त – कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष अमावस्या दिनांक 27-10-2019 .

दिन में लाभ काल का शुभ मुहर्त 9 बजकर 36 मिनट  से लेकर 10 बजकर 58 मिनट तक रहेगा

अमृत काल में शुभ मुहर्त 10 बजकर 59 मिनट से लेकर 12 बजकर 22 मिनट तक रहेगा

शुभ काल में शुभ मुहर्त  1 बजकर 46 मिनट से लेकर 3 बजकर 9 मिनट तक रहेगा Diwali Muhurat 2019

रात्रि महालक्ष्मीं  पूजन शुभ मुहर्त -Diwali Muhurat 2019

गोधुलिक सांय मेष लग्न वालो के लिए शुभ मुहर्त  5 बजकर 26 मिनट से लेकर  7 बजकर 3 मिनट तक रहेगा

शुभ का चौघड़िया   5 बजकर 56 मिनट से लेकर 7 बजकर 32 मिनट तक रहेगा

वृषभ लग्न  शुभ मुहर्त 7 बजकर 04 मिनट से लेकर रात्रि 9 बजे तक रहेगा

अमृत काल का चौघड़िया 7 बजकर 33 मिनट से लेकर 9 बजकर 09 मिनट तक रहेगा

ग्रहबलि कर्क लग्न का चौघड़िया रात्रि 11 बजकर 15 मिनट से लेकर रात्रि 1 बजकर 33 मिनट तक रहेगा

सिंह लग्न का चौघड़िया रात्रि 1 बजकर 34 मिनट से लेकर 3 बजकर 48 मिनट तक रहेगा

लाभ का चौघड़िया रात्रि 2 बजे से लेकर 3 बजकर 35 मिनट तक रहेगा

शुभ का चौघड़िया सुबह 5 बजकर 13 मिनट से लेकर 6 बजकर 49 मिनट तक रहेगा Diwali Muhurat 2019

4  ) गोर्वधन पूजा –

बलि प्रतिप्रदा या गोर्वधन पूजा (अन्नकूट पूजा) कार्तिक महीने में मुख्य दिवाली के एक दिन बाद पडती है। हिन्दूओं द्वारा यह त्यौहार भगवान कृष्ण द्वारा इन्द्र देवता को हराने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। कभी कभी दिवाली और गोर्वधन के बीच में एक दिन का अन्तराल हो सकता है। लोग हिंदू भगवान कृष्ण को प्रदान करने के लिए गेहूं, चावल, बेसन और पत्तेदार सब्जियों की करी के रूप में अनाज का भोजन बनाकर गोवर्धन पूजा करते हैं।

भारत के कुछ स्थानों पर जैसे महाराष्ट्र में यह बलि प्रतिप्रदा या बलि पडवा के रुप में मनाया जाता है। यह भगवान वामन (भगवान विष्णु के अवतार) की राक्षस राजा बलि के ऊपर विजय के सम्मान में मनाया जाता है। यह माना जाता है कि राजा बलि को ब्रह्मा द्वारा शक्तिशाली होने का वरदान प्राप्त था।

कहीं-कहीं यह दिन कार्तिक के महीने की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा पर गुजरातियों द्वारा नए साल के रूप में मनाया जाता है।

गोर्वधन पूजा गोर्वधन पर्वत, जिसने भयंकर बारिश के दौरान बहुत से लोगों के जीवन की रक्षा की थी, के इतिहास के उपलक्ष्य में मनायी जाती है। यह माना जाता है कि गोकुल के लोग बारिश के देवता के रुप में देवता इन्द्र की पूजा करते थे। किन्तु भगवान कृष्ण ने गोकुल के लोगों की इस धारणा को बदला। उन्होंने कहा कि हमें अन्नकूट पहाड या गोर्वधन पर्वत की पूजा करनी चाहिये क्योंकि वे ही असली भगवान के रुप में हमारा पोषण करते है, भोजन देते है, और कठोर परिस्थितियों में हमारा जीवन बचाने के लिये आश्रय देते है।Diwali Muhurat 2019

