Pisces मीन राशिफल 2019

|मीन राशिफल | 2019 Pisces 2019- जिन जातको के नामाक्षर  “ डी ,डु ,द ,झ ,य,दे ,दो ,चा ,ची ,

Aquarius कुम्भ राशिफल 2019

|कुम्भ राशिफल | 2019 Aquarius 2019- जिन जातकों के नामाक्षर “ गू ,गे ,गो ,सा,सी ,सू ,से ,सो तथा द

Capricorn मकर राशिफल 2019

|मकर राशिफल | 2019 Capricorn 2019- जिन जातको के नामाक्षर ” भो , जा, जी , खि, खु , खे,खो

Sagittarius धनु राशिफल 2019

|धनु राशिफल | 2019 Sagittarius – जिनके नामाक्षर ये , यो, भ ,भी भू ,धा , फा , ढा ,भे

Scorpio वृश्चिक राशिफल 2019

|वृश्चिक राशि | 2019 Scorpio 2019 – जिन जातको के नामाक्षर “ तो , ना,नी ,नू ,ने,नो,या,यी,यू  “ से शुरू

Virgo कन्या राशिफल 2019

| कन्या राशिफल  | 2019 Virgo – जिनके नामाक्षर टो ,पा ,पी ,पू ,पे ,पो ,ष ,ण ,ठ हो एवं

Leo सिंह राशिफल 2019

| सिंह राशिफल | 2019 Leo – जिनके नामाक्षर मा ,मी ,मू ,मे ,मो ,टा ,टी ,टू ,टे से शुरू

Libra तुला राशिफल 2019

| तुला राशि  | 2019 Libra – जिनके नामाक्षर र ,री ,रु,रे,रो,ता,ती ,तू,ते से सुरु होते है | एवं जिनके

Cancer कर्क राशिफल 2019

| कर्क राशिफल | 2019 Know Cancer Rashiphal in English below Cancer – जिनके नामाक्षर ही , हु , है

Gemini मिथुन राशिफल 2019

 |मिथुन राशि | 2019 Want to get Gemini Rashiphal in English Read below Gemini जिनके नामाक्षर “ का ,की ,कु

Taurus वृषभ राशिफल 2019

| वृषभ राशिफल | 2019 Taurus’ जिनके नामाक्षर इ ,उ ,ए ,ओ ,वा , वी , वि , वू ,वे

Aries मेष राशिफल 2019

| मेष राशिफल |  2019 Aries Rashiphal in English is Below, Please check out… Aries मेष राशि यानि जिनके नामाक्षर

Dhanteras Festival of Wealth

  CONNECT WITH US AT SOCIAL NETWORK:-    

Sharad Purnima शरद पूर्णिमा 2018 – महत्व, तिथि और पूजा की विध‍ि

|शरद पूर्णिमा |  शरद पूर्णिमा आ गई, लेकर यह संदेश तन मन आंगन गेह का करो स्वच्छ परिवेश शरद पूर्णिमा

Shradh Paksh श्राद्ध (पितृ पक्ष) की सम्पूर्ण जानकारी तथा तर्पण

| श्राद्ध पक्ष | 24 September 2018 - 08 October 2018   श्राद्ध ( Shradh Paksh ) साधारण शब्दों में श्राद्ध

Dussehra Vijay Dashmi

Dussehra : Vijay Dashmi बुराई पर अच्छाई का दिन है विजय दशमी Dussehra Vijay Dashmi हिन्दू धर्म में दशहरा अथवा विजय

Navratri Day 9 Maa Siddhidhatri

|माँ सिद्धिदात्री | दुर्गा का नोवां स्वरूप माँ सिद्धिदात्री Navratri Day 9 Maa Siddhidhatri Navratri Day 9 Maa Siddhidhatri माँ दुर्गा

Navratri Day 8 Maa Maha Gauri

| माँ महागौरी | दुर्गा का आठवां स्वरूप माँ महागौरी Navratri Day 8 Maa Maha Gauri Navratri Day 8 Maa Maha

