Astro Gyaan, Astro Gyaan|Astrology Tips|Featured, Astro Gyaan|Astrology Tips|Featured|Jeevan Mantra, Astro Gyaan|Astrology Tips|Featured|Jeevan Mantra|jems and stone|Numerology|Palm Reading

शुक्र का राशि परिवर्तन 7 August in Hindi blog | Shukra Rashi Parivartan 7 August | कर्क से सिंह में प्रवेश

शुक्र का राशि परिवर्तन 7 August in Hindi blog

मेष राशि – आपकी राशि के लिए द्वितीय और सप्तम भाव के स्वामी हैं। शुक्र और शुक्र आपके चतुर्थ भाव में पश्चगामी हो रहे हैं यानी वक्री हो रहे हैं। शुक्र की ये वक्री चाल आपके लिए बहुत ही अच्छी और लाभदायक रहने वाली है। कुटुम्ब में मान सम्मान बढ़ेगा वहीं लग्ज़री में प्रतियोगी सुख के स्थान में ही शुक्र बैठे और शुक्र को भी सुखों का कारक ग्रह ही कहते है। और यहां पर शुक्र वक्री हो रहे तो यहां आपके सुखों को बढ़ाते हुए दिखाई देंगे। कुटुम्ब में मान सम्मान प्राप्त करेंगे। पैतृक संपत्ति संबंधी विवादों का निपटारा हो जाएगा। इस समय आपकी वाणी से आप सबको मोहित करते हुए नजर आएंगे। आपका व्यक्तित्व बहुत ही आकर्षक होगा। इस आकर्षक व्यक्तित्व के कारण आपकी एक अलग पहचान समाज में बनती हुई दिखाई देगी। आपके शत्रु भी इस समय आपसे मित्रता करने का प्रयास करेंगे। यहां शुक्र आपके सेवन के भी दौड़ है और सेवन शुभ होता है। दाम्पत्य जीवन का शुक्र दाम्पत्य जीवन के सुखों में वृद्धि करेगी। यदि आपके मैरिटल लाइफ थोड़ी डिस्टर्ब चल रही है तो वो पटरी पर आ जाएगी। यदि आप शादी लायक हो चुके हैं और विवाह नहीं हो पा रहे हैं तो विवाह के लिए आपको मनचाहा लाइफ पार्टनर भी मिलता हुआ दिखाई देगा। इस समय अगर आप शुक्र से रिलेटेड व्यापार करते हैं, चाहे परफ्यूम का हो, चाहे बुटीक का हो, कपड़ों का हो, डेकोरेटिव वॉल पीसेस का हो, इंटीरियर डेकोरेशन का हो, फैशन डिजायनिंग का हो, ट्रेवल बिज़नस हो, फोटोग्राफी से संबंधित, वीडियोग्राफी से सम्बंधित या कला से संबंधित कोई भी काम यदि आप अपने प्रोफेशन के तौर पर करते हैं तो डेफिनेटली ऐसे लोगों को शुक्र के बहुत ही अच्छे और सकारात्मक परिणाम मिलते हुए दिखाई देंगे। यानि मेष राशि वालों के लिए शुक्र का वक्री होना और भी अच्छा और लाभदायक परिस्थितियां उत्पन्न करेगा। अब आपको थोड़ा सा ध्यान इस बात पर रखना है कि आपको अपने सुखों लग्जरी के आवेश में आकर दंभी नहीं होना यानी ईगो नहीं आना चाहिए। आप में अगर आपको नुकसान की स्थितियां देखने को मिल सके, काम करने की प्रवर्ति कम हो सकती है। इस समय मौज शौक, मनोरंजन के कारण आप को गलत मार्ग पर भी चल सकते हैं। इसीलिए इन सब चीजों से आपको बचना होगा। आपको क्या करना है कि शुक्रवार के दिन सफेद मिठाई का दान मां लक्ष्मी को भोग लगाकर छोटी कन्याओं में जरूर करें। छोटी कन्याएं भी लक्ष्मी का रूप होती है इसीलिए अगर आप उन्हें मिठाई का दान करेंगे तो डेफिनेटली शुक्र की मजबूती बढ़ेगी और जो शुक्र के नेगेटिव रिजल्ट हैं वो खत्म हो जाएंगे।