इस प्रकार उन्होंने देवता इन्द्र के स्थान पर पर्वत की पूजा करनी शुरु कर दी। यह देखकर इन्द्र बहुत क्रोधित हुआ और उसने गोकुल पर बहुत अधिक वर्षा करनी प्रारम्भ कर दी। अन्त में भगवान कृष्ण ने अपनी छोटी अंगुली पर गोर्वधऩ पर्वत उठाकर गोकुल के लोगो को इस पर्वत के नीचे ढक कर उनके जीवन की रक्षा की। इस प्रकार भगवान कृष्ण ने इन्द्र का घमण्ड तोङा। अब यह दिन गोर्वधन पूजा के रुप में गोर्वधन पर्वत को सम्मान देने के लिये मनाया जाता है।

महाराष्ट्र में यह दिन पडवा या बलि प्रतिपदा के रुप में मनाया जाता है, क्योंकि यह माना जाता है कि भगवान विष्णु द्वारा वामन (भगवान विष्णु के अवतार) रुप में राक्षस राजा बलि को हराकर पाताल लोक को भेजा गया।

श्रीमाली जी के अनुसार गोकुल और मथुरा के लोग बड़े उत्साह और खुशी के साथ इस त्यौहार को मनाते हैं। लोग गोर्वधन पर्वत का एक घेरा बनाते है, जिसे परिक्रमा के नाम से भी जाना जाता है (जो मानसी गंगा में नहाकर मानसी देवी, हरीदेवा और ब्रह्मकुण्ड की पूजा करके शुरु होता है। गोर्वधन परिक्रमा के रास्ते में लगभग 11 शिलायें है, जिनका अपना महत्व है) और पूजा करते है।

लोग गाय के गोबर से गोर्वधन धारा जी के रुप में बनाते है और उसे भोजन और फूलों से सुसज्जित करके पूजा करते है। अन्नकूट का अर्थ है कि लोग विविध प्रकार के भोग बनाकर भगवान कृष्ण को अर्पित करते है। भगवान की मूर्ति को दूध में नहला कर और नये कपडों के साथ साथ नये गहने पहनाये जाते है। उसके बाद पारपंरिक प्रार्थना, भोग और आरती के साथ पूजा की जाती है।Diwali Muhurat 2019

यह पूरे भारत में भगवान कृष्ण के मन्दिरों को सजाकर और बहुत सारे कार्यक्रमों को आयोजित करके मनाया जाता है और पूजा के बाद भोजन लोगो के बीच में बाँट दिया जाता है। लोग प्रसाद लेकर और भगवान के पैर छूकर भगवान कृष्ण से आशीर्वाद लेते है।

श्रीमाली जी के अनुसार गोवर्धन पूजा का महत्व

लोग गोर्वधन पर्वत की अन्नकूट (विभिन्न प्रकार के भोजन) बनाकर गोर्वधन पर्वत की नाच कर और गाकर पूजा करते है। वे मानते है कि पर्वत ही असली भगवान है और वह हमें जीने का रास्ता प्रदान करता है, गंभीर स्थिति में आश्रय प्रदान करता है और उनके जीवन को बचाता है। हर साल गोवर्धन पूजा विभिन्न रीति रिवाजों और परंपराओं बहुत के साथ खुशी से मनाते हैं। लोग बुराई की शक्ति पर भगवान की जीत के उपलक्ष्य में इस खास दिन पर भगवान कृष्ण की पूजा करते हैं।

लोग इस विश्वास से गोवर्धन पर्वत की पूजा करते हैं कि वे कभी इस पहाड़ के द्वारा संरक्षित किये गये थे और उन्हें हमेशा रहने का स्रोत मिला था। लोग सुबह में अपनी गायों और बैलों को स्नान कराते है और उन्हें केसर और मालाओं आदि से सजाते है। वे गाय के गोबर का ढेर बनाकर खीर, बतासे, माला, मीठे और स्वादिष्ट भोजन के साथ पूजा करते है। वे छप्पन भोग (56 प्रकार के भोजन) के लिये नवैध या 108 प्रकार के भोजन पूजा के दौरान भगवान को अर्पित करने के लिये बनाते है।Diwali Muhurat 2019