Navratri Day 7 Maa Kalratri

|माँ कालरात्रि | दुर्गा का सातवां रूप  माँ कालरात्रि Navratri Day 7 Maa Kalratri दुर्गा का सातवां स्वरूप मां कालरात्रि है Navratri

Navratri Day 6 Maa Katyayani

|माँ कात्यायनी | नवरात्रा के छठे दिन होती माँ कात्यायनी की पूजा Navratri Day 6 Maa Katyayani नवरात्र के छठे दिन

Navratri Day 5 SkandaMata

| माँ स्कंदमाता | नवरात्रा के पांचवे दिन होती हैं माँ स्कंदमाता पूजा Navratri Day 5 SkandaMata नवरात्रि में माँ दुर्गा

Navratri Day 4 Maa Kushmanda

|माँ कुष्मांडा | नवरात्र के चैथे दिन करें माँ कुष्मांडा की पूजा Navratri Day 4 Maa Kushmanda माँ दुर्गा का चतुर्थ

Ganesh Chaturthi Festival in India – 2018

| हैप्पी गणेश चतुर्थी | गणपति का रूप निराला है, चेहरा भी कितना भोला-भाला हैं। जब भी आई मुझ पर

Navratri Day 3 Maa Chandraghanta

माँ चंद्रघंटा  Navratri Day 3 Maa Chandraghanta माँ दुर्गा की तीसरी शक्ति का नाम चंद्रघंटा है। नवरात्रि विग्रह के तीसरे दिन

Navratri Day 2 Maa Brahmacharini

मां ब्रह्मचारिणी ब्रह्मचारिणी मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप ( Navratri Day 2 Maa Brahmacharini ) मां दुर्गा की नव शक्ति का

Navratri Day 1 Maa Shailputri

 माँ शैलपुत्री नवरात्रि का त्यौहार भारत में बडे ही धूम-धाम से मनाया जाता हैं। ( Navratri Day 1 Maa Shailputri

Shri Krishna Janmashtami 2018

 | जन्माष्टमी 2018| नंद के घर आनन्द भायो..  जय कन्हैया लाल की ! राधा की भक्ति, मुरली की मिठास, माखन का

Raksha Bandhan – रक्षा बंधन का महत्व

रक्षा बंधन रक्षाबंधन (raksha bandhan) हिन्दू धर्म का एक महत्वपूर्ण त्योहार है | सब जानते है की यह  त्यौहार श्रावन

गुप्त नवरात्री

गुप्त नवरात्रि पर्व प्रारंभ : 13 जुलाई  (शुक्रवार) 2018  सुबह 8 :15  से दोपहर 3:10 तक  शाम 6 :00  से

gayatri mantra ka Mahatva aur Jap ka Samay

गायत्री मंत्र के  जाप का समय TIMING FOR MANTRA JAP :- वैसे तो किसी भी समय गायत्री मंत्र का जाप किया

शनि जयंती के उपाय – Shani Jayanti Ke Upay

Shani jaynti pr shani dev ke upay va sawdhaniya शनि देव को एक क्रूर गृह की संज्ञा दी गयी है

Rudraksha ka Mahtva – रुद्राक्ष की सम्पूर्ण जानकारी

IDENTIFICATION OF RUDRAKSHA (रुद्राक्ष की पहचान) – पौराणिक मान्यताओ के अनुसार आवले  के आकर का रुद्राक्ष श्रेष्ठ , बेर के

राशियों के अनुसार धन प्रापति के घरेलु टोटके

Rashiyo ke annusar gharelu totake  राशियों के अनुसार घरेलू टोटके : 1.  मेष राशि – मेष राशि के जातको को

Mahamrityunjay Mantra | त्रयम्बकं मंत्र

Mahamrityunjay Mantra मृत्यु को जितने वाला महान मंत्र जिसे त्रियम्बकं मंत्र(Mahamrityunjay Mantra) के नाम से भी जाना जाता है ,

ग्यारह मुखी रूद्राक्ष | Gyaraah Mukhi Rudraksh

ग्यारह मुखी रूद्राक्ष ग्यारह मुखी रूद्राक्ष मनका भगवान रुद्र का प्रतिनिधित्व करता हैं एवं यह स्वास्थ्य, धन, शक्ति, सफलता, लोकप्रियता

