Astro Gyaan|Astrology Tips|Featured

तुला राशि 12 April 2022 Rahu Rashi Parivartan in Hindi | Rahu Transit | Libra Prediction

maxresdefault 14 1 | Panditnmshrimali

तुला राशि 12 April 2022 Rahu Rashi Parivartan in Hindi

[vc_row][vc_column][vc_column_text]

तुला राशि 12 April 2022 Rahu Rashi Parivartan in Hindi


 

This image has an empty alt attribute; its file name is tula-rashi-libra-300x267.png

 

7 1 | Panditnmshrimali

 

ज्योतिष एक विज्ञान है और इसे गहराई से समझा जाए तो जीवन में बदलाव संभव है तो आइये हम करेंगे  आपकी हर समस्या का समाधान | नमस्कार आज हम आपके सामने तुला राशि वालों के लिए राहु के राशि परिवर्तन की जानकारी लेकर उपस्थित हुए  है । अब तक हमने मेष से लेकर कन्या राशि तक आपको राहु के राशि परिवर्तन की जानकारी दी है। राहू 12 अप्रैल को सुबह 10 बजकर 36 मिनट पर वृषभ राशि से मेष राशि में कृतिका नक्षत्र में प्रवेश करेगा | 18 माह तक राहु मेष राशि में विराजमान रहेंगे यानि 30 अक्टूबर वर्ष 2023 तक राहु मेष राशि में गोचर भ्रमण करते हुए दिखाई देंगे और हमने आपको अपने वार्षिक राशिफल में भी बताया है कि अप्रैल माह आपके लिए बहुत इम्पोर्टेन्ट है क्योकि तीन बड़े ग्रहों का राशि परिवर्तन होने जा रहा है। राहू गुरु और शनि के तीनों ग्रह अप्रैल माह में राशि परिवर्तन करने जा रहे है | उनका एक बहुत गहरा प्रभाव हमारे जीवन पर भी देखने को मिलता है। नव ग्रह जोकि शास्त्र में और सात ग्रह प्रत्यक्ष ग्रहों के रूप में जाने जाते हैं। राहु और केतु को हम छाया ग्रह के रूप में देखते हैं परंतु उसके बावजूद इनका प्रभाव हमारे जीवन पर बहुत ही गहरा देखने को मिलता है। राहु वक्री चाल में सदैव चलता है इसलिए वृषभ से  मेष में प्रवेश कर रहे रहे है । राहु सूर्य और चंद्र के साथ में जब भी युति करता है तो ग्रहण दोष का निर्माण करता है। राहु अगर आपके कुंडली के अंदर तृतीय षष्टम और एकादश भाव में बैठा है तो वह बहुत ही उत्तम परिणाम आपको देते हैं। अब राहु के उच्च और नीच को लेकर भी विरोधाभास जैसी स्थिति बनी हुई है। कुछ आचार्यों का मत है कि राहु कन्या राशि में स्वगृही मिथुन राशि में उच्च और धनु राशि में नीच के होते है जबकि कुछ अन्य आचार्यों का मत है की राहु वृषभ राशि में उच्च के ऊपर और वृश्चिक राशि में नीच के माने जाते हैं | राहु की मित्रता सभी ग्रहों से होती है। शनि से वे संव्यवहार करते हैं और मंगल से शत्रुता  रखते हैं। राहु केवल मंगल और शनि को छोड़कर सभी ग्रहों से मित्रवत व्यवहार रहता है। राहु जिस भाव में बैठे होता है उस भाव के एकॉर्डिंग ही वे रिजल्ट देते हैं। तुला राशि 12 April 2022 Rahu Rashi Parivartan in Hindi

अब जान लेते हैं कि तुला राशि वालों के लिए राहु के इस राशि परिवर्तन का क्या रिजल्ट देखने को मिलेगा अभी वर्तमान में अब तक राहू आपके अष्टम भाव में बैठे थे और राहु की पंचम दृष्टि आपके द्वादश भाव पर सप्तम दृष्टि आपके द्वितीय भाव पर और नवम दृष्टि आपके सुख के स्थान पर पड़ रही थी | जो कि इन स्थानों पर दुष्प्रभाव डाल रही थी। आपके खर्चों में अनर्गल वृद्धि, बजट बिगड़ जाना, यात्राएं  बहुत अधिक होना, विदेशों से नुकसान की स्थतिया उत्पन्न हो जाना, वाणी से आप लोगों को परेशान और हर्ट कर देते हैं। अपने बनते काम बिगाड़ देते थे। अब तक कुटुम्ब में मान हानि होना, रिस्तेदार के साथ में अनबन होना और पारिवारिक तालमेल में कमी होना, फाइनैंशली भी इस स्ट्रगल का माहौल अब तक चल रहा था। मां के साथ वाद विवाद की स्थितियां उत्पन्न हो रही थी और कुछ समस्या आर्थिक रूप से आपको देखने को मिलती थी । अब आपको उनसे मुक्ति मिल जाएगी। तुला राशि 12 April 2022 Rahu Rashi Parivartan in Hindi

