Angarak Yog Nivaran Pooja | अंगारक योग निवारण पूजा | By Astrologer Nidhi Ji Shrimali |

निवारण पूजा 8 | Panditnmshrimali

Angarak Yog Nivaran Pooja


Angarak Yog remedies happen due to the combination of Mars and Rahu. Mars is the planet of fire element while Rahu affects the on-air element. Fire occurs due to a mixture of air and fire. It makes a condition of the blast.

You might have to pass from accidents and surgery. It increases anger and takes you towards violence and passion. Its special effects are changed on the zodiac sign. Therefore, the remedies are also different.

Astrologer Nidhi Ji Shrimali says Angarak yoga makes when Rahu and Mars aggregation in any house in the Kundali. This combination creates abundant mental or physical energy such natives have never been short of energies. Angarak yoga अंगारक योग is both auspicious and inauspicious according to their Situation in different houses and different signs.

When Mars and Rahu are combined together incredible energy is produced. In terms of condition, the native may include prohibited and illegal activities. According to the placement, its negative traits are regular and unnecessary aggressiveness, anger, and lack of sensitivity.

This is more likely to be the case when this aggregation takes place in signs like Aries, Leo, Taurus, Capricorn, and Scorpio. In its positive aspects, it provides strength to stand up brave warrior, against injustice, the benefit for the society, and a high level of Loyalty.

How much strength of Agarak you gives bad or good results, it will be done well-known by deep analysing of the native horoscope. However, I will be discussing here some of the combinations in the specific house for knowledge purposes.

Astrologer Nidhi Ji Shrimali explains and guides proper Angarak yoga remedies अंगारक योग. If you want to know about Agarak yog and Agarak yog remedies, Astrologer Nidhi Ji Shrimali is the best option in India.

These easy Remedies are: –

  • Prepare a copper bracelet and Wear it on the right hand’s wrist. Chant Mars mantra “Om Ang Angarkay Namah” for 108 times.
  • You should do fast on Tuesday. You should go to the Hanuman temple and chant Hanuman Chalisa in front of him. Wear a copper ring on the ring finger.
  • The individual should avoid non-veg and liquor or other intoxications.
  • Rahu and mangal Shanti pooja should be performed.
  • Keep water in a copper pot near the pillow and in the morning throw it in a cactus plant.

To remove this defect, perform Angarak Yoga Nivaran Puja from astrologer Nidhi ji Shrimali at a very nominal cost as soon as possible.

Whoever wants to get Angarak Yoga Nivaran Puja done. Mantras related to Angarak Yoga Nivaran Puja will be chanted by learned pundits in our institute. Angarak Yoga Nivaran Puja will be done for 2-3 hours. This puja will be performed with full rituals. In which Pandit ji starts chanting mantras for you and you should follow the rules and regulations given by our pandit ji. The yantras related to worship are kept in this havan. That device will be sent to you. After installing that yantra in your house of worship, you must recite the mantras told by Pandit ji every day, and you should pray to get rid of this defect.

Astrologer Nidhi Ji Shrimali explains and guides proper Angarak Yog Nivaran Puja remedies. If you want to do pooja for Angarak Yoga, then Astrologer Nidhi Ji Shrimali is the best option in India.

For any assistance or confusion regarding Puja, contact us by clicking below. You can also WhatsApp us on this number. Our team is always there to assist you.

अंगारक योग निवारण पूजा


अंगारक योग के उपाय मंगल और राहु की युति से अंगारक योग होता है। मंगल अग्नि तत्व का ग्रह है जबकि राहु वायु तत्व पर प्रभाव डालता है। आग वायु और अग्नि के मिश्रण से उत्पन्न होती है। यह विस्फोट की स्थिति बनाता है।

आपको दुर्घटनाओं और सर्जरी से गुजरना पड़ सकता है। यह क्रोध को बढ़ाता है और आपको हिंसा और जुनून की ओर ले जाता है। राशियों पर इसके विशेष प्रभाव बदल जाते हैं। इसलिए उपाय भी अलग हैं।

ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली कहती हैं कि जब कुंडली में किसी भी घर में राहु और मंगल का योग होता है तो अंगारक योग अंगार योग बनता है। यह संयोजन प्रचुर मात्रा में मानसिक या शारीरिक ऊर्जा पैदा करता है ऐसे जातकों के पास कभी भी ऊर्जा की कमी नहीं होती है। अंगारक योग अंगारक योग विभिन्न भावों और राशियों में उनकी स्थिति के अनुसार शुभ और अशुभ दोनों है।

