Astro Gyaan|Astrology Tips|Featured

धनु राशि शनि का राशि परिवर्तन 29th April 2022 in Hindi | Shani ka Rashi Parivartan 2022 Dhanu Rashi Sagittarius

maxresdefault 1 6 2 | Panditnmshrimali

[vc_row][vc_column][vc_column_text]

धनु राशि शनि का राशि परिवर्तन 29th April 2022 in Hindi


This image has an empty alt attribute; its file name is dhanu-rashi-saggitarious-300x267.png

 

9 4 | Panditnmshrimali

 

ज्योतिष एक विज्ञान है और इसे गहराई से समझा जाए तो जीवन में बदलाव संभव है तो आइए हम करेंगे आपकी हर समस्या का समाधान। नमस्कारआज हम आपके सामने धनु राशि वालो के लिए शनि देव के राशि परिवर्तन की जानकारी लेकर उपस्थित हुए है । आगामी 29 अप्रैल को शनि देव राशि परिवर्तन करते हुए अपनी खुद की राशि से पुनः अपनी खुद की राशि यानी मकर राशि से कुम्भ राशि में प्रवेश करेंगे और लगभग ढाई महीने का यह कार्यकाल शनि का रहेगा। जब वे कुम्भ राशि में विराजमान रहेंगे। पुनः 12 जुलाई को वे वक्रीय होकर मकर राशि में प्रवेश कर जाएंगे और वर्ष पर्यन्त वे मकर राशि में ही विराजमान रहेंगे। शनि ग्रह के बारे में हर व्यक्ति आज के दिन जानता है एवं आज के टाइम में अगर कोई ग्रह सबसे अधिक बलवान है और लोग जिस ग्रह से डरते हैं वो है शनि ग्रह परंतु शनि न्याय प्रिय देवता के रूप में जाने जाते है। वो व्यक्ति के कर्मों के हिसाब से हर व्यक्ति को प्रतिफल प्रदान करते हैं। यानि अगर आपने अच्छे कर्म किए हैं तो शनि के रिजल्ट आपको बहुत ही अच्छे मिलेंगे पर यदि आपने गलत कर्म किए हैं। बुरे कर्मों के साथ आप अपने जीवन में आगे बढ़े हैं तो शनि आपको दंड इसी जन्म में प्रदान करेंगे। यानि व्यक्ति के इस जन्म में किए गए कर्मों का हिसाब उसे इसी जन्म में शनि देव ही देते हैं। इसलिए आज की तारीख में हर व्यक्ति सबसे ज्यादा शनि देव से डरते हैं। शनि, मकर और कुम्भ राशि के स्वामी हैं। और तुला में उच्च के होते है और मेष राशि में नीच के परिणाम वे देते हैं। इस बार शनि की ढैया कर्क और वृश्चिक राशि वालों को लगेगी जो कि 29 अप्रैल के बाद में लगने वाली है और मिथुन तुला राशिवालों के ऊपर से शनि की ढैय्या का प्रभाव खत्म हो जाएगा। वहीं मकर कुम्भ और मीन राशि वालों को शनि की साढ़े साती लगेगी । परंतु ये जो साढ़े साती और ढैया है ये करीबन दो ढाई महीने के लिए ही रहने वाली है। उसके बाद में पुनः मकर राशि में आ जाएंगे। तो पुरानी स्थिति में वापस शनि के प्रभाव हर राशि पर पड़ना प्रारंभ हो जाएंगे। शनि महात्म्य नामक ग्रन्थ में शनि की दृष्टियों को महाविनाशकारी बताया गया। है और सभी जानते हैं कि शनि की तृतीय सप्तम और दशम दृष्टि जिस भाव पर भी पड़ती है उस भाव पर बहुत ही दुष्प्रभाव शनि के देखने को मिलते हैं। हालांकि हम किस भाव पर शनि की दृष्टि पड़ रही है, उसका भी मूल्यांकन करते हैं और उसके अकॉर्डिंग शनि के परिणाम हमें देखने को मिलते हैं। ये तुला राशि मकर राशि और कुम्भ राशि में जोकि मकर और कुम्भ उनकी खुद की राशि है और तुला राशि में वे उच्च के होते हैं। स्त्री स्थान में विश्व के दक्षिण अयन में देश कांड कुण्डली में स्वग्रही अवस्था में शनिवार के दिन अपनी ही दशा में राशि के अंतिम भाग में युद्ध के समय कृष्ण पक्ष में और अगर शनि वक्री हो तो उस समय यदि वे किसी भी स्थान में हों शनि बलवान ही माने जाते हैं। ये एक पुरुष ग्रह हैं और पृथ्वी तत्व के स्वामी हैं। शनि अधिकृत स्थानों से यानि रेगिस्तान, जंगल, अज्ञात घाटियां, गुफाएं, पर्वत कब्रिस्तान खंडहर, कोयले की खदानें मैली और बदबूदार जगह और कार्यालय आदि का समावेश रहता है। शनि को केवल एक ही ग्रह पराजित कर सकता है वो है मंगल ग्रह यानि जब भी शनि की कोई दृष्टियां हमें प्रभावित कर रही हो या शनि की ढैय्या या साढ़े साती का दुष्प्रभाव हमारे जीवन पर पड़ रहा हो तब हमें मंगल ग्रह को प्रबल करना चाहिए ताकि शनि के इन दुष्प्रभावों से हमें मुक्ति मिल सके तो ये है शनि का संक्षिप्त विवरण जो कि हमने अभी आपको बताया | धनु राशि शनि का राशि परिवर्तन 29th April 2022 in Hindi