वृषभ राशि – आपकी राशि के लिए शुक्र आपके राशि स्वामी हैं और आपके रोग भाव के यानि सप्तम भाव के स्वामी हैं। या शुक्र का वक्री होना आपके राशि स्वामी के हिसाब से आपकी पर्सनैलिटी में चारचांद लगाएगा। परंतु रोगों में इस समय वृद्धि हो सकती है। शुक्र जनित रोग आपको परेशान कर सकते हैं इसीलिए ऐसे रोगों के प्रति आपको सावधान रहना होगा। इस समय आपसे ईर्ष्या करने वालों की, जलन करने वालों की यानि शत्रुओं की संख्या भी बढ़ सकती है। इसीलिए आपको थोड़ा सा संभलकर चलने की आवश्यकता रहेगी। आपके राशि स्वामी अपने से तृतिय जाकर बैठा है। शुक्र का यहां पर पराक्रम भाव में जाकर बैठना आपके पराक्रम बल में वृद्धि करेगा। भाई बहनों के साथ संबंधों को और अधिक बेहतर करेगा और पैतृक संपत्ति संबंधी विवादों का निपटारा आपके पक्ष में होता हुआ दिखाई देगा। तो शुक्र के रिजल्ट वृषभ राशि वालों को एक मिक्स देखने को मिल रहे हैं तो आपको थोड़ा सा केयरफुल होकर भी चलना है और इस शुक्र के रिजल्ट को और अधिक बेहतर बनाने के लिए शुक्रवार के दिन पानी में चीनी मिलाकर शिवजी पर अभिषेक जरूर करें।

मिथुन राशि – आपकी राशि के लिए शुक्र द्वादश और पंचम भाव के स्वामी हैं और जाकर बैठे हैं आपके द्वितीय भाव में। द्वादस स्थान का स्वामी अपने से तो बैठ रहा है परन्तु चूंकि द्वादश भाव का स्वामी है और जाहिर है पश्चगामी खर्चों में बढ़ोतरी हो सकती है। इस समय अनर्गल खर्च से आपको बचना होगा। कपड़ों में एक लिमिटेशन से खर्च कीजिए। कोई भी कार्य कर रहे हैं तो एक अपना लेवल, अपना एक बजट देखकर अगर आप चलेंगे तो खर्चों की समस्या आपके जीवन में नहीं रहेगी अन्यथा खर्चे बढ़ सकते हैं और शुक्र के नेगेटिव रिजल्ट भी आपको देखने को मिल सकते हैं। तो अपने खर्चों को थोड़ा सा नियंत्रित करके चलने का प्रयास आपको अपने जीवन में करना ही होगा। इस समय कुटुम्ब से आपको। पूरा सपोर्ट मिलेगा। परिवार आपके साथ खड़ा दिखाई देगा और अगर विवाह योग्य हो चुका है तो कोई एनआरआई आपको मिल सकता है। जीवनसाथी के रूप में तो आप उस दिशा में अपने जीवनसाथी की खोज भी प्रारंभ कर सकते हैं। अब शुक्र चूंकि पंचम भाव के स्वामी है, अपने से दशम जाकर बैठ है। शुक्र का अपने से दशम परंतु पश्चगामी होकर बैठना करियर में थोड़ा सा कहीं न कहीं कन्फ्यूजन पैदा जरूर करेगा। आपको अपना विज़न क्लियर रखना है। मन में दृढ़ संकल्प लेते हुए आगे बढ़ना है। सेल्फ कॉन्फिडेंस बनाए रखना है के आपको आगे चलकर क्या करना है। ये कन्फ्यूजन का मार्ग व्यक्ति को बहुत भ्रमित करता है और वो कहीं भी नहीं पहुंच पाता। अगर आपको अपनी मंजिल प्राप्त करनी है तो आपका विज़न क्लियर होना बहुत आवश्यक है। खासकर स्टूडेंट्स के लिए जो करियर के लिए ट्राय कर रहे हैं उनके लिए तो बहुत ही ज्यादा जरुरी है। आप कला वर्ग के छात्रों के लिए समय थोड़ा सा टफ रहने वाला है पर अगर आपने कठिन परिश्रम किया तो उसका यथेष्ट फल भी आप प्राप्त करेंगे। संतान प्राप्ति की अभिलाषा रखते हैं तो पुत्र संतान की प्रबल संभावना इस समय बनी बनेगी। अगर इस समय संतान प्राप्ति होनी है तो तो प्रेगनेंट लेडीज को थोड़ा सा संभलकर रहने की भी आवश्यकता है। जातक को संतोषी मां की आरती करनी चाहिए और माता जी को अपने परिवार की खुशहाली की प्रार्थना भी आपको करनी चाहिए।

