Astro Gyaan, Astro Gyaan|Astrology Tips|Featured, VIDEOS

कन्या राशि जनवरी 2023 राशिफल in hindi | Virgo Horoscope 2023 | Nidhi Shrimali

kanya rashifal january 2023

कन्या राशि जनवरी 2023 राशिफल

ये नया साल आपके लिए उन्नतिदायक है। सभी तरक्की और उन्नति के रास्ते आप अपने जीवन में तय करें। शुभ आपके जीवन में हो यही हम मंगल कामना आप सभी के लिए करते हैं और लेकर आये हैं। नए साल की प्रथम माह यानि जनवरी माह का कन्या राशि वालो का मासिक राशिफल | कन्या राशि वालो के लिए साल का ये प्रथम माह कैसा रहने वाला है। सबसे पहले तो जान लेते हैं। इस माह में आने वाले कुछ विशेष पर्वों के बारे में तो 1 जनवरी को नववर्ष प्रारंभ हो जाएगा। 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद जयंती मनाई जाएगी। 14 जनवरी को लोहड़ी या मकर सक्रांति इन दोनों का पर्व एक साथ धूमधाम से मनाया जाएगा। 21 जनवरी को मौनी अमावस्या आ रही है और 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस और बसंत पंचमी का पर्व साथ में धूम धाम से मनाया जाएगा।

अब जान लेते हैं कि साल के प्रथम माह में ग्रहों की स्थिति कैसी रहेगी तो सबसे पहले बात करते हैं सूर्य ग्रह की जो कि वर्तमान में अपनी अति मित्र राशि धनु में विराजमान हैं और 14 जनवरी को वे अपनी सम राशि मकर में प्रवेश कर जाएंगे और यहां सूर्य उत्तरायण होते हुए दिखाई देंगे। मकर सक्रांति का पर्व इस दिन मनाया जाएगा। बुध ग्रह इस पूरे माह अपनी मित्र राशि धनु में विराजमान रहेंगे। वहीं मंगल ग्रह वक्री अवस्था में अपनी राशि शत्रु राशि वृषभ में इस पूरे माह विराजमान रहने वाले हैं। गुरू अपनी ही राशि मीन में इस पूरे माह विराजमान रहेंगे। वहीं शुक्र ग्रह की बात करें तो वे वर्तमान में अपनी सम राशि मकर में विराजमान हैं और 22 जनवरी को वे अपनी सम राशि कुम्भ में प्रवेश कर जाएंगे। शनि ग्रह की अगर बात करें तो वे वर्तमान में स्वग्रही अवस्था में अपनी राशि मकर में विराजमान हैं और इस माह में यानि 17 जनवरी को वे अपनी मूल त्रिकोण की राशि कुम्भ में स्वग्रही होकर विराजमान होने वाले हैं। शनि का ये जो राशि परिवर्तन इस साल का सबसे बड़ा राशि परिवर्तन कहलाएगा | राहू इस पूरे माह अपनी सम राशि मेष में विराजमान रहेंगे और केतु इस पूरे माह अपनी राशि तुला में विराजमान रहने वाले हैं। तो ये हैं इस माह की ग्रह गोचर की स्थिति का हाल। अब जान लेते हैं कि इन ग्रहों की स्थितियों का। इस साल के सबसे बड़े राशि परिवर्तन का क्या इम्पैक्ट आपके इस माह पर पड़ने वाला है तो शुरू करते हैं कन्या राशि वालो का जनवरी माह का मासिक राशिफल राशिफल | 