अब राहु आपके सप्तम भाव में आकर बैठें है तो सप्तम भाव को थोड़ा सा प्रभावित करेंगे। राहु सप्तम भाव में इतने अच्छे रिजल्ट नहीं देते | राहु दांपत्य जीवन में मिस अंडरस्टेनिंग  क्रिएट करता है। मतभेद क्रिएट करते हैं। लव रिलेशनशिप में ब्रेकअप जैसी स्थिति लाता है यानी आप दोनों के संबंध विच्छेद जैसी पोजिशन भी राहु लेकर आते हैं। पारिवारिक तालमेल में कमी हो जाती है। व्यक्ति का चित्त और मन शांत नहीं रहता। चिंताएं घेरे रहती हैं क्योकि हमारी पर्सनल लाइफ में अगर डिस्टर्ब चलेंगे तो हमारी लाइफ डिस्टर्ब हो जाएगी। प्रोफेशनल लाइफ पर भी इसका बैड इफ़ेक्ट देखने को मिलेगा। व्यापार में दिक्कतें परेशानियां। अगर आप व्यापार में पार्टनरशिप कर रहे हैं तो पार्टनरशिप में भी दिक्कतें हो सकती है। यदि आपको बहुत सतर्क रहकर चलने की संभावना बनी हुई है। बहुत जल्द आपको सतर्क रहकर चलना पड़ेगा। पार्टनर के साथ किसी भी प्रकार के वाद विवाद से बचें। यदि आपकी पार्टनरशिप बहुत अच्छी चल रही है तो अपने पार्टनर की भावनाओं को लेकर चलें। कोई काम करें तो आप दोनों मिलकर करें एक दूसरे को कह कर एक दूसरे के साथ में आगे बढ़ते हुए चले जाएं। और यदि आप नया बिजनस शुरू करना चाहते हैं तो हमारी यही सलाह आपको रहेगी कि आपको पार्टनरशिप में काम नहीं करना चाहिए। स्वतंत्र रूप से अपने कार्यो का संचालन करें और स्वतंत्र रूप से ही कोई भी नया कार्य शुरू करें उसमें आपको अच्छी सफलता प्राप्त होगी। नौकरी में दिक्कतें परेशानियां अधिकारियों से तालमेल न बैठ पाना काम का प्रेशर आपके ऊपर अधिक रहना | ऐसी समस्या आपको देखने को मिल सकती है। विवाह अगर आप करने के इच्छुक हैं तो विवाह में भी कुछ परेशानियां बधाए राहु पैदा कर सकते हैं। आप देख तो बहुत सारे लड़के लड़कियों को रहे है या फिर आपके पास बहुत संबंध आ रहे है परंतु आपकी बात कहीं बन नहीं पा रही है। ये स्थति राहू आपके सप्तम भाव में बैठकर ला सकता है। तुला राशि 12 April 2022 Rahu Rashi Parivartan in Hindi

अब राहु के दृष्टियों की बात करें तो राहु की पंचम दृष्टि आपके लाभ भाव पर पड़ रही है जो कि लाभ की स्थतियो में फ्लूचुवेशन लेकर आ सकती है। थोड़ा सा अप डाउन की स्थिति रह सकती है | यदि आपने लाभ कमाया पर उस लाभ  का फायदा नहीं उठाया यानि उस लाभ का सुख आपको प्राप्त नहीं हुआ। इस समय आपके सर्कल लेवल से भी आपको सपोर्ट नहीं मिलेगा। सामाजिक मान सम्मान में थोड़ी सी कमी आप महसूस करेंगे। आप अपनी बातों को एक्सप्रेस करना चाहेंगे आप बहुत टैलेंटेड हैं पर आपके टैलेंट की कद्र नहीं होगी। मतलब आप जितना कुछ टैलेंट अपने अंदर रखते हैं उतना आप लोगों के सामने दिखा नहीं पाएंगे। समस्याएं उत्पन्न हो सकती है। इस समय शेयर मार्केट और लॉटरी में इन्वेस्टमेंट से थोड़ा सा आपको बचना चाहिए और अगर आप शेयर मार्केट में इन्वेस्टमेंट करना चाहते भी हैं तो लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट करें। शॉर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट से तो निश्चित रूप से बचें। यदि ट्रेडिंग से रिलेटेड जो लोग काम करते हैं रोज आप पैसा डालते हैं और रोज निकालते हैं उनके लिए समय बहुत सोच समझकर और सतर्क रहकर आगे बढ़ने का है। इस समय किसी को भी उधार देने से बचें और उधार लिए बिना क्योंकि वो उधार चुकाने में आपको बहुत लंबा समय निकल जाएगा। इसलिए उधार लेने और देने से आपको परहेज करना चाहिए। तुला राशि 12 April 2022 Rahu Rashi Parivartan in Hindi