अब आते हैं आपकी राशि पर कि इस शनि के राशि परिवर्तन का क्या प्रभाव आपकी राशि पर रहेगा तो शनि आपकी राशि से द्वितीय भाव में विराजमान थे | स्वग्रही होकर बैठे थे और 29 अप्रैल को वे आपके पराक्रम भाव में तृतीय स्थान में जो कि शनि की मूल त्रिकोण की राशि में प्रवेश कर जाएंगे और वहां जाकर बैठेंगे। शनि के रिजल्ट आपको द्वितीय भाव में भी अच्छे मिल रहे थे और अब जब 29 अप्रैल को शनि आपके तृतीय स्थान में आ जाएंगे तो द्वितीयेश को अपने से एक घर आगे जाकर बैठना और तृतीय स्थान के स्वामी का स्वग्रही होकर बैठना आपको उत्तम परिणामों की प्राप्ति करवाएगा। शनि के शानदार परिणाम आपको देखने को मिलेंगे। आपके मान सम्मान यश कीर्ति में वृद्धि होगी। कुटुम्ब में आपका स्थान ऊंचा हो जाएगा। कुटुम्ब में गणमान्य व्यक्तियों की श्रेणी में आ जाएंगे। सामाजिक कार्यक्रमों में आपका मान सम्मान होगा और वहां पर आपको चीफगेस्ट बनाकर बुलाया जाएगा। वाणी से आप सबको मोहित करते हुए नजर आएंगे। शत्रु भी आपके मित्र बन जाएंगे। इस समय जो भी न्याय प्रक्रिया से रिलेटेड कार्यों में कार्यरत हैं या फिर वकालात कर रहे हैं या फिर वकील हैं तो वो अपनी बोली से प्रसिद्धी हासिल जरूर करेंगे। इस समय आपके सुखों में ऐश्वर्य में वृद्धि होगी। भाई बहनों का बहुत अच्छा साथ और सहयोग प्राप्त होगा। आपको बता दें कि शनि जहां बैठते हैं उस घर को बढ़ाते हैं। इन दोनों स्थानों के शानदार रिजल्ट आपको मिलेंगे। पारिवारिक स्थिति आपके लिए फेवरेबल रहेगी। बड़े भाई बहनों का पूरा सपोर्ट आपको मिलेगा और छोटे भाई बहनों से आपको इज्जत प्राप्त होगी। मान सम्मान प्राप्त होगा। अभी अगर आपकी कोई पैतृक संपत्ति संबंधी विवाद चल रहा है तो उस विवाद का हल आपके आपसी बातचीत के द्वारा आपसी तालमेल के द्वारा ही सॉल्व हो जाएगा। इस समय आप अपनी महत्वाकांक्षाओं और इच्छाओं की पूर्ति करने में सक्षम नजर आएंगे। आपकी पावर में वृद्धि होगी। राजनीति से जुड़े हैं तो राजनीति में आपकी पकड़ और अधिक मजबूत होगी। आपका प्रभाव क्षेत्र बढ़ेगा। जनता के प्रिय बन जाएंगे। इस समय आप कोई भी शेयर मार्केट, लॉटरी जैसे कार्यों में इन्वेस्टमेंट करते हैं तो उसमें आपको निश्चित रूप से लाभ की स्थितियां देखने को मिलेगी। शनि आपके हॉबी में भी चार चांद लगाएंगे और हो सकता है कि आपकी हॉबी से आप अच्छी ख्याति प्राप्त कर लें। शनि मेहनत जरूर करवाते परंतु अगर आपने अच्छी मेहनत की है। अच्छे कर्म किए हैं तो निश्चित रूप से शनि के शानदार रिजल्ट आपको देखने को मिलेंगे। पर जैसा कि हमने आपको बताया कि शनि की दृष्टि अच्छी नहीं होती तो शनि की तृतीय दृष्टि आपके पंचम भाव पर पड़ रही है। सप्तम दृष्टि आपके अष्टम भाव पर पड़ रही है और दसम दृष्टि आपके खर्च स्थान पर पड़ रही है तो अष्टम भाव और खर्च भाव पर शनि की दृष्टि के उलटे आपको ठीक रिजल्ट मिलेंगे। परंतु विद्यार्थी वर्ग के लिए यह समय थोड़ा सा अपनी पढ़ाई में कॉन्संट्रेट करने का है। यदि आपका दिमाग कई ओर चला या आपका ध्यान भटका तो आप अपने लक्ष्य से चूक जाएंगे। तो बिल्कुल ध्यान रखें। पहले आपका लक्ष्य है, उसके बाद में दूसरे काम है। डिस्ट्रेक्शन को अपने जीवन में स्थान नहीं लेने देना है। संतान प्राप्ति में बाधा उत्पन्न हो सकती है, इसलिए थोड़ा सा संभलकर रहें। जो दंपति चाइल्ड प्लानिंग कर रहे है । परिवार बढ़ाने का सोच रहे हैं, उनके लिए समय इतना अच्छा नहीं है। थोड़ा सा संभलकर रहने में ही भलाई है। परंतु शनि की दृष्टियों की बात करें तो यह जन्मकुण्डली में शनि की क्या पोजीशन आपके चल रही है, उसके हिसाब से भी शनि के रिजल्ट आपको प्रभावित करेंगे। धनु राशि शनि का राशि परिवर्तन 29th April 2022 in Hindi