कर्क राशि – शुक्र के रिजल्ट तो आपके लिए शुक्र एकादश और चतुर्थ भाव के स्वामी हैं। आपकी राशि में ही आ रहे हैं। पश्चगामी हो रहे हैं। थोड़ा सा बढ़ा सकते हैं परंतु व्यक्तित्व को बहुत आकर्षक करेंगे। आप थोड़े से भावुक हैं परन्तु इस समय इमोशनल नहीं सोचना है। प्रैक्टिकल होकर सोचे क्योंकि शुक्र आपको और ज्यादा इमोशनल बना सकता है। एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से भी आपको इस समय बचकर चलना होगा। सुखों में आपकी पूर्णतया वृद्धि होगी। कलाकारों को मान सम्मान और प्रसिद्धि की प्राप्ति होगी। आकस्मिक धनलाभ की परिस्थितियां आपको अपने जीवन में देखने को मिल सकती है। आपका लेवल और सर्कल बढ़ता हुआ दिखाई देगा। वही इस समय आप नए वाहन की खरीददारी या फिर नए घर का सपना आपका पूरा हो सकता है। प्रयास आपको तेज करने होंगे। शुक्रवार के दिन शंकर भगवान को सफेद फूल जरूर अर्पित करें।

सिंह राशि – शुक्र का रिजल्ट आपके लिए शुक्र दशम और तृतीय भाव के स्वामी हैं। द्वादश भाव में जाकर बैठे हैं। शुक्र पश्चगामी जरूर वह वक्री जरूर हुए पर वक्री होकर उसमें शुक्र का बैठना आपके खर्चो को नियंत्रित करेगा। यात्रा अधिक संपन्न कराएगा। इच्छाओं को पूर्ण करता हुआ दिखाई देगा। लग्जरी को आपके जीवन में लेकर आएगा। दाम्पत्य जीवन के सुखों को बढ़ाता हुआ दिखाई देगा। यहां पर वर्क प्लेस पर भी आपको सराहा जा सकता है। आपकी पर्सनैलिटी बहुत ही आकर्षक होगी। इस समय अधिकारी भी आपसे पूछ कर अपने कार्यों को करेंगे। अटका हुआ इंक्रिमेंट और प्रमोशन भी मिलने के योग बनेंगे। मई पराक्रम भाव के हिसाब से शुक्र के रिजल्ट आपको थोड़े से डिफरेंट मिलने वाले हैं। राजनीति से जुड़े हुए लोगों को थोड़ा सा कर्मठ होना चाहिए। किसी कॉन्ट्रोवर्सी में फंस सकते हैं। इसीलिए कंट्रोवर्सी से बचने का प्रयास करें। रोज लक्ष्मी मां की आरती करें और उन्हें खीर का नैवेद्य चढ़ाकर उस खीर को जरूरतमंद लोगों में जरूर बांटें और खुद भी प्रसाद के रूप में ग्रहण करें।

कन्या राशि – आपकी राशि के लिए शुक्र नवम और द्वितीय भाव के स्वामी है और यहां पर शुक्र भाग्येश होकर अपने से तृतीय जाकर बैठे हैं। भाग्येश का अपने से तृतीय जाकर बैठना आपके भाग्य को बढ़ाएगा। परंतु यहां पर कॉस्मेटिक कंपनीज या फिर कोई टेक्सटाइल कंपनीज में अगर आप शेयर्स लेते हैं या कुछ रिस्की इन्वेस्टमेंट करते हैं, ट्रेडिंग करते हैं या फिर जो भी अगर स्टॉक का काम करते हैं तो डेफिनेटली आपको बहुत अच्छा लाभ प्राप्त हो सकता है। परंतु इन कंपनीज की तरफ आपको ज्यादा विचार करना होगा। इस समय भाग्य आपका साथ देगा। अधूरे पड़े हुए कार्य द्रुत गति से संपन्न होंगे परंतु आपके आलस्य को त्याग कर आपको अपने कार्यों को करना होगा वरना अधूरे कार्यों की लिस्ट लंबी और पूरे कार्यों की लिस्ट छोटी हो जाएगी। गणेश जी ने अपने से दशम तक अपने से 11 बैठे थे। दशम जारे काम की अधिकता जरूर होगी परंतु आप अपनी मेहनत के दम पर अपने रिजल्ट को सकारात्मक बनाते हुए दिखाई देंगे। इस समय आप कॉम्पिटीशन के लिए आगे बढ़ेंगे और प्रतिफल में आपको परिणाम अपने लिए बहुत ही सकारात्मक देखने को मिलेंगे। आपका कुटुम्ब में मान सम्मान होगा। परिवार में एक अलग पहचान बनेगी और इस समय आपको कुटुम्ब से भी शुभ समाचारों की प्राप्ति होगी। जातक को रोज महालक्ष्मी कवच का पाठ जरुर करना चाहिए।

तुला राशि – शुक्र के परिणाम आपके लिए शुक्र अष्टमेश और आपकी खुद की राशि के स्वामी हैं। शुक्र बैठ रहे हैं। आपके टेन हाउस में पश्चगामी होने पर शुक्र के रिजल्ट आपको बहुत अच्छे मिलेंगे परंतु यहां पर आपको कोशिशें लगातार करनी होंगी। आलस्य को त्यागना होगा। कर्मठ बनना होगा। इस समय सामाजिक कार्यक्रमों में आपकी भागीदारी बढ़ेगी परंतु अपने कर्तव्य को पहले निर्वहन करने के बाद आपको दूसरे कार्य करने चाहिए। शुक्र वक्री हो रहा है इसलिए कपड़ा व्यवसायियों को थोड़ा संभलकर रहने की आवश्यकता है। जॉब स्विच होने की संभावना नौकरीपेशा लोगों के जीवन में आ सकती है। यहां पर शुक्र अष्टमेश के हिसाब से यात्राएं आदि करनी पड़ेगी। इस समय अपने सामान का विशेष रूप से ध्यान रखना होगा। गलत लोगों की संगति छोड़ दें, क्योंकि वे आपको पथ भ्रष्ट करने का प्रयास कर सकते हैं। आपको धोखा भी उन लोगों से मिल सकता है। संतोषी मां पर मां के मंदिर जाकर उन्हें नारियल जरूर चढ़ाएं और मन से अपने परिवार की खुशहाली की प्रार्थना करें।

वृश्चिक राशि – शुक्र के परिणाम आपके लिए शुक्र वेल्थ हाउस के लॉर्ड हैं और आ रहे हैं आपके भाग्य स्थान में, लेकिन शुक्र का भाग्य स्थान में आकर बैठना आपके भाग्य को प्रबल करेगा। जीवनसाथी के नाम से अगर आप कोई भी बड़ा इन्वेस्टमेंट आप कर रखें या फिर आपने पहले भूतकाल में किया हुआ है तो उसके परिणाम आपको बहुत ही पॉजिटिव देखने को मिलेंगे। अगर नहीं किया है तो आप इस समय अगर कोई भी उनके नाम से इन्वेस्टमेंट करते हैं तो उसमें भी आपको अच्छा लाभ प्राप्त होगा। बहुत बड़ी धनराशि रिस्की कामों में ना लगाएं। छोटी छोटी राशि लगाकर आप अपने धन को बढ़ाने का प्रयास करें। यहां पर अधूरे काम पूरे होते चले जाएंगे। आपकी इच्छाएं पूर्ण होंगी। विदेश में अटके काम या विदेशों से संबंधित काम आपके पूर्ण होने के प्रबल योग बने हुए हैं। व्यापार अगर बिज़नस में आपको विदेशी क्लाइंट मिलते हैं या विदेशी करंसी मिलती है या विदेशी कंपनियों के साथ आप काम करते हैं तो डेफिनेटली इस समय आपका व्यापार बढ़ता हुआ दिखाई देगा। विदेशों से बहुत अच्छा लाभ भी प्राप्त होगा। भगवान शिव पर रोजाना सफेद चंदन का लेप जरूर लगाएं।

धनु राशि – शुक्र के रिजल्ट आपके लिए शुक्र सिक्स और इलेवंथ हाउस के लॉर्ड हैं। यहां पर शुक्र आकर बैठे। आपके स्वभाव में शुक्र अष्टम भाव में आपको भावुक जरूर बनाएंगे। एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयर हो सकते हैं। गलत लोगों की संगति हो सकती है। गलत आदतें आप सीख सकते हैं। इसलिए इन सब चीजों से थोड़ा सा परहेज करके आपको अपने जीवन में आगे बढ़ना होगा। यहां पर आपको अपने प्रतिद्वंदियों से सावधान रहना होगा। इस समय आपके राइवल्स आपके काम में किसी न किसी प्रकार से व्यवधान डालने का प्रयास कर सकते हैं। आर्थिक स्थिति भी अच्छी नहीं रहेगी। कर्ज की स्थितियां बढ़ सकती है। इसलिए अपनी स्थिति पर काबू पाने के लिए अपने बजट को देख कर चलना बेहद आवश्यक है। लाभ की स्थिति अभी अच्छी नहीं है। इसीलिए आपको नए कार्य की शुरुआत से इस समय बचें। जो रूटीन में काम चल रहे हैं, उन्हीं कार्यों को करने का प्रयास करें। जातक को रोज सफेद रंग के वस्त्र पहनकर मंत्र ॐ श्री राम रहीम श्रीमद् कमले का मिला लें। प्रसिद्ध प्रसिद्ध क्रीम ड्रीम क्रीम ॐ महालक्ष्म्यै नमः मंत्र का स्फटिक की माला से जाप करना चाहिए।