सबसे पहले बात करते हैं आपकी ही राशि स्वामी की जो की है बुध , बुध जो कि लग्नेश होकर सुख स्थान में जाकर बैठे हैं। बुध का लग्नेश होकर अब आपके सुख स्थान में जाकर बैठना बहुत शानदार परिणाम आपको दिलाने वाला है। आपकी पर्सनालिटी बहुत ही पावरफुल रहेगी। कुशाग्र बुद्धि के धनि रहेंगे। डिसीजन बहुत अच्छे से और बहुत ही व्यवस्थित रूप से लेंगे जिससे आपके सारे डिसीजन सक्सेसफुल होते हुए दिखाई देंगे। वाणी से आप सबको मोहित करते नजर आयेंगे। अपने वाक् चातुर्य की बजह से बिगड़े काम भी आप बना देंगे। इस समय सामाजिक मान सम्मान में बढोतरी होगी। और लोगों में आपका प्रभाव बढ़ता हुआ दिखाई देगा। जिससे लोग आपको फॉलो करने का प्रयास करेंगे। कई लोग आपको अपना आइडियल मानेंगे। और आप भी अपने जीवन क्षेत्र में उन्नति के रास्ते वन बाय वन तय करते चले जाएंगे। काम करने में किसी भी प्रकार की जल्दबाजी नहीं करेंगे और बहुत शांति से और व्यवस्थित तरीके से अपने कार्यों को पूर्ण करने का प्रयास करेंगे। तो बुध के रिजल्ट बहुत ही बेहतरीन आपको इस माह मिलते हुए दिखाई देंगे।

अब वो चूंकि आपके कर्मेश भी है, कर्मभाव के स्वामी अपने से सप्तम जाकर में हैं और बुध अपने ही घर को यानि कर्म भाव को भी देख रहे हैं तो आपके कामकाज में भी आप तीव्रता लाने का प्रयास करेंगे। खासकर उन क्षेत्रों से जुड़े हुए लोग जो कि आईटी फील्ड से जुड़े हुए हैं जो कि बैंकिंग सेक्टर से जुड़े हुए हैं। जो फाइनेंस का काम करते हैं जो एकाउंटिंग के फील्ड से जुड़े हैं सीए या लिखने का काम करते हैं या फिर कोई भी वाद्य यंत्रों से संबंधित अगर आप काम करते हैं तो निश्चित रूप से इन क्षेत्रों से जुड़े हुए लोगों को बहुत शानदार परिणामों की प्राप्ति होगी। पदोन्नति के अवसर प्राप्त होंगे। अधिकारियों का साथ और सहयोग मिलेगा। मनचाही ट्रांसफर के योग बनेंगे। इस समय आप एक विशेष योग्यता के साथ अपने जीवन में आगे बढ़ेंगे और आपकी योग्यता को परखा भी जायेगा और सराहा भी जायेगा। यानि हर तरीके से आप अपने जीवन में अपनी योग्यता को प्रमाणित और सिद्ध करते हुए दिखाई देंगे। पिता का साथ और सानिध्य आपको भरपूर देखने को मिलेगा और उनके मार्गदर्शन में आप अपनी प्रतिभा को और अधिक निखारते हुए दिखाई देंगे जिससे आप सफलता पूर्वक अपने व्यक्तित्व को समाज के सामने रखें और आपका व्यक्तित्व समाज के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत बन सके तो बुध के बहुत अच्छे रिजल्ट आपको इस माह देखने को मिलेंगे।

अब बढ़ते हैं आगे और जान लेते हैं। द्वितीय स्थान के बारे में, द्वितीय स्थान के स्वामी हैं शुक्र जो कि आपके पंचम भाव में जाकर बैठे हैं। शुक्र का अपने से चतुर्थ तक जाकर बैठना द्वितीयेश का यानि धनेश का अपने से चतुर्थ जाकर बैठना आपके लिए बहुत ही अच्छा है। आपकी आर्थिक स्थिति को और अधिक सुदृढ़ और उन्नत करेगा। इस समय आप डिसीजन जल्दबाजी में नहीं लेंगे। हालाँकि कभी कभी आप आलस्य से घिरे रहेंगे।