श्रीमाली जी के अनुसार गोर्वधन पर्वत मोर के आकार में है जिसका इस प्रकार वर्णन किया जा सकता है: राधा कुण्ड और श्याम कुण्ड आँख बनाते है, दन गती गर्दन बनाती है, मुखारबिन्द मुँह का निर्माण करती है और पंचारी लम्बे पंखो वाली कमर का निर्माण करती है। यह माना जाया है कि पुलस्त्य मुनि के शाप के कारण इस पर्वत की ऊँचाई दिन प्रतिदिन (रोज सरसों के एक बीज के बराबर) घटती जा रही है।

एकबार, सतयुग में, पुलस्त्य मुनि द्रोणकैला (पर्वतों का राजा) के पास गये और उसके गोर्वधन नाम के बेटे से अनुरोध किया। राजा बहुत उदास था और उसने मुनि से अपील की कि वह अपने बेटे से वियोग सहन नहीं कर सकता। अन्त में एक शर्त के साथ उसने अपने पुत्र को मुनि के साथ भेजा कि यदि कहीं रास्ते में उसे नीचे रखा तो वह सदा के लिये वही रुक जायेगा।Diwali Muhurat 2019

रास्ते में, बृजमंडल से गुजरते समय मुनि ने शौच करने के लिये उसे नीचे रख दिया। वापस आने के बाद उन्होने देखा कि वह उसे उस स्थान से उठा नहीं पा रहे है। तब वह क्रोधित हो गये और उन्होंने गोर्वधन को धीरे-धीरे आकार में छोटा होने का श्राप दे दिया। यह पहले 64 मील लम्बा, 40 मील चौडा और 16 मील ऊँचा था जो घटकर केवल 80 फीट रह गया है।Diwali Muhurat 2019

श्रीमाली जी के अनुसार गोर्वधन पूजा का शुभ मुहर्त  दीपावली की अगले दिन गोवर्धन पूजा की जाती है। ये त्यौहार अन्नकूट के नाम से भी प्रसिद्ध है। गोर्वधन पूजा का भारतीय लोकजीवन में काफी महत्व है, क्योंकि इस पर्व में प्रकृति के साथ मानव का सीधा संबंद दिखाई देता है।Diwali Muhurat 2019

शुभ मुहर्त सांय 3 बजकर 23 मिनट से लेकर 5 बजकर 36 मिनट तक रहेगा

दिनांक 28-10-2019 को प्रतिपदा की शुभ तिथि का शुभ मुहर्त सुबह 9 बजकर 08 मिनट से लेकर

दिनांक 29-10-2019  सुबह 6 बजकर 13 मिनट तक रहेगा |

5  )  भाई दूज –

श्रीमाली जी के अनुसार 5 दिवसीय दीपोत्सव का समापन दिवस है भाईदूज

श्रीमाली के अनुसार कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया को भैयादूज अथवा यम द्वितीया को मृत्यु के देवता यमराज का पूजन किया जाता है। इस दिन बहनें भाई को अपने घर आमंत्रित कर अथवा सायं उनके घर जाकर उन्हें तिलक करती हैं और भोजन कराती हैं।Diwali Muhurat 2019
ब्रजमंडल में इस दिन बहनें भाई के साथ यमुना स्नान करती हैं जिसका विशेष महत्व बताया गया है। भाई के कल्याण और वृद्धि की इच्छा से बहनें इस दिन कुछ अन्य मांगलिक विधान भी करती हैं। यमुना तट पर भाई-बहन का समवेत भोजन कल्याणकारी माना जाता है।
श्रीमाली के अनुसार इस दिन भगवान यमराज अपनी बहन यमुना से मिलने जाते हैं। उन्हीं का अनुकरण करते हुए भारतीय भ्रातृ परंपरा अपनी बहनों से मिलती है और उनका यथेष्ट सम्मान पूजनादि कर उनसे आशीर्वाद रूप तिलक प्राप्त कर कृतकृत्य होती हैं। Diwali Muhurat 2019