राहु की सप्तम दृष्टि की बात करे जो की लग्न पर पड़ रही है | आपके लग्न को थोड़ा सा डिस्टर्ब कर रहे है राहु | लग्न को भ्रमित करना यानी इस समय भ्रम की स्थतिया बहुत रहेगी। कभी कन्फ्यूजन की स्थिति कभी बिना  फालतू का डर  आपके अंदर किसी भी काम को लेकर रहेगा। कोई भी काम करने जायेंगे आपको मन में लगेगा ये काम करू या ना करू ये सही होगा या नहीं होगा | कॉन्फिडेंस लूज नजर आएगा और कभी बहुत ओवर कॉंफिडेंट होते दिखाई देंगे। मैं सोच रहा हूं वो  बिल्कुल सही है बाकि पूरी दुनिया गलत। ऐसे भ्राँतिया अपने मन में न पालें तो आपके लिए ठीक रहेगा इसलिए आपको अवेयर कर रहे है  की  अपने आपके आत्मबल को बनाये रखें और ओवर कॉन्फिडेंट भी ना   हो। कोई भी सलाह आप अपने परिवार से ले सकते है | अपने घर के बुजुर्गों से ले सकते हैं। अपने माता पिता से या फिर किसी अनुभवी व्यक्ति से आप सलाह ले सकते हैं। परन्तु कोई भी इम्पॉर्टेंट डिसीजन अगर आपको लेना विशेषकर पैसे से संबंधित कोई बड़ा कार्य आपको करना है तो किसी से सलाह लेकर ही आगे बढें। तुला राशि 12 April 2022 Rahu Rashi Parivartan in Hindi

राहु की नवम दृष्टि की  बात करें जो कि पराक्रम भाव पर पड़ रही है जो कि आपके पराक्रम को विपरीत दिशा में ले जाती है। जिस मार्ग पर आपको चलना है वहां नहीं जा रहा उल्टे दिशा में आपकी चाल चलती चली जा रही है। इससे आपका पराक्रम आपको कुयश  दिला सकता है। मान सम्मान में कमी हो सकती है। नेगेटिव तरीके से अपने पावर को लगाने का प्रयास बिल्कुल भी ना करें। सही दिशा में चलेंगे तो आप सही परिणामों की प्राप्ति करेंगे। कभी कभी आवेश आक्रोश आपके बने बनाए कामों को भी बिगाड़ सकता है। भाई बहनों के साथ में मतभेद की स्थतिया  उत्पन्न हो सकती है। थोड़ा सा आपको अपने भाई बहनों के साथ ट्यूनिंग बनाकर चलनी पड़ेगी। कोई भी कार्य ऐसा ना करें या कोई भी शब्द ऐसे प्रयोग में न लाएं जिससे वो हर्ट हो जाये और रिश्तों में दरार आ जाए। क्योंकि हमारा परिवार हमारी स्ट्रेंथ होती है | तो थोड़ा तुला राशि वालों के लिए राहु जहां बैठे है और राहु की दृष्टि इन सबके हिसाब से तुला राशि वालों के लिए राहु का राशि परिवर्तन इतना अच्छा नहीं रहेगा | तुला राशि 12 April 2022 Rahu Rashi Parivartan in Hindi


उपाय

  •  भगवान विष्णु की पूजा आराधना करें। इससे राहु के दुष्प्रभावों से बचा जा सकता है।
  • विष्णु सहस्रनाम का पाठ कर सकते हैं।
  • गुरुवार का व्रत कर सकते हैं।
  • भगवान विष्णु के सत्यनारायण का पाठ कर सकते हैं। प्रसन्न करने के लिए |
  • भगवान विष्णु के ऊपर दक्षिणावर्ती शंख में चावल भर कर उन पर चढ़ा सकते हैं।  विष्णु को प्रसन्न करेंगे आपको राहु के दोष से भी मुक्ति दिलवाएंगे।
  • आपको नियमित रूप से ओम नमः शिवाय और महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए। इससे राहु और केतु के दोष से आपको मुक्ति मिलेगी।
  • आपको अपने वजन के बराबर जौ लेने है और उनको बहते जल में प्रवाहित कर दें या फिर जरूरतमंद व्यक्ति को दान कर दें |

 

 

[/vc_column_text][vc_video link=”https://youtu.be/Wri19CcYCUU” image_poster_switch=”no”][/vc_column][/vc_row]

Back to list

Leave a Reply

Your email address will not be published.