Astro Gyaan, Astrology Tips, Featured

Basant Panchmi 29 जनवरी 2020 बसंत पंचमी का महत्व, राशिगत उपाय

Basant Panchmi

29 जनवरी 2020 बसंत पंचमी का महत्व, राशिगत उपाय


Basant Panchmi

Image result for बसंत पंचमी PNG

“सरस्वती मया दृष्ट्वावीणा पुस्तक धारणीम् ।

हंस वाहिनी समायुक्ता मां विद्या दान करोतु मम:”

पंडित एन एम श्रीमाली जी के अनुसार इस वर्ष बसंत पंचमी आगामी 29 जनवरी 2020 को आने वाली है| माँ सरस्वती का आव्हान इस दिन किया जाता है और ना केवल ये दिन कई लोगो की ये भ्रान्ति है विद्यार्थियों को, जो शिक्षण व्यवसायों से जुड़े हुए है उनको, या जो पढाई में कार्यरत है जिनको करियर बनाना है, जो संगीत कला से जुड़े हुए है उन्ही को ही सरस्वती माँ की आराधना करनी चाहिए ऐसा नही है| सरस्वती माँ की आराधना प्रत्येक व्यक्ति को उसी प्रकार करनी चाहिए| जिस प्रकार हम माँ लक्ष्मी की पूजा आराधना करते है क्युकी माँ लक्ष्मी का आशीर्वाद तभी प्राप्त होंगा| जब हमे माँ सरस्वती का आशीर्वाद प्राप्त होंगा| वो ज्ञान की देवी है, कला की देवी है, हुनुर की देवी है, आप में यदि हुनुर होंगा तभी आप कमा पाएंगे धन तभी माँ लक्ष्मी का आशीर्वाद मिलेंगा| या फिर आप में ज्ञान ही नही होंगा तो आप माँ लक्ष्मी का कैसे प्राप्त कर पाएंगे| तो सरस्वती माँ की पूजा आराधना का सबसे विशिष्ठ दिन बसंत पंचमी के दिन आता है| ये पर्व शीत ऋतू की समाप्ति और बसंत ऋतू के आगमन के रूप में भी मनाया जाता है| चारो तरफ खेतो में हरियाली, चारो तरफ हर्षोल्लास का माहौल होता है| बसंत पंचमी के दिन हम भगवान विष्णु, और कामदेव की भी पूजा आराधना करते है| क्युकी बसंत पंचमी का पर्व प्रेम में वृद्धि का पर्व है| प्यार के प्रतीक के रूप में इस पर्व को देखा जाता है| मतलब इंसान ही नही जानवर भी पेड़ पौधे भी हमारी पूरी प्रक्रति हर्षोल्लास से इस पर्व को मनाती है| तो बसंत पंचमी पर्व के दिन माँ सरस्वती की पूजा आराधना प्रत्येक व्यक्ति को करनी चाहिए| विशेष रूप से विशेष फलदायक ये माँ सरस्वती की पूजा आराधना उन लोगो के लिये होती है जो शिक्षण व्यवसाय से जुड़े हुए है, विद्यार्थी वर्ग है जो अपने करियर में बहुत ऊची और नई पहचान बनाना चाहते है| या फिर आप कोई प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहे है| कोई उच्च प्रशासनिक पद पर कार्यरत होना चाहता है सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहा है या फिर शिक्षण क्षेत्र से जुड़े हुआ है, किसी का कोई शिक्षण से जुड़ा कोई ट्यूशन सेंटर है या फिर परामर्श से जुड़ा कोई काम है उन लोगो के लिये ये पर्व विशेष फलदायक हो सकता है इस पर्व के दिन उनको तो विशेष रूप से माँ सरस्वती की पूजा आराधना करनी ही चाहिए| Basant Panchmi