बहनों को इस दिन नित्य कर्म से निवृत्त होकर अपने भाई के दीर्घ जीवन, कल्याण एवं उत्कर्ष तथा स्वयं के सौभाग्य के लिए अक्षत (चावल) कुंकुमादि से अष्टदल कमल बनाकर इस व्रत का संकल्प कर मृत्यु के देवता यमराज की विधिपूर्वक पूजा करनी चाहिए। इसके पश्चात यमभगिनी यमुना, चित्रगुप्त और यमदूतों की पूजा करनी चाहिए, तदंतर भाई को तिलक लगाकर भोजन कराना चाहिए। इस विधि के संपन्न होने तक दोनों को व्रती रहना चाहिए।

कार्तिक शुक्ल द्वितीया जिसे भैयादूज भी कहा जाता है, यह पांच दिवसीय दीपोत्सव का समापन दिवस है।
इस पर्व के संबंध में पौराणिक कथा इस प्रकार मिलती है। सूर्य की संज्ञा से 2 संतानें थीं- पुत्र यमराज तथा पुत्री यमुना। संज्ञा सूर्य का तेज सहन न कर पाने के कारण अपनी छायामूर्ति का निर्माण कर उसे ही अपने पुत्र-पुत्री को सौंपकर वहां से चली गई। छाया को यम और यमुना से किसी प्रकार का लगाव न था, किंतु यम और यमुना में बहुत प्रेम था।Diwali Muhurat 2019
यमुना अपने भाई यमराज के यहां प्राय: जाती और उनके सुख-दुख की बातें पूछा करती। यमुना यमराज को अपने घर पर आने के लिए कहती, किंतु व्यस्तता तथा दायित्व बोझ के कारण वे उसके घर नहीं जा पाते थे।
एक बार कार्तिक शुक्ल द्वितीया को यमराज अपनी बहन यमुना के घर अचानक जा पहुंचे। बहन यमुना ने अपने सहोदर भाई का बड़ा आदर-सत्कार किया। विविध व्यंजन बनाकर उन्हें भोजन कराया तथा भाल पर तिलक लगाया। यमराज अपनी बहन से बहुत प्रसन्न हुए और उन्होंने यमुना को विविध भेंटें समर्पित कीं। जब वे वहां से चलने लगे, तब उन्होंने यमुना से कोई भी मनोवांछित वर मांगने का अनुरोध किया।
यमुना ने उनके आग्रह को देखकर कहा- भैया! यदि आप मुझे वर देना ही चाहते हैं तो यही वर दीजिए कि आज के दिन प्रतिवर्ष आप मेरे यहां आया करेंगे और मेरा आतिथ्य स्वीकार किया करेंगे।Diwali Muhurat 2019
इसी प्रकार जो भाई अपनी बहन के घर जाकर उसका आतिथ्य स्वीकार करे तथा उसे भेंट दें, उसकी सब अभिलाषाएं आप पूर्ण किया करें एवं उसे आपका भय न हो। यमुना की प्रार्थना को यमराज ने स्वीकार कर लिया। तभी से बहन-भाई का यह त्योहार मनाया जाने लगा।
श्रीमाली के अनुसार इस त्योहार का मुख्य उद्देश्य है भाई-बहन के मध्य सौमनस्य और सद्भावना का पावन प्रवाह अनवरत प्रवाहित रखना तथा एक-दूसरे के प्रति निष्कपट प्रेम को प्रोत्साहित करना। इस प्रकार ‘दीपोत्सव-पर्व’ का धार्मिक, सामाजिक एवं राष्ट्रीय महत्व अनुपम है।Diwali Muhurat 2019
श्रीमाली जी के अनुसार भाईदूज का शुभ मुहर्त दिनांक 29-10-2019 मंगलवार को टीका मुहर्त 1 बजकर 10 मिनट से लेकर 3 बजकर 22 मिनट तक रहेगा |

Note: Daily, Weekly, Monthly and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Shrimali Ji, almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on  (Kundli Vichleshan) or contact Pandit NM Shrimali  Whatsapp No. 9929391753,E-Mail- info@panditnmshrimali.com

Connect with us at Social Network:-

social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com

 

 

 

Shravan Maas

Shravan Maas श्रावण मास का महत्व

श्रावण मास का महत्व


 शिव– मगलदाता शंकर- कल्याण करने वाला Shravan Maas ,शिव -विरक्त है,त्यागी है ,ऐश्वर्यवान है ,श्मशानवासी है,आक धतूरा भाग का सेवन करने वाले है,सर्प जिनके गले का हर है ,बेल जिनकी सवारी है ,भस्म जिनका श्रृंगार है,श्रावण मास शिव गोरी को प्रिय मास है, जो की शीतल हवा,रिमझिम वर्षा नए पुष्पों पत्तो का आगमन का समय ,इस सुन्दर धरा को हरी हरी कोमल गैस से आच्छादित करने का मास है महिलाओ के लिए संजीवनी बुटी सा मास है ,शिव ही बर्ह्म है और ब्रह्म ही शिव है शिव में से इ कर हटा दे तो शव ही रह जाता है वैसे ही किसी मनुष्य में से शिव निकल जाने पर वह शव ही रह जाता है ,शिव ही सहारक तारक और पालक है,शिव ही सताय है शिव ही सुन्दर है शिव ही कल्याणकारी है यथार्थ सत्यम शिवम् सुंदरम ,शिव शांति है शक्ति है ,पूजा है ,आत्मा है कल्याण हैविरक्ति है मोक्ष है अमृत देने वाले है नटराज है रूद्र है अर्धनारीश्वर है त्रिनेत्रधरी है , Shravan Maas
अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति का मास है उत्तम वर की प्रापति का मास है निर्धनता दूर भागने का मास है ,संतान प्राप्ति का मास है शिव की शक्ति पाने का मास है भोले नाथ जल्दी ही प्रसन्ना हो जाते है पुरे श्रावण मास में तथा विशेष तोर से श्रावण मास के सवार को रुद्राभिषेक करे ,शिव स्मरण करे ॐ नम: शिवाय का जप करे|

अनुकूल करे ग्रह – सूर्य ,सूर्य ख़राब स्थिति में है यानि नीच का है शत्रु शृंगी है ,निचे दृष्टि से ग्रस्त है ,यानि आपको सिरदर्द रहता हो ,आखो पर चश्मा हो ह्रदय सम्बन्धी रोग हो ,मनोबल कमजोर हो, पिता से लड़ाई झगड़ा ,अनबन ,हडडी संबंधी रोग हो तो श्रावण के सोमवार को स्फटिक शिवलीग पर जल से अभिषेक करे सफेद ाक के फूल चढ़ाये और १२ मुखी रुद्राक्ष धारण करे ,
चंद्र- चंद्र की स्थिति ख़राब है या नीच का है तो आपको सर्दी जुकाम ,नजला,सिरदर्द ,सफ़ेद डेग ,गले में खराबी ,मेन्टल डिप्रेशन ,टेंशन से ग्रषित रहते है टी श्रावण के मास में विशेष तोर पर सोमवार को कच्चे दूध से अभिषेख करे ,पारद /चांदी के शिवलिंग पर शिव महिमा स्र्त्रो का पाठ करे | शिव यन्त्र पेन्डेन्ट धारण करे | Shravan Maas

मंगल -मंगल दोष है या आप मांगलिक है | या ब्लड प्रेसर ,खूनसम्बन्धी विकार ,क्रोध अधिक आना विवाह में विलम्भ होना तो गिलोय की बूटी  के रस से शिव पर अभिषेक | समस्या का समाधान होगा | १४ मुखी रुद्राक्ष धारण करे |
बुध-बुध दोष है ,बुध कमजोर है नीच का है शत्रु क्षेत्री है तो मानसिक तकलीफ रहेगी बुद्धि का विकास नहीं होगा ,याददास कमजोर होगी ,ऑटो की तकलीफ रहेगी तो विधारा की बूटी के रास से मरगज शिवलिंग पर अभिषेक करे
गुरु – यदि कुंडली में बृहस्पति कमजोर हो तो संतान सम्बंधित समस्या स्किन problem, चर्बी की समस्या होगी अतः स्फटिक शिवलिंग या महामृतुम्जय यंत्र पर कच्चे दूध में हल्दी मिलाकर अभिषेक करे | पांच मुखी रुद्राक्ष धारण करें |शुक्र : दैत्य गुरु शुक्र कमज़ोर हो , नीचस्य हो , भग्र श्रेणी हो , तो मल-मूत्र की समस्या शादी में समस्या गुप्तांग संबंधी रोग , यौन रोग , वीर्य की कमी हो सकती है तो पारद शिवलिंग, शिव यंत्र पेंडेंट , छः मुखी रुद्राक्ष पर पंचामृत से अभिषेक करें |

शनि : शनि ग्रह दूषित है तो जोड़ो , मांसपेशियों में तकलीफ , हडियों में तकलीफ , शरीर के स्नायु तंत्र की तकलीफ हो तो महामृत्युम्जय यंत्र पर काले पत्थर के लाजाव्रत शिवलिंग (lapis lazuli shivling) पर सात मुखी रुद्राक्ष , गन्ने का रस से अभिषेक करें |

राहु-केतु : राहु-केतु की समस्या हो तो पितृ दोष , कालसर्प दोष , कोई कचहरी , मुकदमा , पुलिस संबंधी परेशानी हो तो नर्मदेश्वर शिवलिंग पर भांग से अभिषेक करें , आठ मुखी रुद्राक्ष धारण करें |

Shravan Maas श्रावन मास का महत्व :-

भगवान शिव ने ब्रह्मा जी के मानसपुत्र सनत कुमार को श्रावन मास की महिमा बताते हुए कहा था कि मेरे तीन नेत्रों में से सूर्य दाहिने ,चन्द्र बाएँ तथा मध्य नेत्र अग्नि है – जैसा कि आप जानते है चन्द्रमा की कर्क राशि व सूर्य की सिंह राशि है | जब सूर्य कर्क से सिंह राशि तक की यात्रा करते है तब ये दोनों संकातिया अत्यंत पुण्य फलदायी हो जाती है , और ये दोनों संकातिया श्रावन मास में हो जाती है | इसलिए भगवान शिव को श्रावन अत्यंत प्रिय है | सोमवार चन्द्र का वार है चन्द्र भगवान  शिव के नेत्र है , सोम ओषधियों के देवता है , शांति व शीतलता प्रदान करने   वाले है , इसलिए सोमवार  को शिवालिये की पूजा , व्रत , उपासना , भजन –कीर्तन करने से शारीरिक , मानसिक कष्ट दूर ओ जाते है | सोलह सोमवार का भी अत्यंत महत्व है , जिसका पालन , पूजन करने से कन्याओ को मनवांछित वर की प्राप्ति होती है |

Shravan Maas इस बार श्रावन मास का प्रारम्भ :-

प्रदोष व्रत शत्रुओं पर विजय हेतु –  सरसों के तेल से अभिषेक

कालसर्प कर्जमुक्ति हेतु – कच्चे दूध से गंगाजल मिलाकर

साधनायें महिलाओं की सौभाग्य प्राप्ति – पंचामृत से

बारह ज्योतिर्लिंग व्यापर वृद्धि –  घी से (गाय के )

बिल्वपत्र पत्र धन प्राप्ति हेतु  –   कच्चे दूध में केसर , मिश्री से

महामृतुम्जय जाप रोग निदान हेतु  –   जल में काले तिल (महामृतुम्जय का जाप )


Note: Daily, Weekly, Monthly and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Srimali Ji, almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on  (Kundli Vichleshan) or contact Pandit NM Srimali  Whatsapp No. 9929391753,E-Mail- info@panditnmshrimali.com

Connect with us at Social Network:-

social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com

 

 

Guru Purnima

Guru Purnima गुरु पूर्णिमा का महत्व

Guru Purnima गुरु पूर्णिमा 


गुरु बर्ह्मा गुरु विष्णु गुरु देवो : महेशवराय
गुरु साक्षात् पर बर्ह्मा तस्मे श्री गुरुवे नमः


आषाढ़ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है गुरु पूर्णिमा अर्थात गुरु के ज्ञान एवं उनके स्नेह का स्वरूप है अगर आपके शरीर का ज्ञान चक्र सही ढंग से स्पंदित नहीं है ,तो वही आपके मन की पीड़ाओं का कारण होता है गुरु ही आपको आपकी देह,आपके मन का ज्ञान करता है और आपके मन में स्थित शक्ति के चक्रों की जानकारी देता है तथा आपके स्वयं के भीतर जो आज्ञा चक्र है उसका ज्ञान  हिन्दू धर्म को गुरु का स्थान ईश्वर से भी ऊपर दिया गया है ,कहा गया है की ,
“गुरु गोविन्द दोउ खड़े काके लागु पाव बलिहारी गुरु आपने गोविन्द दियो बताय”
गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है ,इस दिन महाभारत के सच्चिता कृष्ण द्वैपाथन व्यास का जन्म भी हुआ है | गुरु हमें अंधकार से प्रकाश की और ले जाने वाले होते है | ईश्वर का ज्ञान गुरु ही करवाता है | गुरु आत्मा-परमात्मा के मध्य का सम्बध होता  गुरु से ज्ञान प्राप्त कर ही मनुष्य अपनी जिज्ञासाओं  को समाप्त करने में सक्षम होता है |

गुरु का महत्व 

गुरु को ब्रह्मा की संज्ञा दी गई है,माँ को जन्म देने के साथ-साथ बच्चे का प्रथम गुरु कहाँ गया है | गुरु अपने ज्ञान से उसको नया जन्म देता है, गुरु ही सक्षम महादेव है गुरु का महत्व सभी दृष्टि से सार्थक है | आध्यात्मिक शांति ,ज्ञान और सांसारिक निर्वाह के लिए गुरु ज्ञान जरुरी है | गुरु को ज्ञान का पूंज कहा गया है |हमारे जीवन में गुरु का अत्यधिक महत्व है गुरु दीक्षा जरूर ले | अपने मन में गुरु के प्रति समर्पित भाव जगाकर गुरु को रोम रोम में समाहित कर अपने आज्ञा चक्र को जागृत करे |
गुरु वही है जो आपके ह्रदय में रम जाए आपके ज्ञान रूपी चक्षुओ को खोलकर अज्ञान के अंधकार को दूर करे आपके ह्रदय को भावो से भर के और आपको पूर्ण जाग्रति की अवस्था की और ले जाये वही आपके गुरु है  गुरु वह है जो आपके आतंरिक ज्ञान के नेत्र को खोले गुरु के सामने आते ही मानव रूपेण साक्षात् सूर्य प्रकाशमान हो जाये,गुरु के सामने आते ही मन में हलचल हो जाये एक अलग ही आनंद की अनुभूती हो , मन ज्ञान प्राप्त करने को आतुर हो जाये ,हजारो प्रशनो का सैलाब उमड़ पड़े वही व्यक्ति आपका गुरु है ,गुरु का ज्ञान होना और गुरु का लेना दोनों आपके व्यक्तित को सामान्य से उत्तम पुरुष बनाएगा और आपके व्यतीत को नई  ऊचाई  प्रदान करेगा |

शिष्य धर्म क्या है :-

  1.  मन के नकारात्मक विचारो को बाहर  निकालना
  2.  गुरु का समय- समय पर मार्ग दर्शन प्राप्त करे
  3.  गुरु की आज्ञा से ही नया काम प्रारम्भ  करे ,कोई बड़ी समस्या आने पर गुरु शरण में जाये एव आज्ञा प्राप्त करके ही कार्य करे |
  4.  कोई मंत्र साधना ,गुरु आज्ञा से ही प्रारम्भ  करे ,सम्पन्न करे
  5.  गुरु का हमेशा आदर करे |
  6. पण्डित एन एम श्रीमाली जी से गुरु दीक्षा प्राप्त कर अपने जीवन को सफल बनाने हेतु जोधपुर कार्यालय पर सम्पर्क करे |

Must Buy Products on Guru Purnima:-

  1. Guru Yantra ( Click Here..)
  2. Guru Yantra Pendant ( Click Here..)


Note: Daily, Weekly, Monthly and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Shrimali Ji, almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on  (Kundli Vishleshan) or contact Pandit NM Shrimali  Whatsapp No. 9929391753,E-Mail- info@panditnmshrimali.com

Connect with us at Social Network:-

social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com social network panditnmshrimali.com