परंतु अपने आलस्य को अपने ऊपर हावी नहीं होने देंगे। फटाक से फिर आपकी बुद्धि कहेगी कि नहीं काम हमारा कर्तव्य है उस कर्तव्य से विमुख ना हो और ये अंतरात्मा की आवाज आप सुनते हुए अपने जीवन में उन्नति के रास्ते तय करेंगे। अधिकारी भी आपके लिए सहयोगात्मक रवैये से आगे बढने का प्रयास करेंगे और इस समय बैंकिंग सेक्टर से जुड़े हुए काम द्रुत गति से सम्पन होंगे। कुटुम्ब में मान सम्मान बढ़ेगा पर ये हो सकता है कि आपके किसी कुटुम्बी के साथ में वाद विवाद की स्थिति उत्पन्न हो सकते। कुछ मिसअंडरस्टैंडिंग आपको झेलनी पड़ सकती है पर आखिरकार आप इन स्थितियों से बहुत जल्द निकल भी जाएंगे। हालाँकि ये स्थितियां आपके लिए बहुत लंबी और समस्यात्मक नहीं रहेगी। जल्द ही आप अपनी स्थितियों पर काबू पाकर उनको नॉर्मल करने का प्रयास करेंगे तो शुक्र के रिजल्ट धनेश के हिसाब से बहुत अच्छे हैं।

अब शुक्र चूंकि आपके भाग्येश है तो भाग्य स्थान के हिसाब से भी शुक्र के रिजल्ट बहुत ही अच्छे रहेंगे क्योंकि भाग्येश अपने नवम जाकर बैठेंगे और यहाँ पर भाग्येश के बेहतरीन परिणाम आपको देखने को मिलेंगे। इस समय भाग्य आपका साथ देगा। अधूरे पड़े हुए कार्य द्रुत गति से संपन्न होंगे। कामों में आ रही दिक्कतें परेशानियां खत्म हो जाएगी। इस समय आप अपने पेंडिंग कार्यों की लिस्ट को छोटा करते हुए दिखाई देंगे। नए कार्य की शुरुआत के लिए भी यह समय आपको कई नए अवसर प्रदान करेगा। इस समय धार्मिक प्रवृति से ओतप्रोत रहेंगे। रमणीय स्थलों की यात्रा आप संपन्न करेंगे। सामाजिक कार्यक्रमों में आपकी भागीदारी बढ़ेगी। 22 जनवरी के बाद का समय आपके लिए अच्छा रहने वाला है। हालाँकि इस समय शुक्र जनित रोगों के प्रति आपको सावधान रहने की आवश्यकता। है। पर इस समय आपको अपने शत्रुओं से मुक्ति मिल जाएगी। कार्य में आप दक्षता हासिल करेंगे और रमणिक स्थलों की यात्रायें आपकी संपन्न होती। हुई दिखाई देंगी। तो शुक्र के रिजल्ट बहुत ही अच्छे आपको देखने को मिलेंगे।

अब बढ़ते आगे और जान लेते हैं। तृतीय स्थान के बारे में, तृतीय स्थान के स्वामी हैं। मंगल जो कि आपके भाग्य स्थान में जाकर विराजमान हो रहे हैं। मंगल सप्तम दृष्टि से तृतीय स्थान को भी देख रहा है तो इस समय भूमि संबंधी सारे विवाद खत्म हो जाएंगे। प्रॉपर्टी से सम्बंधित कोई भी विवाद परिवार में उभर रहे हैं तो वो विवाद भी अब शांत होते दिखाई देंगे। आपसी बातचीत के द्वारा आप अपने विवादों का हल निकालने में सक्षम होते हुए दिखाई देंगे। सामाजिक मान सम्मान में बढोत्तरी होगी। टेक्निकल फील्ड से जुड़े हुए लोगों को इस समय प्रमोशन भी मिलेगा और प्रसिद्धि भी मिलेगी। इस समय आप जो भी काम हाथ में लेंगे उसे पूर्ण करके ही दम लेंगे। इस समय हॉबी से रिलेटेड कार्यों से आप विशेष योग्यता और दक्षता प्राप्त करेंगे और प्रसिद्धि में चार चाँद लगते हुए दिखाई देंगे। भाई बहनों के साथ में आपकी ट्यूनिंग बहुत ही अच्छी होती हुई दिखाई देगी। और राजनीति में आपकी पकड़ बढ़ेगी। तो मंगल के रिजल्ट आपको बहुत ही अच्छे तृतीय स्थान के हिसाब से मिलेगा।

मंगल जो की आपके अष्टमेश है। अष्टम भाव में राहु भी बैठा है और अपने से एक घर आगे बैठा है तो अष्टम भाव के हिसाब से भी यह समय आपको बेहतरीन परिणाम दिलवाएगा। इस समय छोटी छोटी जो शत्रु जिनको आप पहचान भी नहीं पा रहे वो शत्रुता आप शांत हो जाएंगे। इस समय आपकी योग्यता को सिद्ध कर आप शत्रुओं पर। भी। विजय प्राप्त करके अपनी एक धाक और पकड़ बनाएंगे। इस समय राहू आपके अष्टम भाव में बैठे हैं तो यात्रा अधिक संपन्न होगी। परन्तु ये यात्रायें आपके लिए सुखद और मंगलमय रहेगी। इस समय आपको अपने कार्य के विस्तार पर विचार करेंगे। अचानक धनलाभ के नए स्त्रोतों पर आप विचार करते हुए दिखाई। देंगे और ऐसे शुभ स्त्रोत आप खोज भी लेंगे। इस समय आपके यात्राओं में आपको सफलता प्राप्त होगी परंतु अपने सामान का विशेष रूप से ध्यान रखना पड़ेगा। वर्क प्लेस पर भी आप किसी पर डिपेंड नहीं रहेंगे। यानी अपने कार्यो को खुद खड़े रहकर पूर्ण करेंगे। पर इस समय ध्यान रखें। आपको अपनी गोपनीय बातों को अपने तक रखें और गोपनीय दस्तावेजों को सुरक्षित स्थान पर रख लें। हालांकि कर्ज की स्थितियों से आपको मुक्ति मिलेगी और अगर आप कोई लोन लेना चाहते हैं तो वो इच्छा भी आपकी पूर्ण हो जाएगी। तो मंगल के बहुत ही शानदार और बेहतरीन परिणाम आपको अष्टम भाव के हिसाब से भी देखने। को मिलेंगे।

अब बढ़तें हैं आगे और जान लेते हैं। सुख स्थान के बारे में, सुख स्थान के स्वामी हैं। गुरु, जो कि आपके सप्तम भाव के भी स्वामी हैं और गुरू सुखेश और सप्तमेश होकर सप्तम भाव में हंस नामक महापुरुष योग बना रहा है। गुरु के रिजल्ट इन दोनों स्थानों के हिसाब से बहुत ही अच्छे और शानदार देखने को मिलेंगे। सुखों में वृद्धि मां का साथ और सहयोग मिलेगा और आधे माह तक बुध और सूर्य साथ में बैठकर बुधादित्य योग बीच के स्थान में बनाएंगे। तो इस समय भूमि संबंधी कार्यों में आपको सफलता प्राप्त होगी। जो भी प्रॉपर्टी से संबंधित काम करते हैं तो उसमें आपको विशेष सफलता इस समय देखने को मिलेगी। बड़े बड़े प्रोजेक्ट आपके संपन्न होते हुए दिखाई देंगे। मां का साथ और सहयोग आपको भरपूर मिलेगा और उनके सहयोग से आपके काम बनते चले जाएंगे। इस समय आप जो भी कार्य अपने हाथ में लेंगे उसमें आप कुशाग्र बुद्धि की वजह से उन्हें पूर्ण कर ही लेंगे। वहीं मैनेजमेंट के फील्ड से जुड़े हुए लोगों को विशेष सफलता प्राप्त होगी। शिक्षण व्यवसाय में सफलता प्राप्त होगी। विद्यार्थी वर्ग अगर। अपने कार्यों में कॉन्सनट्रेशन से आगे बढ़ेंगे तो निश्चित रूप से उन्हें भी यह समय अच्छी सफलताएं दिलवाएगा।

वही गुरु चूंकि सप्तम भाव के स्वामी हैं तो दाम्पत्य जीवन में आ रही परेशानियों को दूर करेंगे। विवाह से संबंधित बाधाओं में आपको शुभ समाचारों की प्राप्ति होगी यानि वो बाधाएं खत्म हो जाएगी। वहीं दाम्पत्य जीवन अगर उलट पुलट से भरा होगा यानी उथल पुथल जीवन में चल रही है तो वो अब समाप्त हो जाएगी। संतान से संबंधित शुभ समाचारों की प्राप्ति होगी। इस समय अगर आप अपना खुद का व्यापार या कुछ ऐसी कंसल्टेंसी बिजनस खोलना चाहते हैं तो उसमें भी आपको निश्चित रूप से सफलता प्राप्त होगी। यानि उस कार्य में आप आगे बढ़ सकते हैं।

आप अपनी एक अलग पहचान और अपनी ब्रैंडिंग करते हुए दिखाई देंगे। व्यापार में कुछ नई योजनाओं का क्रियान्वयन आपके द्वारा संपन्न हो सकता है तो और जीवन साथी के नाम से यदि आप कोई भी काम करते हैं तो निश्चित रूप से उसमें विशेष लाभ की शक्तियां आपको जीवन में देखने को मिलेगी। वहीं लव रिलेशनशिप में हैं तो लव रिलेशनशिप में भी आपको बेहतरीन परिणाम।देखने को मिलेंगे। यदि आप अपनी लव वन को अपने मन की बात कह पाएंगे और। विवाह में आप अपने प्रेम को अगर बदलना चाहते हैं तो परिवार की स्वीकृति भी आपको प्राप्त। हो जाएगी।

अब बढ़ते हैं आगे और जान लेते हैं। आपके पंचम भाव के बारे में। पंचम भाव के स्वामी है शनि जो कि पंचम भाव में स्वग्रही होकर बैठे हैं। पंचम भाव के स्वामी का अपने ही घर में स्वग्रही होकर बैठना आपको शिक्षा में आ रही बाधाओं को दूर कर देगा। क्लैट के स्टूडेंट्स को शुभ समाचारों की प्राप्ति होगी। न्यायिक प्रक्रिया से जुड़े हुए कोई कॉम्पिटेटिव लेवल फाइट कर है तो उसमें भी आप अच्छी सफलता प्राप्त करते हुए दिखाई देंगे। वही यह समय आपके निरंतर प्रयासों से उन्नति आपको दिलवाएगा। इस समय मेहनत करनी पड़ेगी परंतु मेहनत का फल आप जरूर प्राप्त करेंगे। संतान से संबंधित शुभ समाचार मिलेंगे। संतान की टेंशन आपको खत्म हो जाएगी। उसके कैरियर को लेकर आप निश्चिंत होते हुए दिखाई देंगे। वहीं जो खिलाड़ी हैं उनके लिए भी यह समय पदक और मैडल लेने का है। इस समय आप अपनी योग्यता को प्रमाणित कर पाएंगे।

अब शनि चूंकि आपके रोग भाव के स्वामी है तो रोगों में भी आपको निश्चित रूप से लाभ प्राप्त होगा। हालांकि यह माह महिलाओं के लिए थोड़ा सा कष्टकारी हो सकता है। पीरियड से संबंधित प्रॉब्लम का सामना आपको करना पड़ सकता है। परंतु इस समय अपने स्वास्थ का विशेष रूप से ध्यान। रखेंगे। तो जल्द ही इन समस्याओं से भी आप मुक्ति प्राप्त करते हुए। दिखाई देंगे। इस समय जो भी काम आप हाथ में लेंगे तो उस कार्य में आप निश्चित रूप से दक्षता हासिल कर ही लेंगे। शत्रुओं में शत्रुओं पर विजय प्राप्त करेंगे परंतु गलत मित्रों की संगति से आपको बचना होगा। गलत मित्र आपको पथ भ्रष्ट करने का प्रयास। कर सकते हैं। ऐसे मित्रों से थोड़ा सा सावधान रहें।

अब बढ़ते हैं आगे और जान लेते हैं। लाभ भाव के बारे में। तो लाभेश हैं चन्द्रमा, जो कि आपके लाभ की स्थिति को कभी कभी फ्लक्चुएट करते हुए दिखाई देता है परन्तु अंततः लाभ आपके जीवन में बना रहेगा। आप अपनी योग्यता को प्रमाणित कर पाएंगे और बुद्धिमता के दम पर आप अपने लाभ की स्थिति को स्थिरता से बनाए रखेंगे। इस समय आकस्मिक धन लाभ भी आपको प्राप्त होगा परन्तु जल्दबाजी में डिसिजन लेने से बचे। सामाजिक कार्यक्रमों में आपकी भागीदारी बढ़ेगी और समाज सेवा जैसे कार्यों में आपका मन अधिक लगेगा।

अब बढ़ते हैं, आगे और जान लेते हैं। आपके खर्चे भाव के बारे में। यानि जिसके स्वामी हैं सूर्य, जो कि आपके सुख स्थान में बैठें हैं। अपने से पंचम जाकर बैठे हैं। तो 14 जनवरी तक का समय आपके खर्चो को नियंत्रित करेगा। इस समय आपको गलत डिसीजन से बचना है। सहकर्मियों के साथ इस समय आपका तालमेल अच्छा रहेगा। आपके वर्क प्लेस पर आपके लिए सहयोगात्मक रवैया आपके अधिकारियों का भी रहेगा। विदेशों से अच्छा लाभ आप प्राप्त करेंगे। मेडिकल के फील्ड से जुड़े हुए लोगों को प्रसिद्धि विदेशों से प्राप्त होगी और विदेशों से कुछ बड़े न्योते भी आपको मिल सकते हैं। 14 जनवरी के बाद सूर्य जब आपके सप्तम भाव में चले जायेंगे यानि बाहरवें भाव का स्वामी अपने से षस्टम जाकर बैठेगा। सूर्य पंचम भाव में चले जायेंगे तब इस समय आपको थोड़ा सा संभलकर रहना है। कोई भी कार्य कोई भी निर्णय जल्दबाजी में न लें। विदेशी कंपनियों के साथ मैं टाईअप करने जा रहे। हैं तो थोड़ा सा संभलकर रहें। हैंडिक्राफ्ट के व्यापारियों को थोड़ा सा संभलकर रहने की आवश्यकता है और जो बाहर व्यवसाय करते हैं उनके लिए भी ये समय थोड़ा सा सावधानी के साथ आगे बढाने का है तो सावधानी के साथ आगे बढ़ेंगे तो समस्याएं कम रहेगी। तो ये था कन्या राशि वालो का जनवरी माह का मासिक राशिफल।

शुभ तिथियां – 3 से 9 तारीख, 13 से 19 तारीख 22, 23, 26, 27, 31।

अशुभ तिथियां – 1, 2, 10, 12 और 20, 21, 25, 28 और 29।

शुभ रंग – सुनहरा कलर, गोल्डन कलर।

उपाय

  • लाल चीजो का दान करना चाहिए।
  • प्रतिदिन बुध देव के बीज मंत्र का जाप जरूर करें।
  • बुधवार को शाम के समय किसी मंदिर में काले तिल का दान आपके लिए लाभदायक साबित होगा।
  • श्री राम रक्षा स्त्रोत का पाठ आपको इस माह जरुर करना चाहिए |
  • गाय को हरा चारा जरुर खिलाएं।

Back to list