बसंत पंचमी के दिन माँ सरस्वती की पूजा आराधना किस प्रकार की जाए

पंडित एन एम श्रीमाली जी के अनुसार एक पीला वस्त्र लेना है और एक बाजोट लेना है| बाजोट पर उस पीले वस्त्र को रख कर के उसके ऊपर माँ सरस्वती की मूर्ति और सरस्वती यन्त्र को स्थापित करना है| माँ सरस्वती को पीले फुल अतिप्रिय है इसीलिये उनको पीले फुल चढ़ाने चाहिए| और नैवेद्य के अन्दर केले से बनी हुई चीजे सफ़ेद वस्तुओ से बनी हुई चीजो का नैवेद्य माँ सरस्वती को चढ़ाना चाहिए| वैसे तो प्रत्येक राशि के हिसाब से हम आपको बतायेंगे की माँ सरस्वती को किस प्रकार का नैवेद्य चढ़ाया जाए| परन्तु ये नैवेद्य माँ सरस्वती को अर्पित करना ही चाहिए| माँ सरस्वती की पूजा आराधना करे और जो हमने आपको बीज मंत्र बताया माँ सरस्वती के किसी भी बीज मंत्र का आप जाप कर सकते है वैसे यदि आप इस मंत्र का जाप करे तो आपके लिये विशेष फलकारी रहेंगा| Basant Panchmi

या देवी सर्वभूतेषु विद्या रूपेण संस्थिता

नमस्तस्यै-नमस्तस्यै, नमस्तस्यै नमो नम:

या फिर और कोई भी मंत्र यानि किसी भी मंत्र का आप उच्चारण करने में असमर्थ हो तो आप एम मंत्र का उच्चारण अवश्य करे एम मंत्र सरस्वती माँ का बीज मंत्र माना जाता है| तो आप एम मंत्र का उच्चारण कर सकते है| और इस पुरे बसंत पंचमी के दिन आप इस मंत्र का उच्चारण करते रहे| Basant Panchmi

विशेष उपाय: आपके घर के अन्दर यदि आपकी संतान का कोई पढाई में मन नही लगता है| वो पढाई से भटक गयी है| या उसको आप सही मार्ग पर सही लक्ष्य की तरफ बढ़ाना चाहते है| उसकी एकाग्रता को बढ़ाना चाहते है| तो आपको सरस्वती माँ को उस बच्चे को सरस्वती माँ के मूर्ति के सामने सरस्वती यन्त्र रख कर के परद सरस्वती की जो मूर्ति होती है उसके सामने बैठ कर आपको स्फटिक माला से माँ सरस्वती के बीज मंत्र जो की हमने आपको बताया उस बीज मंत्र का आपको उच्चारण अपने बच्चे से करवाना है उस दिन जरुर करवाये| और माँ सरस्वती को कलम और दवात और पुस्तक माँ सरस्वती के चरणों में भेट रखवाए| ये उपाय अगर करते है तो माँ सरस्वती का आशीर्वाद आपके बच्चे पर बरसता है उसका जो ध्यान पढाई से भटक गया है उसका पढाई में एकाग्रता बढेंगी और वो बहुत ही अच्छे से आगे अपने लक्ष्य की तरफ बढ़ते हुए पढाई विद्या अध्यन करता है| उसके विद्या अध्यन में आ रही बाधाए दूर होती है| Basant Panchmi

माँ सरस्वती का पूजन और दान के शुभ मुहर्त

पंडित एन एम श्रीमाली जी के अनुसार माँ सरस्वती के पूजन का शुभ मुहर्त 29 जनवरी 2020 को सुबह 10 बजकर 45 मिनट से शुरू हो जायेंगा| और 30 जनवरी 2020 को दोपहर 01 बजकर 19 मिनट पर मुहर्त समाप्त हो जायेंगा| इस बीच आप माँ सरस्वती की पूजा आराधना कर सकते है और उन्हें प्रसन्न कर सकते है, उनके बीज मंत्रो का जाप कर सकते है और दान पुण्य भी आप बसंत पंचमी के दिन कर सकते है| Basant Panchmi