उपाय

  • शनि का छल्ला आपको अपनी मध्यमा उंगली में धारण करना है और ये छल्ला काले घोड़े की नाल से बना होना चाहिए।
  • दान पुण्य से हमारा ये जन्म सुधरता है और मोक्ष की प्राप्ति होती है। इसलिए अपनी सामर्थ के अनुसार काले तिल, काला कपड़ा, कंबल, लोहे के बर्तन और उड़द की दाल का दान जरूर करें। इससे शनि देव आप पर प्रसन्न रहेंगे और सुख प्रदान करेंगे।
  • तांबे के लोटे में जल लेकर काले तिल डालें और फिर शिवलिंग पर ये जल अर्पित करें। ऐसा करने से सभी रोगों से मुक्ति मिलेगी और भोलेनाथ की कृपा से आपकी आर्थिक तंगी दूर होगी।
  • हनुमान जी की सेवा नित्य प्रतिदिन करें और हनुमान चालीसा का पाठ जरूर करें और मंगलवार और शनिवार के दिन शनि मंदिर और हनुमान मंदिर के साफ सफाई का जिम्मा जरूर लें।
  • सफाई कर्मियों को आप जरूरत की चीजों को दान जरूर करें और अगर शनि की चीजें हों तो और भी बढ़िया।
  • कोई आपके घर के बाहर भिखारी या मांगने वाला आ जाये उसे लोहे का चिमटा, तवा या अंगीठी जरूर दान करें।
  • मस्तक पर तेल की जगह दही या दूध का तिलक लगाकर जाएं। इससे शनि के प्रकोप से मुक्ति मिलेगी।

 

[/vc_column_text][vc_video link=”https://youtu.be/KxbN-mX3yBQ” image_poster_switch=”no”][/vc_column][/vc_row]

Note: Daily, Weekly, Monthly, and Annual Horoscope is being provided by Pandit N.M.Shrimali Ji, almost free. To know daily, weekly, monthly and annual horoscopes and end your problems related to your life click on (Kundali Vishleshan) (Kundali Making) (Kundali Milan) or contact Pandit NM Srimali  WhatsApp No. 9929391753, E-Mail- [email protected]

Contact : +918955658362 | Email: [email protected] | Click below on Book Now
Subscribe on YouTube – Nidhi Shrimali

Back to list

Leave a Reply

Your email address will not be published.