मकर राशि – शुक्र के रिजल्ट तो आपके लिए शुक्र पंचम और दशम भाव के स्वामी हैं और जाकर बैठे आपके सप्तम भाव में। यहां पर शुक्र का सप्तम भाव में पश्चगामी होकर बैठना यानी वक्री अवस्था में बैठना आपके करियर में कहीं कहीं ऑप्टिकल जरूर पैदा करेगा। परंतु आप अपने हौसलों के दम पर इन ऑप्टीकल को दूर कर अपनी सफलता को सुनिश्चित करते हुए दिखाई देंगे। इस समय आपको अपने वर्क प्लेस पर भी अच्छी सफलता के योग बनेंगे। आपके लाइफ पार्टनर का पूरा साथ और सहयोग आपको प्राप्त होगा। परंतु दांपत्य जीवन में इगो नहीं आना चाहिए। एक दूसरे के साथ वाद विवाद की स्थितियों से बचें वरना दाम्पत्य जीवन अच्छा हो सकता है। आपके लाइफ पार्टनर आपको सपोर्ट करेंगे। वहीं इसके विपरीत परिणाम आपको देखने को मिल सकते हैं। विवाह में कुछ बाधाएं जरुर उत्पन्न होंगी। थोड़ा सा जो युवक युवतियां विवाह योग्य हो चुके हैं उनको थोड़ा पेशेंस रखते हुए अपने जीवन में आगे बढ़ना होगा। शुक्र आपकी कुण्डली में योगकारक ग्रह है इसलिए शुक्र से रिलेटेड अगर आप कोई भी काम करते हैं तो उसमें आपको निश्चित रूप से सफलता प्राप्त होगी। प्रातः काल शंकर जी पर जल में चावल मिला कर अभिषेक जरूर करें।

कुम्भ राशि – आपके लिए शुक्र चतुर्थ और नवम भाव के स्वामी हैं और जाकर बैठ गये। आपके रोग भाव में स्वास संबंधी समस्याएं हो सकती है। लेडीज को विशेष रूप से ध्यान रखने की आवश्यकता है। पीसीओडी के पीरियड से संबंधित किसी न किसी प्रकार की समस्या आपके जीवन में उत्पन्न हो सकती है। अगर आपने लापरवाही की तो परिणाम आपको विपरीत भुगतने पड़ सकते हैं। थोड़ी सी सावधानी अपने स्वास्थ के प्रति थोड़े से केयरफुल होकर आपको आगे बढ़ना। शुक्र आपकी कुण्डली में योगकारक ग्रह है इसीलिए आप के सुखों में प्रगति करेंगे। भाग्य आपका साथ देगा। अधूरे पड़े हुए कार्य द्रुत गति से संपन्न होंगे। धार्मिक अनुष्ठानों में आपकी भागीदारी बढ़ेगी। सामाजिक कार्यक्रमों में आपकी भागीदारी इस समय बढ़ती हुई दिखाई देगी। नए घर का नए वाहन का सपना आपका पूरा होगा और मां से आपको पूरा सपोर्ट मिलता हुआ दिखाई देगा। जातक को रोज स्टील या चाँदी के पात्र में दूध भरकर भगवान भोले शंकर के शिवलिंग पर अभिषेक करना चाहिए।

मीन राशि – शुक्र के रिज़ल्ट आपके लिए तृतीय और अष्टम भाव के स्वामी हैं शुक्र और जाकर बैठे हैं आपके पंचम भाव में। पंचम भाव में यानि पराक्रमेश का पंचम भाव में जाकर बैठना। बहुत ही शानदार आपके करियर में अच्छे परिणामों को लाता हुआ दिखाई देगा। परन्तु यहां पर शुक्र आपके अष्टमेश भी है इसलिए यात्रायें करते समय विशेष सावधानी आपको रखनी होगी। इस समय पहले अपने काम को प्रायोरिटी दें उसके बाद में आप अपनी हॉबीज को अपनी मनोवांछित इच्छाओं को पूर्ण करने का प्रयास करें। यदि आपने अपने कामों को टाला तो उसमें नुकसान की स्थितियां बढ़ सकती है। इस समय राजनीति में आपका वर्चस्व बढ़ेगा। छोटे भाई बहनों के साथ आपकी ट्यूनिंग और अधिक बेहतर होती चली जाएगी। यदि आप फैशन डिजाइनिंग से जुड़े हुए हैं या फिर आप अपने भविष्य को इंटीरियर डेकोरेशन से जोड़ रहे हैं तो डेफिनेटली इस समय जॉब के पूरे योग बनते हुए दिखाई देंगे। प्रातः काल सफेद वस्त्र पहनकर श्री लक्ष्मी कवच का पाठ जरूर करें।

Related Posts