बंसंत पंचमी के दिन विशेष रूप से क्या कार्य करे

पंडित एन एम श्रीमाली जी के अनुसार आपके घर में अगर छोटा शिशु है| और उसका अन्नप्राशन आप करवाना चाहते है| तो बसंत पंचमी एक ऐसा दिन है जिस दिन आप अपने बच्चे का अन्नप्राशन कर सकते है| माँ सरस्वती की मूर्ति के सामने आप अपने बच्चे को गोद में ले ले चांदी की एक कटौरी और प्याले के अन्दर खीर का नैवेद्य चढ़ाये बनाये और उस खीर के नैवेद्य को माँ सरस्वती को चढ़ाने के बाद अपने बच्चे को उस खीर का नैवेद्य खिलाये और उनका उस खीर के नैवेद्य से अन्नप्राशन करे जिससे उसकी बुद्धी प्रबल होंगी| वो बहुत ही मेधावी अपने भविष्य में रहेंगा| और हर तरह की सफलता अपने भविष्य में हासिल करेंगा| यदि आपके घर में बच्चा थोडा बड़ा है स्कुल जाने लायक है और अभी उसने स्कुल जाना शुरू नही किया है तो आपको बसंत पंचमी के दिन भोजपत्र लेकर उस पर अन्नार की कलम से एम शब्द लिखना है ये एम मंत्र सरस्वती का बीज मंत्र है तो माँ सरस्वती का उस बच्चे को आशीर्वाद प्राप्त होंगा| वो पढाई में बहुत ही अच्छे नुम्बरो से उत्तीर्ण होंगा| और अपना भविष्य पढाई के माध्यम से, ज्ञान के माध्यम से उज्जवल करेंगा| तो ये उपाय भी आपको बसंत पंचमी के दिन करना चाहिए| Basant Panchmi

पंडित जी के अनुसार एक उपाय और है जो की बसंत पंचमी के दिन जो फिल्म उद्योग से जुड़े हुए है, जो कलाकार है, रंगमंच कलाकार है, या फिर संगीत से जुड़े हुए जो व्यक्ति है गायककार है, जो वाध्य बजाते है, और किसी भी तरह के कला में वो निपूर्ण है तो बसंत पंचमी के दिन उन्हें माँ सरस्वती की विशेष पूजा और आराधना करनी चाहिए और उसके बाद माँ सरस्वती को एक वीणा भेट करनी चाहिए जिससे उन्हें अपने क्षेत्र में प्रसिद्धी मिलेंगी यश और कीर्ति में बढ़ोतरी होंगी| और उनकी कला और अधिक निखरेंगी| तो ये कुछ उपाय थे जो आपको जरुर करने चाहिए| हमारा सभी व्यक्तियों से निवेदन है की बंसत पंचमी के दिन हम प्रण करे की किसी भी जरूरतमंद बच्चे की शिक्षा का दायित्व हम हमारे ऊपर उठाएंगे उसका जिम्मा हम लेंगे उसे आप अपनी सामर्थ के अनुसार पुस्तक, बॉक्स, बैग, स्कुल ड्रेस, या फिर स्कुल की फीस का खर्चा आप उठाये ये प्रण आप ले हम हर बसंत पंचमी के दिन ये कार्य करते है| और अपनी सामर्थ के अनुसार जितना हो सकता है हम उस बच्चे के लिये करने की पूरी कोशिश करते है तो हम आपसे ये आशा रखते है इससे एक बहुत ही महान कार्य हम माँ सरस्वती की पूजा आराधना भी करेंगे उनका आशीर्वाद भी मिलेंगा| और देश के शिक्षा के लिये भी हमारा एक महत्वपूर्ण योगदान ये रहेंगा| तो आप अपनी सामर्थ के अनुसार जितना भी दे सके वो आप कीजिए दान की कोई सीमा नही होती है अपनी सामर्थ के अनुसार आप ये कर सकते है| आप बसंत पंचमी के दिन कोई भी सरकारी स्कुल या कोई जरूरतमंद स्कुल है कोई ऐसी स्कुल है जहा पर गरीब बच्चे पढाई करते है वहा पर जाए और जो भी आपसे बन पड़े जो भी दान आप कर सकते है जैसे पुस्तक हो गयी, पेन्सिल हो गयी, बैग हो गए, स्टूमेंट बॉक्स हो गए, किसी भी तरह का दान आप उस स्कुल में ज्यादा से ज्यादा करे| उससे उन बच्चो के चेहरे पर तो मुस्कुराहट आएंगी| माँ सरस्वती का हमेशा आप पर आशीर्वाद बना रहेंगा| आपकी जिंदगी के अन्दर कभी भी ज्ञान की कमी नही रहेंगी| और माँ सरस्वती का आशीर्वाद रहेंगा तो माँ लक्ष्मी का भी आशीर्वाद आपको अवश्य मिलेंगा| हमारा सभी से निवेदन है की ये कार्य सभी करे और इस कार्य में अपना विशेष योगदान जरुर देवे| Basant Panchmi