जब मंगल और राहु एक साथ मिलते हैं तो अविश्वसनीय ऊर्जा उत्पन्न होती है। शर्त के अनुसार, जातक निषिद्ध और अवैध गतिविधियों को शामिल कर सकता है। इसके नकारात्मक लक्षण नियमित और अनावश्यक आक्रामकता, क्रोध और संवेदनशीलता की कमी हैं।

ऐसा होने की संभावना तब अधिक होती है जब यह एकत्रीकरण मेष, सिंह, वृष, मकर और वृश्चिक राशियों में होता है। अपने सकारात्मक पहलुओं में, यह बहादुर योद्धा को अन्याय के खिलाफ, समाज के लिए लाभ और उच्च स्तर की वफादारी के खिलाफ खड़े होने की शक्ति प्रदान करता है। अंगारक योग कितना बुरा या अच्छा परिणाम देता है, यह जातक की कुंडली के गहन विश्लेषण से पता चलेगा। हालाँकि, मैं यहाँ ज्ञान के उद्देश्यों के लिए विशिष्ट घर में कुछ संयोजनों पर चर्चा करूँगा।

ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली अंगारक योग के उचित उपायों की व्याख्या और मार्गदर्शन करती हैं। यदि आप अंगारक योग और अंगारक योग उपचार के बारे में जानना चाहते हैं, तो ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली भारत में सबसे अच्छा विकल्प हैं।

ये आसान उपाय हैं:-

  • तांबे का ब्रेसलेट बनाकर दाहिने हाथ की कलाई पर धारण करें। मंगल मंत्र “O अंग अंगारके नमः” का 108 बार जाप करें।
  • मंगलवार के दिन व्रत करना चाहिए। आपको हनुमान मंदिर जाना चाहिए और उनके सामने हनुमान चालीसा का जाप करना चाहिए। अनामिका में तांबे की अंगूठी पहनें।
  • व्यक्ति को मांसाहारी और शराब या अन्य नशीले पदार्थों से बचना चाहिए।
  • राहु और मंगल शांति पूजा करनी चाहिए।
  • तकिए के पास तांबे के बर्तन में पानी रखें और सुबह इसे कैक्टस के पौधे में डाल दें।

इस दोष को दूर करने के लिए अतिशीघ्र ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली से अत्यंत मामूली कीमत पर अंगारक योग निवारण पूजा करें।

जो भी व्यक्ति अंगारक योग निवारण पूजा करवाना चाहते हैं | हमारे संसथान में विद्वान पंडितों द्वारा अंगारक योग निवारण पूजा से सम्बंधित मंत्रो का जाप किया जाएगा | अंगारक योग निवारण पूजा 2 – 3 घंटे तक की जाएगी | यह पूजा पूरे विधि विधान से सम्पन्न की जाएगी | जिसमें पंडित जी आपके लिए मंत्रों का जाप करने लगते हैं और आपको साथ में हमारे पंडित जी द्धारा बताये गए मन्त्रों का जाप तथा नियमों का पालन करना चाहिए । इस हवन में पूजा से संबंधित जो यन्त्र रखा जाता हैं | वो यन्त्र आपको भिजवाया जाएगा | उस यन्त्र को आप अपने पूजा घर में स्थापित कर प्रतिदिन पंडित जी द्धारा बताए गए मंत्रो का जाप , दर्शन अवश्य करना चाहिए तथा इस दोष से मुक्ति के लिए आपको प्रार्थना करनी चाहिए |

ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली उचित अंगारक योग निवारण पूजा उपायों की व्याख्या और मार्गदर्शन करती हैं। अगर आप अंगारक योग की पूजा करना चाहते हैं, तो भारत में ज्योतिषी निधि जी श्रीमाली सबसे अच्छा विकल्प हैं।

पूजा के संबंध में किसी भी सहायता या भ्रम के लिए, नीचे क्लिक करके हमसे संपर्क करें। आप हमें इस नंबर पर व्हाट्सएप भी कर सकते हैं। हमारी टीम आपकी सहायता के लिए हमेशा मौजूद है।

Contact : +918955658362 | Email: [email protected] | Click below on Book Now
Subscribe on YouTube – Nidhi Shrimali

Shopping cart
Shop
0 items Cart
My account