क्यों और केसे शुरु हुई हमारी WEBSITE और क्या है इसके फायेदे – Nidhi Shrimali

Start-Up Reason of an Astrology Website in India Hello Friends, In this video I would show that the many people

इस महाशिवरात्रि भोलेनाथ को केसे करे प्रसन्न

                     जैसा की आप सभी जानते है कि आगामी 13 फरवरी

ब्लैक वैजयन्ती माला का जीवन में उपयोग

ब्लैक वैजयंती फूलों का बहुत ही सौभाग्यशाली वृक्ष होता है। मान्यता है कि पुष्य नक्षत्र में वैजयंती के बीजों की

माला और उसके प्रकार

माला और उसके प्रकार भगवान नाम जाप का सर्वश्रेष्ठ आधार माला को माना जाता है. माला का उपयोग प्राय: सभी

हनुमान पूजन यन्त्र – बहुत शक्तिशाली है हनुमान जी का यह यन्त्र

हनुमान पूजन यन्त्र – बहुत शक्तिशाली है हनुमान जी का यह यन्त्र Hanuman Yantra – for Power and to Overcome

मां त्रिपुर सुंदरी साधना से पूर्ण होती है मनोकामना

मां त्रिपुर सुंदरी साधना हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस संसार को बनाने वाली ‘आदि शक्ति’ देवी हैं। लेकिन इसी

बगलामुखी पेंडेंट – बुरी खतरनाक शक्तियों विनाशक

बगलामुखी पेंडेंट – बुरी खतरनाक शक्तियों विनाशक ( बगलामुखी पेंडेंट )मां बगलामुखी के प्रत्येक साधक को प्रतिदिन जाप प्रारम्भ करने

लक्ष्मी प्राप्त करने के चमत्कारी उपाय – श्री महा लक्ष्मी यन्त्र

प्रातः काल उठते ही मानसिक रूप से 21 बार “श्री” का उच्चारण कर अपनी माता के चरण स्पर्श करे अथवा

कैसे करें शंख की पूजा

कैसे करें शंख की पूजा Please click here for DISCOUNT OFFER on other Product! इस ब्लॉग में निधि श्रीमालीजी  ने

शनि दोष निवारण पूजा

शनि दोष निवारण पूजा :- शनिवार को शनि दोष निवारण के लिए शनि पूजा तो सभी करते हैं, किंतु पूजा

शनि यन्त्र – PANDIT NM SHRIMALI

शनि यन्त्र शनि यन्त्र:- शनि ग्रह की पीड़ा से ग्रस्त लोगो के लिए एक चमत्कारी अद्भुत यन्त्र जिसकी पूजा करने

शुक्र यंत्र – वैवाहिक जीवन की परेशानियों करे दूर

शुक्र यंत्र :- शुक्र यंत्र शुक्र ग्रह का यंत्र है| शुक्र को शुभ ग्रह भी कहते है | ग्रह मंडल

धन वर्षा हेतु दिवाली में श्री सूक्त के साथ करें मां लक्ष्मी की पूजा

धन वर्षा हेतु मां लक्ष्मी की पूजा की जानकारी:- श्री सुक्त पूजा :- धनतेरस व दीपावली के शुभ अवसर पर

श्वेतार्क गणपति

श्वेतार्क गणपति भगवान गणेश को अनेक नाम से जाना जाता है, इनमें से इनका एक नाम श्वेतार्क गणपति भी हैं।

संतान गोपाल यंत्र का जीवन में सुख

संतान गोपाल यंत्र का जीवन में सुख संतान सुख जीवन को स्वर्ग बना देता है और इसका दु:ख नर्क। ज्योतिष

सम्पूर्ण काल सर्प दोष निवारण यन्त्र

सम्पूर्ण काल सर्प दोष निवारण यन्त्र काल सर्प योग :- ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सूर्य से लेकर शनि तक सभी ग्रह

सम्पूर्ण नवग्रह यंत्र

सम्पूर्ण नवग्रह यंत्र ग्रहों के प्रतिकूल प्रभावों का घटाता और अनुकूल प्रभावों की वृद्धि करता है। आपकी जन्म कुंडली में

सम्पूर्ण वास्तु दोष निवारण यन्त्र

सम्पूर्ण वास्तु दोष निवारण यन्त्र सम्पूर्ण वास्तु दोष निवारण यन्त्र वास्तु दोष:- वास्तु का अर्थ है मनुष्य और भगवान का

सम्पूर्ण विद्या प्रदायक यन्त्र

सरस्वती बुद्धि प्रदान करने, शिक्षा और संगीत की संरक्षक देवी है। सम्पूर्ण विद्या प्रदायक यंत्र में 13 यन्त्र शामिल है

सोमवती अमावस्या

सोमवार को पड़ने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहते हैं। ये वर्ष में लगभग एक ही बार पड़ती है। इस

स्फटिक श्रीयंत्र

स्फटिक श्रीयंत्र श्री विद्या से संबंधित तंत्र ब्रह्माण्ड का सर्वश्रेष्ठ तंत्र है जिसकी साधना ऐसे योग्य साधकों और शिष्यों को

मांगलिक दोष निवारण

Please click here for DISCOUNT OFFER on other Product! जिस जातक की जन्म कुंडली में लग्न/चंद्र कुण्डाल्यादि मंगल ग्रह लग्न

मोती शंख, चमत्कारी गुणों वाला होता है | मोती शंख से हो जाएंगे मालामाल

मोती शंख Please click here for DISCOUNT OFFER on other Product! मोती शंख :- मोती शंख साधारणतया गोल आकर का

मौनी अमावस्या

मौनी अमावस्या:- माघ मास की अमावस्या जिसे मौनी अमावस्या कहते हैं। यह योग पर आधारित महाव्रत है । मान्यताओं के

रंगो कि होली

बुराई पर जीत के रंगो कि होली रंग रंगीला होली का त्यौहार धूम धाम के साथ मनाया जाता है। और

रक्षाबंधन

रक्षाबंधन एक भारतीय त्यौहार है जो श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। सावन में मनाए जाने के

राशि से संवारे अपना कॅरियर

राशि से संवारे अपना कॅरियर इस ब्लॉग में पंडित एन एम श्रीमाली ने बताया है की किस तरह से राशि

राहु दोष निवारण पूजा

राहु दोष निवारण पूजा राहु दोष निवारण पूजा :- राहु को छाया ग्रह कहा जाता है, और श्रीमदभागवत महापुराण में

लक्ष्मी चरण पादुका

लक्ष्मी चरण पादुका मां लक्ष्मी चरण पादुका। घर में लक्ष्मीर का स्वरूप मां ललिता श्री का प्रतीक हैं जिसमें सोलह

लोक देवता बाबा रामदेव

लोक देवता बाबा रामदेव भारत की इस पवित्र धरती पर समय-समय पर अनेक संतों, महात्माओं, वीरों व सत्पुरुषों ने जन्म

वास्तु दोष निवारण यन्त्र

वास्तु दोष निवारण यन्त्र वास्तु दोष निवारण यन्त्र वास्तु दोष को दूर करने का एक अचूक उपाय है। इस यन्त्र

वास्तु शांति पूजा

वास्तु शांति पूजा वास्तु शांति पूजा :- “वास्तु” का अर्थ है :- मनुष्य और भगवान का रहने का स्थान। वास्तु

vidhya prapti yantra

vidhya prapti yantra (विद्या प्राप्ति यंत्र ) विद्या प्राप्ति यंत्र किसी रुकावट के बिना अच्छी शिक्षा प्राप्त करने के लिए

विश्वकर्मा यंत्र के लाभ

विश्वकर्मा यंत्र के लाभ हिन्दू धर्म के अनुसार भगवान विश्वकर्मा निर्माण एवं सृजन के देवता कहे जाते हैं। माना जाता

वृक्षो को लगाने से लक्ष्मी की प्राप्ति

वृक्षो को लगाने से लक्ष्मी की प्राप्ति श्रीमाली जी के अनुसार बिल्व वृक्ष को भगवान शिव का रूप माना जाता

नौ मुखी रूद्राक्ष

नौ मुखी रूद्राक्ष नौ मुखी रूद्राक्ष देवी दुर्गा का रूप है. इसमें नौ देवताओं की शक्ति शामिल हैं. नौ मुखी

panchmukhi hanuman yantra

panchmukhi hanuman yantra(पंचमुखी हनुमान यन्त्र) ॐ हरि मर्कट मर्कटाय स्वाहा गुरुदेव से मंत्र दीक्षा लेकर रुद्राक्ष, मूंगे अथवा लाल चन्दन

पारद गणेश पूजन से आती है समृद्धि, जानें विशेष लाभ

पारद गणेश पूजन:- पारद गणेश पूजन से घर में आती है समृद्धि क्योंकि किसी भी शुभ कार्य से पहले भगवान

पारद लक्ष्मी गणेश

पारद लक्ष्मी गणेश पारद लक्ष्मी गणेश :- पारद लक्ष्मी गणेश जी की मूर्ति हमें दोनों के आशीर्वाद प्रदान करती है,

पारद हनुमान

पारद हनुमान पारद हनुमान :- भगवान हनुमान भगवान शिव के 11 वें अवतार (रुद्र अवतार) माने जाते है, और इन्हे

यह हैं पितृदोष शांति के 06 उपाय, इसके बाद खुलेंगे ….

पितृदोष शांति पितृदोष शांति पूजा :- पितरों से अभिप्राय व्यक्ति के पूर्वजों से है। जो पित योनि को प्राप्त हो

प्रेम विवाह संबंधित जानकारी

प्रेम विवाह प्रेम विवाह हेतु निर्धारित भाव एवं ग्रह जिसका उळेख हमारे पंडित जी द्वारा किया गया है पंडित एन

प्रेम वृद्धि यंत्र

प्रेम वृद्धि यंत्र किसी भी दो लोग पति-पत्नी, प्रेमी-प्रेमिका को आकर्षित करने के लिए और लंबे समय तक संबंधों के

बछ बारस

बछ बारस भाद्रपद महीने की कृष्ण पक्ष की द्वादशी को मनाई जाती है। बछ यानि बछड़ा गाय के छोटे बच्चे

बसंत पंचमी – करे माँ सरस्वती की पूजा और अर्चना

बसंत पंचमी:- भारत में जीवन के हर पहलू को महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है | और इसी आधार पर पूजा

बुध यन्त्र

बुध यन्त्र बुध गृह:- बुद्धि के देवता बुध ग्रह का दिन है- बुधवार। बुध राशि के जातक बहुत सुंदर होते

बुधग्रह दोष एवम निवारण

बुधग्रह दोष एवम निवारण सौरमंडल में नवग्रह पाए जाते है। इन नवग्रहों में सात ग्रहों के अपने पिंड किन्तु राहू

ब्लैक वैजन्ती माला

भोजपत्र निर्मित ग्रहण दोष निवारण यन्त्र

भोजपत्र निर्मित ग्रहण दोष निवारण यन्त्र :- ग्रहण योग का प्रभाव :- जैसे सूर्य को ग्रहण लग जाने पर अंधकार

मकर सक्रांति का पावन पर्व

मकर सक्रांति – PANDIT NM SHRIMALI Punya Kaal Muhurta = 15:30 to 18:11 Duration = 2 Hours 41 Mins Sankranti

मरगज गणेश के फायेदे

मरगज गणेश के फायेदे मरगज गणेश :- भगवान श्री गणेश बुद्धि और शिक्षा के कारक ग्रह बुध के अधिपति देवता

महा गायत्री बिस्सा यंत्र

गायत्री देवी एक अच्छी किस्मत आकर्षण माना जा रहा है। गायत्री देवी का दूसरा नाम महा देवी है और वह

महा सुदर्शन यंत्र

सुदर्शन विष्णु, घृणा उत्पन्न करना और बुराई को दंडित करने के लिए हथियार की डिस्कस करने के लिए संदर्भित करता

मांगलिक कार्यो का उचित समय

मांगलिक कार्यो का उचित समय देवउठनी एकादशी :- देवउठनी एकादशी में मांगलिक कार्य प्रारंभ हो जाते है। आषाढ़ शुक्ल एकादशी

कालसर्प योग

कालसर्प योग :- जब राहू और केतु के प्रभाव में तथा इनके बीच में जब सारे ग्रह आ जाते हैं,

काली हल्दी (अम्बा हल्दी)

KALI HALDI (काली हल्दी ) आइये जाने काली हल्दी से माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने के टोटके इस धरती पर

कुंडली के ग्रहो का हमारी सेहत पर प्रभाव

पंडित एन एम श्रीमाली द्वारा बताया गया है की कुंडली में हैं ये ग्रह खराब हो तो हमे डायबिटीज हो

गणेश यंत्र

गणेश यंत्र भगवान गणेश सर्वप्रथम पूजनीय माने जाते हैं। भगवान शिव की तरह वह भी भोले हैं, तथा उनकी दया

गुरुपूर्णिमा महत्व

जानिए की ज्योतिष शास्त्र के अनुसार क्या हैं गुरुपूर्णिमा विशेष महत्व ????? पंडित न म श्रीमाली के अनुसार जिन लोगों

घर परिवार और वृक्ष

घर परिवार और वृक्ष :- आवासीय परिसर के समीप बिल्ब, अनार , नागकेसर , कटहल और नारियल के वृक्ष हमेशा

छिन्नामस्ता यंत्र

छिन्नामस्ता यंत्र को स्थापित मुसीबतों से मन, सफल ध्यान, धारणा में सुधार, स्वतंत्रता की सीमाओं से मुक्ति पाने के लिए

जनेऊ का महत्व

जनेऊ क्या है आइये जाने पंडित एन एम श्रीमाली के अनुसार जनेऊ को उपवीत, यज्ञसूत्र, व्रतबन्ध, बलबन्ध, मोनीबन्ध और ब्रह्मसूत्र

जल शालिग्राम

प्राचीन काल से भारत भूमि हमेशा से ऋषि मुनियो की भूमि रही है, हिन्दू धर्म की संस्कृति बहुत ही दुर्लभ

तीन मुखी रुद्राक्ष

तीन मुखी रुद्राक्ष तीन मुखी रुद्राक्ष अग्नि देव का स्वरूप माना गया है. इस त्रिमुखी मुखी रुद्राक्ष का सत्तारूढ़ ग्रह

तुलसी के पौधे

तुलसी के पौधे हिन्दू धर्म में तुलसी के पौधे को एक तरह से लक्ष्मी का रूप माना गया है। कहते

दक्षिणावर्ती शंख

हिन्दू धर्म में पूजा स्थल पर शंख रखने की परंपरा है। शंख को बहुत ही पवित्र माना गया है। शंख

दस मुखी रुद्राक्ष

दस मुखी रुद्राक्ष को भगवान विष्णु का स्वरूप माना जाता है.. इसके सत्तारुढ़ ग्रह नव-ग्रह हैं. मान्यता है कि इस

नवरत्न माला

नवरत्न माला नवरत्न माला :- नवरत्न माला नौ रत्नों से निर्मित की जाती है। इस माला को कोई भी व्यक्ति,

छह मुखी रूद्राक्ष

छह मुखी रूद्राक्ष रुद्र का मतलब भगवान शिव से लिया जाता है,और अक्ष का मतलब होता है धुरी,भगवान शिव जो

चार मुखी रूद्राक्ष

छह मुखी रूद्राक्ष की सतह पर छह लाइने है. इस रूद्राक्ष के सत्तारूढ़ देवता भगवान कार्तिकेय, जो भगवान शिव के

गोमती चक्र

गोमती चक्र गो का रूप गाय के लिये माना जाता है और उसे गो भी कहा जाता है,गाय को लक्ष्मी

कमलगट्टे की माला

धन प्राप्ति के लिए किए जाने वाले तंत्र प्रयोगों में कई वस्तुओं का उपयोग किया जाता है, कमल गट्टा भी

दो मुखी रुद्राक्ष

रुद्र का मतलब भगवान शिव से लिया जाता है,और अक्ष का मतलब होता है धुरी,भगवान शिव जो योगी के रूप

पारद शिवलिंग

पारद शिवलिंग शिव पुराण एवं शिव संहिता के अलावा अथर्ववेद एवं लिंग पुराण में पारद शिवलिंग का जो विवेचन दिया

अक्षय तृतीया का इसलिए है बड़ा महत्व

गणेश जी उन्नति, खुशहाली और मंगलकारी देवता हैं। कहते हैं जहां पर गणेश जी की नित पूजा अर्चना होती है

अष्टविनायक गणेश जी

अष्टविनायक गणेश जी अष्टविनायक गणेश जी उन्नति, खुशहाली और मंगलकारी देवता हैं। कहते हैं जहां पर गणेश जी की नित

आठ मुखी रुद्राक्ष

आठ मुखी रुद्राक्ष अष्टदेवियों का प्रतिनिधि है तथा भगवान गणेश का रूप है. इस रूद्राक्ष की सत्तारूढ़ देवता भगवान गणेश

ऋण–मुक्ति यंत्र

एकमुखी रुद्राक्ष अत्यंत दुर्लभ होता है |यह साक्षात शिव का स्वरूप हैं इसे धारण करने से समस्त पापों व समस्याओं

एक मुखी रूद्राक्ष

एकमुखी रुद्राक्ष अत्यंत दुर्लभ होता है |यह साक्षात शिव का स्वरूप हैं इसे धारण करने से समस्त पापों व समस्याओं

एकाक्षी नारियल घर पर करें स्थापित

एकाक्षी नारियल एकाक्षी नारियल नारियल रेशेनुमा ज़डों से आवृत्त होता है। इन ज़डों को हटा देने पर अधिकांश नारियलों पर

कात्यायनी माता पूजा

कात्यायनी माता पूजा :- नवरात्रि में दुर्गा पूजा के अवसर पर बहुत ही विधि-विधान से माता दुर्गा के नौ रूपों

कात्यायनी यंत्र

माँ कात्यायनी को दुर्गा की छठी शक्ति का रूप माना जाता है | नवरात्र के छठे दिन कात्यायनी के इस

होली पर की जाने वाली साधनाए

होली पर की जाने वाली साधनाए सम्पूर्ण भारत वर्ष के लोग विभिन्न रीती रिवाज के अनुसार होली के अवसर को

शिव यन्त्र कवच

शिव यन्त्र कवच साक्षात् शिव का ही स्वरूप है । यह एक चमत्कारी कवच है जो बुरी शक्तियों का नाश

श्रावण मास

श्रावण मास:- हिन्दू कैलेण्डर के बारह मासों में से सावन का महीना अपनी विशेष पहचान रखता है. इस माह में

श्री बगुलामुखी यंत्र

श्री बगुलामुखी यंत्र बगुलामुखी यंत्र :- माता बगुलामुखी को कलयुग में बहुत शक्तिशाली देवी के रूप में जाना जाता है।

गोमती चक्र के लाभ, जीवन के हर दुख दूर कर देंगे

गोमती चक्र गो का रूप गाय के लिये माना जाता है और उसे गो भी कहा जाता है,गाय को लक्ष्मी

स्वस्तिक पिरामिड

स्वस्तिक पिरामिड स्वस्तिक पिरामिड :- स्वस्तिक शब्द “सु” एवं “अस्ति” का मिश्रण है। “सु” का अर्थ है – “शुभ” और

शुक्र गृह दोष निवारण पूजा

शुक्र गृह दोष निवारण पूजा :- शुक्र गृह दोष निवारण के लिए सूर्योदय के समय दुर्गा देवी की पूजा करनी

ॐ का महत्त्व

ॐ का महत्त्व सृष्टि के आरम्भ में सर्वप्रथम जो शब्द उत्पन्न हुआ वह ॐ ही था । सनातन धर्म के

शिवरात्रि विशेष : पारद शिवलिंग का महत्व

पारद शिवलिंग शिव पुराण एवं शिव संहिता के अलावा अथर्ववेद एवं लिंग पुराण में पारद शिवलिंग का जो विवेचन दिया