राशि के अनुसार बसंत पंचमी के दिन माँ सरस्वती को क्या चढ़ाये

मेष राशि: मेष राशि वालो को नारियल और एक पुस्तक माँ सरस्वती को नैवेद्य के रूप में भेट करनी चाहिए| बसंत पंचमी के दिन उसके बाद में आप से किसी जरूरत मंद व्यक्ति दे दे| Basant Panchmi

वृषभ राशि: वृषभ राशि वालो को कमल के पुष्प और नीले कलर का पेन माँ सरस्वती को भेट करना चाहिए| और उसके बाद वो भी आप किसी जरूरतमंद व्यक्ति को दान कर सकते है| Basant Panchmi

मिथुन राशि: मिथुन राशि वालो के लिये रोली और कुमकुम माँ सरस्वती को भेट करना चाहिए| और लाल पुष्प विशेषरूप से मिथुन राशि वालो को माँ सरस्वती को चढ़ाने चाहिए|

कर्क राशि: कर्क राशि वालो को पीले चावल जो चावल हल्दी के अन्दर भीगे हुए हो और वो पीले हो रखे हो| उन पीले चावलों को दवात के साथ में माँ सरस्वती को भेट करना चाहिए| Basant Panchmi

सिंह राशि: सिंह राशि वालो को काला बोर्ड और किताबे माँ सरस्वती को भेट करनी चाहिए|

कन्या राशि: कन्या राशि वालो के लिये माँ सरस्वती को शहद और दवात भेट करनी चाहिए|

तुला राशि: तुला राशि वालो को सफ़ेद पुष्प और डायरी माँ सरस्वती को भेट करनी चाहिए|

वृश्चिक राशि: वृश्चिक राशि वालो को नारियल और लाल पुष्प माँ सरस्वती में भेट अवश्य करने चाहिए| Basant Panchmi

धनु राशि: धनु राशि वालो को माँ सरस्वती को शहद और पीले चावल भेट करने चाहिए|

मकर राशि: मकर राशि वालो को माँ सरस्वती को स्टूमेंट बॉक्स और पेन्सिल भेट करनी चाहिए| Basant Panchmi

कुभ राशि: कुभ राशि वालो को माँ सरस्वती को किसी भी प्रकार का बैग और कोई पुस्तक है या फिर कोई संगीत वाध्य है वो भेट करना चाहिए|

मीन राशि: मीन राशि वालो को माँ सरस्वती को नीले पुष्प और पुस्तक उपहार में देनी चाहिए| Basant Panchmi

तो ये कुछ राशिगत भेट थी जो बसंत पंचमी के दिन आपको माँ सरस्वती को देनी चाहिए| और माँ सरस्वती के आगे ये जितनी भी भेट रखी है उन भेट को माँ सरस्वती को देने के बाद में बसंत पंचमी के दुसरे दिन आप किसी भी जरूरतमंद व्यक्ति को दान कर सकते है| तो बसंत पंचमी का पर्व बहुत ही हर्षोल्लास का पर्व होता है इस समय हर व्यक्ति पूरी प्रक्रति बसंत के रंग में डूबी हुई होती है| और खुशियों का ये त्यौहार है माँ सरस्वती आराधना का ये त्यौहार है| तो इस पर्व को आप धूम धाम से मनाये और आपके जीवन में भी ये बसंत पंचमी हमेशा बसंत बनकर आपके जीवन में लहराती रहे, मुस्कुराती रहे, और खुशिया बिखेरती रहे| Basant Panchmi

RELATED PRODUCT

Nidhi Shrimali

About Nidhi Shrimali

Astrologer Nidhi Shrimali is most prominent & renowned astrologer in India, and can take care of any issue of her customer and has been constantly effective.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *